सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 अप्रैल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 20 अप्रैल 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 अप्रैल

कलेक्टर ने की सभी नागरिको से घरों में रहने की अपील


sehore news

कोरोना संक्रमण को देखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी जिलेवासियों से घरों में रहने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए आवश्यक है कि सभी अपने-अपने घरों में रहें, अतिआवश्यक कार्य होने पर ही घरों से बाहर निकलें। साथ ही मास्क लगाना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना आवश्यक होगा। उन्होंने कोरोना कर्फ्यू में दिए जा रहे सहयोग के लिए सभी नागरिकों का आभार व्यक्त किया।


कोरोना कर्फ्यू की अवधि बढ़ाई गई, अब 30 अप्रैल की सुबह 6 बजे तक लागू रहेगा कोरोना कर्फ्यू


कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए जिला दंडाधिकारी एवं कलेक्टर श्री अजय गुप्ता द्वारा दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अंतर्गत समस्त सीहोर जिले में कोरोना कर्फ्यू की अवधि बढ़ाई गई है। समस्त जिले में 30 अप्रैल 2021 को सुबह 10  बजे तक किया गया है। जो कि पूर्व में 15 अप्रैल 2021 निर्धारित थी। कोरोना कर्फ्यू के दौरान अत्यावश्यक सेवा में छूट एवं प्रतिबंध पूर्व में जारी आदेश के अनुसार ही प्रभावशील रहेंगे।  


स्व-सहायता समूह की महिलाएं बनेंगी आत्मनिर्भर

  • स्व-सहायता समूह को कोरोना काल में  मिला है एक करोड़ 20 लाख रूपये का काम, छात्र-छात्राओं के गणवेश तैयार कर रही महिलाएं

sehore news
आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने की पहल में स्व-सहायता समूह की महिलाएं महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। मध्यप्रदेश ग्रामीण डे-आजीविका परियोजना के तहत गठित स्व-सहायता समूह की महिलाओं को रोजगार से जोड़कर आर्थिक रूप से स्वावलंबी बनाया जा रहा है। स्व-सहायता समह की महिलाओं को कौशल उन्नयन प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। जिला प्रशासन स्थानीय स्तर पर स्व-सहायता समूहों को अधिक से अधिक रोजगार के अवसर उपलब्ध करा रहा है। सीहोर जनपद के संकुल स्तरीय स्व-सहायता समूह रानी दुर्गावती संघ को 150 महिलाओं को सीहोर के सरकारी स्कूलों के 53400 छात्र-छात्राओं के गणवेश बनाने का 1 करोड़ 20 लाख रूपये का काम दिया गया है। समूह की प्रत्येक महिला सदस्य को 8000-10000 हजार रुपये महीना मिलेगा। गणवेश की सिलाई गुणवत्ता के साथ समय-सीमा में पूरी की जा सके, इसके लिए इन महिलाओं को पूर्व में सिलाई का प्रशिक्षण दिया गया है।   समूह की अध्यक्ष धापू बाई मालवीय, सदस्य राधा बाई, गोकुल बाई, रितु तथा सुनीता कहती हैं कि इस कोरोना काल में कोराना कर्फ़यू के दौरान आर्थिक गतिविधियां सीमित रूप में चल रही हैं ऐसे में समूह को एक करोड़ 20 लाख रूपये का काम मिलना बहुत महत्वपूर्ण है। इस काम से समूह की महिलाओं को न केवल घर परिवार चलाने में मदद मिलेगी, बल्कि आर्थिक रूप से आत्म निर्भर भी होंगे। इन महिलाओं ने बताया कि गुणवत्ता पर हमारा विशेष ध्यान है। गणवेश के लिए अच्छी गुणवत्ता के कपड़े तथा सामग्री का उपयोग कर रहे हैं।


कोरोना के प्रभावी नियंत्रण के लिये कलेक्टर ने दिए निर्देश, 30 अप्रैल 2021 प्रातः 6 बजे तक लागू रहेगा कोरोना कर्फ्यू, सावधानी ही कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा उपाय है - कलेक्टर


कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने जिले के सभी नागरिकों द्वारा कोरोना कर्फ्यू के दौरान दिए जा रहे सहयोग के लिए आभार व्यक्त किया है। श्री गुप्ता ने 30 अप्रैल तक इसी प्रकार कोरोना कर्फ्यू के दौरान सहयोग करने की सभी नागरिकों से अपील की है। उन्होंने कहा कि कोरोना की चेन तोड़ने के लिए सभी लोग घर पर ही रहें। अत्यावश्यक काम होने पर ही घर से बाहर निकलें और मास्क लगायें तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। उन्होंने अपील की है कि सर्दी, खांसी, बुखार आने पर तुरंत प्राथमिक सामुदायिक या जिला चिकित्सालय के डॉक्टर को दिखाएं। उन्होंने कहा कि सावधानी ही कोरोना से बचाव का सबसे बड़ा उपाय है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने तेजी से फैल रहे कोरोना संक्रमण को घ्यान में रखते हुए वर्तमान में लागू कोरोना कर्फ्यू को 30 अप्रैल 2021 सुबह 6 बजे तक के लिए बढ़ा दिया है। उन्होंने बताया कोरोना कर्फ्यू के दौरान उन सभी अत्यावश्यक सेवाओं को छूट रहेगी जो पूर्व में जारी आदेश में उल्लेखित है। उन्होंने जिले में कोरोना के प्रभावी नियंत्रण के लिये लोगों का टीकाकरण कराने और संक्रमित व्यक्तियों के त्वरित इलाज के संबंध में अधिकारियों को निर्देश दिए हैं।


पॉजिटिव बाहर घूमते पाए जाने पर होगी कार्यवाही

कोविड-19 के तहत पॉजिटिव पाए जाने पर होम आइसोलेट किए गए व्यक्ति पूरी तरह क्वारंटाइन रहें। यह सुनिश्चित करने के निर्देश कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी एसडीएम, तहसीलदार, सीएचएओ, बीएमओ सहित संबधित अमले को दिए हैं। उन्होंने कहा कि संक्रमित व्यक्ति और उनके परिजन कंटेनमेंट से बाहर न आएं। उन्होंने यदि होम आइसोलेट व्यक्ति द्वारा तय नियमों का उल्लंघन किया जाना पाया जाता है तो रोगी एवं उसके वयस्क देखभालकर्ता अथवा परिजनों के विरुद्ध मध्य प्रदेश पब्लिक हेल्थ एक्ट 1949, महामारी रोग अधिनियम 1984 एवं राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा 51 के तहत पेनल्टी एवं वैधानिक कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।


होम आयसोलेशन व्यवस्था को सुदृढ़ बनाया जायेगा

कलेक्टर श्री गुप्ता ने होम आयसोलेशन व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने के निर्देश दिए हैं ताकि मरीजों को अस्पताल जाने की जरूरत ही न पड़े। उन्होंने होम आयसोलेशन में दवाओं की किट, टेलीमेडिसिन के साथ ही निरंतर निगरानी करने को कहा है। श्री गुप्ता ने आयसोलेशन में रह रहे मरीजों को शहरी क्षेत्र में नगरीय निकाय एवं ग्रामीण क्षेत्र में पंचायतों के माध्यम से नि:शुल्क दवाओं की किट वितरण के निर्देश दिए।


कुंभ से वापस लौटने वाले श्रद्धालुओं की जानकारी

कलेक्टर श्री गुप्ता ने कोरोना संक्रमण से रोकथाम एवं बचाव के लिए कुंभ के मेले से लौटने वाले श्रद्धालुओं की जानकारी प्राप्त करने के निर्देश दिए गए हैं। इसके लिए एक डेडिकेटिड नंबर उपलब्ध कराने एवं श्रद्धालुओं को आईसोलेटेड कराने के निर्देशित किया गया है। इसके लिये  नोडल अधिकारी श्री देवेन्द्र सक्सेना-8770724139, श्री राहुल वर्मा- 7766991105 एवं श्री राजेन्द्र मेवाड़ा-7987456101 डयूटी लगायी गयी है। ये अधिकारी रजिस्टर में संबंधित श्रद्धालुओं की पूरी जानकारी रखेंगे।  


ऑक्सीजन उपयोगकर्ता प्रतिष्ठानों से सहयोग की अपील

कोरोना संक्रमण से बचाव को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने ऑक्सीजन का उपयोग करने वाले प्रतिष्ठानों से आह्वान किया है कि उनके पास खाली या भरे सिलेंडर हो तो वे जिला चिकित्सालय को दें। ताकि कोविड-19 के इलाज में उनका उपयोग किया जा सके। श्री गुप्ता ने अपील करते हुए कहा की कोविड-19 के मरीजों के इलाज के लिए  व्यापारिक संस्थाओं द्वारा दिया जाने वाला सहयोग कोविड-19 के इलाज में मददगार सिद्ध होगा।


दिव्यांग-जनों को कोरोना से बचाने आयुक्त निशक्तजन ने लिखा कलेक्टरों को पत्र


नि:शक्तजन कल्याण आयुक्त श्री संदीप रजक ने प्रदेश के जिला कलेक्टरों को दिव्यांगजनों के स्वास्थ्य सुरक्षा और संरक्षण के लिए केंद्र सरकार द्वारा मार्च 2020 में जारी दिशा-निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने के लिये पत्र लिखा है। श्री रजक ने कहा कि  लॉकडाउन के दौरान दिव्यांगजनों को आवश्यक भोजन, पानी, दवा एवं चिकित्सा सुविधा निरंतर मिलती रहे। श्री रजक ने कहा गैर सरकारी संगठन और दिव्यांगजनों से संबंधित अन्य संस्थाएँ भी दिव्यांगजनों को दैनिक जीवन को आसानी से जीने और अत्यावश्यक वस्तुएँ मुहैया कराने में सहयोग करें। दिव्यांगजनों को सहयोगी सेवाओं का प्रबंधन सुचारू रूप से सुनिश्चित करने के लिए गैर सरकारी संगठनों, दिव्यांगजन, संघों, देखभालकर्ताओं, संगठनों के साथ समन्वय करें। कोविड-19 के कारण दिव्यांगों से जुड़े संगठनों एवं देखभालकर्ताओं के लिए आवश्यकतानुसार आने-जाने की सुविधा के लिए उचित कार्यवाही करने का अनुरोध किया, जिससे दिव्यांगजनों को आवश्यक सहायता प्राप्त करने में देरी न हो। साथ ही इस कार्य से जुड़े संबंधित समस्त अधिकारियों को भी इस संबंध में निदेर्शित करें।   आयुक्त श्री रजक ने कहा कि कोविड-19 दिव्यांगजन रोगियों को अस्पतालों और स्वास्थ्य देखभालकर्ताओं को संस्थानों में आवश्यक समुचित सुविधाएँ प्राप्त हो। कोविड-19 पूरी तरह जन-जीवन को प्रभावित कर रहा है। लेकिन शारीरिक संवेदी और ज्ञान संबंधी सीमाओं के कारण दिव्यांगजनों का इस बीमारी की चपेट में आने की संभावना अधिक होती है। अतः शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुरूप जिले में आवश्यक कार्यवाही की जाये तथा दिव्यांगजनों की स्थिति से आयुक्त नि:शक्तजन कार्यालय को समय-समय पर अवगत करायें।  


जागो ग्राहक जागो - दवाएँ खरीदते समय उपभोक्ता करें अपने अधिकारों का उपयोग- प्रमुख सचिव श्री किदवई 


मूल्य के बदले में वस्तु या सेवा प्राप्त करने वाला व्यक्ति उपभोक्ता है। सेवा के अंतर्गत बैंक, बीमा, परिवहन, विदयुत, मनोरंजन, रेल, डाक, दूरभाष आदि की तरह दवाएँ भी शामिल हैं, जो जीवन रक्षक के रूप में उपभोक्ता क्रय करता है। उपभोक्ता उसके मूल्य का भुगतान तो करता है परंतु आवश्यकता पड़ने पर अपने अधिकारों का उपयोग नहीं करता है। प्रमुख सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति श्री फैज़ अहमद किदवई ने कहा कि कोई भी व्यापारी अथवा निर्माता उपभोक्ता के जीवन के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकता। उपभोक्ता को उसके द्वारा भुगतान की गई राशि के बदले वस्तु अथवा गुणवत्तापूर्ण सेवा प्राप्त करने का पूर्ण अधिकार है। दवाएँ खरीदते समय दें जागरूकता का परिचय - प्रमुख सचिव श्री किदवई ने बताया कि उपभोक्ता दवाएँ खरीदते समय पर्चे के साथ दवा के नाम का मिलान कर लें। जब-तक कोई दवाई इस्तेमाल नहीं हो जाती, तब-तक उसके बिल अथवा रसीद को संभाल कर रखें। दवाई के रेपर पर अंकित दवा की उपयोगिता समाप्ति की तिथि को देखकर ही दवा खरीदें। यदि एक्सपायरी डेट निकल गई हो तो न दवा खरीदें और न ही उसका उपयोग करें। ये जिंदगी के लिए नुकसानदायी हो सकती है। श्री किदवई ने बताया कि उपभोक्ता सिर्फ डॉक्टर द्वारा बताई गई दवाएँ ही क्रय करें। केमिस्ट की सलाह पर दवाइयों का इस्तेमाल न करें। जागरूक उपभोक्ता के रूप में दवाई के पैकेट पर खरीदी गई दवाओं पर अधिकतम खुदरा मूल्य के साथ ही उत्पादक का लाइसेंस नंबर को भी देखना चाहिए। जैनेरिक दवाइयाँ भी है प्रभावशाली- प्रमुख सचिव खाद्य ने बताया कि उपभोक्ता जैनेरिक दवाएँ भी डॉक्टर की सलाह लेकर खरीद सकते हैं। ये दवाइयाँ गुणवत्ता में अन्य दवाईयों के समान होती हैं और इनकी कीमत अन्य दवाओं की तुलना में काफी कम होती है। जैनेरिक दवाएँ किसी ब्राण्ड विशेष का इस्तेमाल नहीं करती इसलिए इनकी कीमतें कम होती हैं। उन्होंने बताया कि नकली व मिलावटी दवाइयों के बारे में उपभोक्ता अपनी शिकायत अपने जिले के औषधि निरीक्षक या राज्य के औषधि नियंत्रक से कर सकते हैं।


निर्धन उपभोक्ताओं को तीन माह का राशन मुफ्त दिया जाएगा

  • संक्रमण की चेन तोड़ना प्रत्येक जिले का टास्क हो, संस्थाएँ सहयोग के लिए रहें सक्रिय, मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा जिलों के कलेक्टर्स से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग द्वारा संवाद

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि शहरों और कस्बों के साथ ही प्रदेश के ग्रामों में भी संक्रमण बढ़ने से रोकना है। ग्रामों में जो सुरक्षित हैं, वे सुरक्षित रहें और बाहर न निकलें। जहाँ अधिक संक्रमित रोगी हैं वहाँ कन्टेनमेंट जोन बनाकर संक्रमण नियंत्रण सुनिश्चित करें। हर स्थिति में संक्रमण की चेन तोड़ना है। रहवासी संघ और स्वैच्छिक संगठन सहयोग करें ताकि जो व्यवस्थाएँ छोटी पड़ रही हैं, उन्हें पर्याप्त बनाया जा सके। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वीडियो कॉन्फ्रेंस द्वारा कलेक्टर्स से संवाद किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने खंडवा, बुरहानपुर प्रशासन के संक्रमण नियंत्रण के प्रयासों को सराहनीय बताया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी पात्र निर्धन उपभोक्ताओं को उचित मूल्य की दुकानों से एक साथ तीन माह का राशन निःशुल्क मिलेगा। साँस की डोर न टूटे- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में संक्रमित रोगियों के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन की व्यवस्था के लिए युद्ध स्तर पर प्रयास किए गए हैं। रेमडेसिविर इंजेक्शन भी लगातार आ रहे हैं। इनका न्यायपूर्ण वितरण सुनिश्चित किया जाए ताकि किसी रोगी की साँस की डोर न टूटे। हर व्यक्ति शंका होने पर टेस्ट अवश्य कराएँ- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आइसोलेशन से जुड़ी पूरी व्यवस्थाएँ जिलों में सुनिश्चित करें। जिन व्यक्तियों को सर्दी-खाँसी, बुखार है, वे तत्काल जाँच करवाएँ, जाँच की रिपोर्ट आने तक स्वयं को आइसोलेशन में रखें। सेंपल देने के बाद बहुत से लोग घूमते रहते हैं। इस पर भी नियंत्रण करना है। इससे परिवार को संक्रमित होने से बचाया जा सकेगा। यदि घर छोटा है तो कोविड केयर सेंटर जाकर व्यवस्था का लाभ लेना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कलेक्टर्स से कहा कि जिन जिलों में ऑक्सीजन प्लांट स्वीकृत किए गए हैं, वे प्लांट स्थापना का कार्य प्रारंभ करें। कुछ जिलों में ऑक्सीजन सिलेंडर लेने की पहल सराहनीय है। कलेक्टर द्वारा स्थानीय प्रबंध भी सुनिश्चित हों। भारत और मध्यप्रदेश हमारी माँ है- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आगामी 30 अप्रैल तक घर से न निकलें, संक्रमण की चैन तोड़ें। भारत और मध्यप्रदेश हम सबकी माँ है, इसके दूध की लाज रखना है। समाज, इस संकट में साथ खड़ा हो। मुख्यमंत्री ने कलेक्टर्स से कहा कि आइसोलेशन केन्द्रों के लिए निजी और सरकारी भवन का उपयोग करें। कलेक्टर अपने स्तर पर नवाचार भी करें। हम सम्मिलित प्रयासों से जंग जीत जायेंगे। कारावास जाएंगे कालाबाजारी करने वाले- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि औषधियों की कालाबाजारी करने वाले को राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद (एनएसए) में कारावास भेजें। इस समय सबसे बड़ी आवश्यकता लोगों का जीवन बचाना है। जीवनरक्षक इंजेक्शन को अधिक कीमत पर बेचने वालों को बख्शा नहीं जाएगा। वित्तीय समस्या नहीं होगी- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा किए जाने वाले स्थानीय प्रबंध में वित्तीय समस्या नहीं आने दी जाएगी। राज्य शासन स्तर से धन राशि की कमी नहीं होगी। यह प्रत्येक जिले का टास्क होना चाहिए कि कम से कम रोगी अस्पताल पहुँचे। होम आइसोलेशन व्यवस्था का अधिकतम प्रयास हो। इन्दौर में की गई पहल प्रशंसनीय है। सांसद, विधायक भी पूरा सहयोग कर रहे हैं। सामाजिक संगठन सरकार के प्रयासों को मजबूत करें। निश्चित ही इस महामारी को हम सभी मिलकर हरा देंगे।


घर-घर जाकर हितग्राहियों दिया जा रहा है रेडी टू ईट एवं पूरक आहार


sehore news
कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर आंगनवाड़ी से संबद्ध हितग्राहियों 3 वर्ष से 6 वर्ष के बच्चे एवं गर्भवती एवं धात्री माताओं को आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा पूरक पोषण आहार प्रदाय किया जा रहा है। इसके साथ ही 3 वर्ष से 6 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों को मिलने वाले नाश्ता एवं गर्म पका भोजन के स्थान पर सहायता समूहों के माध्यम से पूर्व आदेशानुसार रेडी टू ईट पूरक आहार 6 दिवस के लिए एक बार में प्रदाय किया जा रहा है। 6 माह से 3 वर्ष के आयु वर्ग के बच्चों एवं गर्भवती धात्री माताओं को टेक होम राशन प्रदान किया जा रहा है। टेक होम राशन उपलब्ध न होने पर स्थानीय समूह के माध्यम से रेडी टू ईट 6 दिवस के लिए एक बार में प्रदाय किया करने के निर्देश दिये। उल्लेखनीय है कि 6 माह से 6 वर्ष तक के बच्चों को 12-15 ग्राम प्रोटीन 500 कैलोरी गंभीर कुपोषित बच्चों को 20-25 ग्राम प्रोटीन गर्भवती एवं धात्री माताओं 18-20 ग्राम प्रोटीन एवं 600 कैलोरी युक्त पोषण आहार प्रदान किया जाने के निर्देश दिए गए थे।


 राशन वितरण में कोविड गाइड लाइन का पालन


sehore news
कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने कोरोना संक्रमण को ध्यान में रखते हुए शासकीय उचित मूल्य की राशन दुकानों में कोविड गाइड लाइन का पालन करने के निर्देश दिए हैं। जारी निर्देशों के तहत दुकान संचालकों को कोविड गाइड लाईन की शर्तों का पालन किया जा रहा है। इसके लिए राशन दुकान के सामने बांस-बल्ली और चूना से गोल घेरा बनाकर राशन वितरण का किया जा रहा है। साथ ही राशन दुकान के संचालक सहित हितग्राहियों को मास्क का उपयोग और सोशल डिस्टेंसिंग का भी ध्यान रखना होगा। दुकान संचालक को मास्क एवं सैनिटाइजर का उपयोग करना आवश्यक होगा।   


बाल कल्याण समिति ने पालन-पोषण के लिए 6 बच्चों की अनुशंसा की


sehore news
नवनियुक्त बाल कल्याण समिति सीहोर द्वारा किशोर न्याय बालकों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम 2015 अंतर्गत देखरेख एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले बालक/बालिकाओं के प्रकरणों के संबंध में कार्यवाही की गई। पालन पोषण (फॉस्टर केयर) में नए 06 बच्चों की अनुशंसा की गई एवं बाल प्रायोजन (स्पॉन्सरशिप) में नए 02 बच्चों की अनुशंसा की गई है।  बाल कल्याण समिति अध्यक्ष श्री प्रदीप सिंह चौहान एवं समिति के सभी सदस्यों ने इन बच्चों को योजनांतर्गत लाभान्वित किये जाने की सहमति प्रदान की। श्री प्रदीप सिंह चौहान द्वारा देखरेख एवं संरक्षण की आवश्यकता वाले बच्चों के संबंध में योजना के नियमों के तहत पात्र बच्चों को लक्ष्य अनुरूप स्वीकृत किये जाने के लिए चाइल्ड लाईन 1098, विशेष किशोर पुलिस इकाई एवं बच्चों के मामलों में कार्य करने वाली अशासकीय संस्थाओं से ऐसे बच्चों के मामलों में कार्यवाही करते हुऐ सीधे बाल कल्याण समिति से संपर्क करने के लिए निर्देशित किया गया। इन प्रकरणों को बाल संरक्षण अधिकारी श्री अनिल पोलाया, श्री रविन्द्र रघुवंशी, महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा सभी जॉच रिपोर्ट पूर्ण कर समिति को प्रस्तुत किया गया था।


जिले में 190 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजीटिव की संख्या 826, 3 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु, मृतकों की कुल संख्या 62


पिछले 24 घंटे के दौरान 190 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले। इनमें सीहोर शहरी क्षेत्र के 130 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। जो मंडी, श्रीराम कॉलोनी, गंज, बडियाखेड़ी, मेनरोड सीहोर, पारस विहार, गुलाब विहार, इंदौर नाका, नेहरु कॉलोनी, आरटीओ कॉलोनी, हाउसिंग बोर्ड, एएनएम प्रशिक्षण केन्द्र, गल्ला मंडी, चाण्क्यपुरी, सुभाष नगर, गंगा आश्रम, इंग्लिशपुरा, खजांची लाईन, न्यू बस स्टेण्ड, इंद्रा कॉलोनी, शिवाजी कॉलोनी, गुलजारी का बगीचा, सब्जी मंडी, राधा विहार कॉलोनी, भोपाल नाका, राठौर मोहल्ला, अवधपुरी, कंचन विहार, ए-1 सिटी, ब्रहमपुरी, स्टेशन रोड़, कनकपुरी, तहसील चौराहा, स्वदेश नगर, श्रवण का बगीचा, जनता कॉलोनी, नदी चौराहा, चरखा लाईन, कोतवाली चौराहा, शारदा स्कूल, पुलिस लाईन, कृष्ण विहार कॉलोनी, सिंधी कॉलोनी, मछलीपुल, वैशाली नगर, सत्यसाईं विश्व विद्यालय के समीप के निवासी हैं। इसी तरह आष्टा क्षेत्र से 41 व्यक्तियों की रिपोर्ट पॉजीटिव प्राप्त हुई है जो बजरंग कॉलोनी, कोठरी, सिद्धिकगंज, कठियानाला, गोविंदपुरा सिद्धिकगंज, बेदाखेड़ी, आष्टा स्थानीय, भोपाल नाका, सियाखेड़ी, सिराड़ी, सेमनरी रोड़, मैना, बड़ा बाजार आष्टा, अलीपुर, मुकाती कॉलोनी के निवासी हैं। बुदनी क्षेत्र अन्तर्गत 7 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं। जो बुदनी के वार्ड नंबर 08, 01, पीलीकरार, देवगांव, ट्रायडेंट कॉलोनी, मधुबन कॉलोनी, हथनौरिया के निवासी हैं। इसी प्रकार नसरुल्लागंज क्षेत्र से 3 व्यक्ति पॉजीटिव मिले हैं जो नसरुल्लागंज एसबीआई क्षेत्र, बजरंग कुटी के निवासी हैं। श्यामपुर क्षेत्र से 9 व्यक्ति संक्रमित मिले हैं जो निपानिया, बरखेड़ी, सेमलीखुर्द, मोगराफूल, टीलाखेड़ी, बिजोरी, जहांगीरपुरा, सिकंदरगंज, दोराहा के निवासी हैं। जिला चिकित्सालय स्थित डेडिकेटेट कोविड हेल्थ सेंटर (डीसीएचसी) में पिछले 24 घंटे के दौरान 3 कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की मृत्यु हो गई। मृतकों में तीनों महिलाएं शामिल है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान में जिले में एक्टिव पॉजिटिव 826 हैं। आज 43 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 3759 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 62 है । आज 745 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 203, श्यामपुर से 56, विकासखंड नसरुल्लागंज से 79, आष्टा से 184 एवं बुदनी विकासखंड से 144 तथा इछावर से 79 सेंपल लिये गए हैं। जिले में कुल कोरोना पॉजीटिव व्यक्तियों की संख्या 4647 है जिसमें से 62 की मृत्यु हो चुकी है 3759 स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हो गए है। तथा वर्तमान में एक्टिव/पॉजीटिव की संख्या 826 है। आज 745 सैंपल जांच हेतु लिए गए। कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 94675 हैं जिनमें से 88829 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 993 सेंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1128 सेंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथालॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या  कुल 71 है। जिले मे जो व्यक्ति होम क्वारन्टाईन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर मोबाइल नंबंर 9425400273, 7987652577, 9479595519 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारन्टाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाईन नंबंर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारन्टाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकॉलाजीकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।     


रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने आयुष विभाग द्वारा आयुर्वेद औषधि का वितरण    


कोरोना संक्रमण से बचाव तथा प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए कलेक्टर श्री अजय गुप्ता के निर्देश पर आयुष विभाग द्वारा जिले में आयुष संस्थाओं द्वारा त्रिकटु चूर्ण, संशमनी वटी, होम्योपैथी एवं यूनानी औषधियों का वितरण किया जा रहा है। आयुष विभाग द्वारा जिले भर में कुल 2568 लोगों को त्रिकटु चूर्ण 1108, संशमनी वटी के 234, होम्योपैथी के 1073 एवं यूनानी औषधि के 153 पैकेट वितरित किए गए।  आयुष विभाग द्वारा सीहोर विकासखंड अन्तर्गत 1294 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 1018, संशमनी वटी के 152, होम्योपैथी औषधि के 90 पैकेट एवं यूनानी औषधि के 34 पैकेट वितरित किए गए। इसी प्रकार आष्टा अन्तर्गत 350 व्यक्तियों को संशमनी वटी के 82, होम्योपैथी औषधि के 239 एवं यूनानी औषधि के 29 पैकेट वितरित किए गए। बुदनी अन्तर्गत 465 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 25, होम्योपैथी औषधि के के 440 पैकेट वितरित किए गए। इछावर अन्तर्गत 361 व्यक्तियों को त्रिकटु चूर्ण के 65, होम्योपैथी औषधि के 245 एवं यूनानी औषधि के 51 पैकेट वितरित किए गए। नसरुल्लागंज अन्तर्गत 98 व्यक्तियों को होम्योपैथी के 59 एवं यूनानी औषधि के 39 पैकेट वितरित किए गए।   जिला आयुष अधिकारी डॉ नरेन्द्र सिंह लोधी ने जानकारी दी कि आयुष विभाग मध्यप्रदेश के आदेशानुसार विगत वर्ष विभाग द्वारा औषधियों का वितरण घर-घर जाकर किया गया था। वर्तमान में भी इन औषधियों का वितरण संस्था स्तर से कोविड-19 के प्रोटोकॉल का पालन करते हुए किया जा रहा है।


151 व्यक्तियों को लगा कोरोना का टीका


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। मंगलवार को शहरी सीहोर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र सहित जिला चिकित्सालय क़े एक सत्र में कुल 151 व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।


संभागयुक्त ने नसरुल्लागंज, बुधनी तथा रेहटी में ली समीक्षा बैठक, कोविड मरीजों के समुचित उपचार और व्यवस्थाओं के दिए निर्देश


sehore news
संभागायुक्त श्री कविन्द्र कियावत द्वारा जिले के नसरुल्लागंज, बुदनी तथा रेहटी में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए किए जा रहे कार्यों की बैठक आयोजित कर समीक्षा की। बैठक में उन्होंने कोरोना संक्रमण को रोकने तथा मरीजों के बेहतर इलाज उपचार के निर्देश अधिकारियों को दिए। संभाग आयुक्त श्री कियावत ने नसरुल्लागंज में कोरोना संक्रमण की समीक्षा करते हुए कांटेक्ट ट्रेसिंग, बाहर से आए हुए लोगों की जानकारी, वैक्सीनेशन की गति बढ़ाने के साथ ही उपार्जन के संबंध में चर्चा की। संभाग आयुक्त श्री कियावत ने रेहटी में समीक्षा बैठक के साथ ही अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने कोरोना संक्रमण की जांच संख्या बढ़ाने एवं उपचार के लिए की गई व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के निर्देश दिए। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने जिले में कोविड संक्रमण को रोकने तथा बचाव के लिए किए जा रहे कार्यों के बारे में विस्तार से जानकारी दी। श्री गुप्ता ने बैठक में बताया कि सभी अनुभागों में आवश्यक सुविधाओं के साथ कोविड सेंटर बनाए गए हैं। इन कोविड सेंटरों में कोविड पॉजिटिव मरीजों को भर्ती किया जा रहा है और उन्हें समुचित उपचार दिया जा रहा है। श्री गुप्ता ने बैठक में जानकारी दी कि कोरोना कर्फ्यू का पालन कराने के लिए नगर से लेकर गांव तक शासकीय अमला निरंतर कार्य कर रहा है। इसके तहत चालानी कार्रवाई भी की जा रही है व मास्क वितरित किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि 21 अप्रैल से कोरोना कर्फ्यू आगे बढ़ाया गया है, इसे  प्रभावी ढंग से लागू किया जाएगा। लोगों को कोविड की गाइडलाइन का पालन करने के लिए कहा जा रहा है। श्री गुप्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा कोविड के लिए जारी दिशा निर्देशों का समुचित पालन कराया जा रहा है। अधिकारियों द्वारा कोविड केयर सेंटरो का नियमित निरीक्षण किया जा रहा है और बेहतर इंतजाम मुहैया कराने के सभी प्रयास किए जा रहे हैं। बैठक बैठक में स्थानीय जनप्रतिनिधियों द्वारा कोरोनावायरस यूको प्रभावी बनाने के लिए अनेक सुझाव भी दिए। बैठक में बुधनी एसडीएम श्री शैलेन्द्र हिनोतिया, नसरुलगंज एसडीएम श्री डीएस तोमर,  तहसीलदार, बीएमओ एवं जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।  


32500 किसानों से 2 लाख 48 हजार 200 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी


जिले में आज 32500 किसानों से 2 लाख 48 हजार 200 मीट्रिक टन गेहूं की खरीदी जिले के उपार्जन केन्द्रो द्वारा की गई। अधिकारियो द्वारा उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण किया जा रहा है। कलेक्टर श्री अजय गुप्ता ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिये कि वे उपार्जन केन्द्रों का सतत निरीक्षण करें और यह देखें की किसानों को फसल बेचने में किसी प्रकार की कोई भ्री असुविधा न हो।

कोई टिप्पणी नहीं: