बाजार में तेजी, सेंसेक्स 49 हजार के करीब - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 27 अप्रैल 2021

बाजार में तेजी, सेंसेक्स 49 हजार के करीब

sensex-reach-49-thousand
मुंबई 27 अप्रैल, घरेलू शेयर बाजारों में आज लगातार दूसरे दिन तेजी रही और बीएसई का सेंसेक्स 557.63 अंक यानी 1.15 प्रतिशत चढ़कर 48,944.14 अंक पर तथा नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 168.05 अंक यानी 1.16 प्रतिशत उछलकर 14,653.05 अंक पर पहुंच गया। यह नौ अप्रैल के बाद का दोनों सूचकांकों का उच्चतम स्तर है। रिलायंस इंडस्ट्रीज, एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के साथ ही अन्य कंपनियों में भी लिवाली रही। देश में कोविड-19 संक्रमण के नये मामलों में कमी आने से निवेशकों ने राहत की सांस ली और घरेलू कंपनियों में विश्वास दिखाया। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार सुबह जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटों में महामारी के 3,23,144 नये मामलों की पुष्टि हुई है। इससे पहले सोमवार को यह आंकड़ा रिकॉर्ड 3.52 लाख पर पहुंच गया था। मझौली और छोटी कंपनियों में भी निवेशकों ने पैसा लगाया। बीएसई का मिडकैप 1.04 प्रतिशत की बढ़त के साथ 20,281.54 अंक पर और स्मॉलकैप 1.49 प्रतिशत चढ़कर 21,506.70 अंक पर बंद हुआ। सेंसेक्स की कंपनियों में एलएंडटी का शेयर सवा तीन प्रतिशत से अधिक चढ़ा। बजाज फाइनेंस में भी तीन फीसदी, रिलायंस इंडस्ट्रीज और इंडसइंड बैंक में ढाई—ढाई प्रतिशत से अधिक की तेजी रही। भारतीय स्टेट बैंक और एचडीएफसी बैंक के शेयर ढाई प्रतिशत के करीब चढ़े। मारुति सुजुकी में सवा प्रतिशत की गिरावट रही। अमेरिकी फेडरल रिजर्व के बयान से पहले विदेशों में अधिकतर प्रमुख शेयर बाजार लाल निशान में रहे। एशिया में जापान का निक्की 0.46 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 0.07 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 0.04 प्रतिशत की गिरावट में बंद हुआ जबकि चीन के शंघाई कंपोजिट में 0.04 प्रतिशत की मजबूती रही। यूरोप में शुरुआती कारोबार के दौरान जर्मनी का डेक्स 0.33 प्रतिशत और ब्रिटेन का एफटीएसई 0.09 फीसदी फिसल गया।

कोई टिप्पणी नहीं: