इस्पात कंपनियों ने 20 सितंबर से 1.43 लाख टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 25 अप्रैल 2021

इस्पात कंपनियों ने 20 सितंबर से 1.43 लाख टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की

steel-company-supply-1.43-ton-oxygen
नयी दिल्ली, 25 अप्रैल, इस्पात कंपनियों ने देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए 1.43 लाख टन तरल मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) की आपूर्ति की है। इस्पात मंत्रालय द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, सितंबर, 2020 से 22 अप्रैल, 2021 तक सार्वजनिक और निजी क्षेत्र सहित इस्पात उद्योग ने 1,43,876.28 टन एलएमओ की आपूर्ति की है। इनमें इस्पात क्षेत्र के केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों का हिस्सा 39,805.73 टन रहा है। निजी क्षेत्र की जिन कंपनियों ने इस्पात की आपूर्ति की है उनमें टाटा स्टील, आर्सेलरमित्तल निप्पन स्टील इंडिया (एएमएनएस इंडिया), जेएसडब्ल्यू स्टील, जिंदल स्टील एंड पावर लि. (जेएसपीएल) और वेदांता ईएसएल शामिल हैं। वहीं सार्वजनिक क्षेत्र की स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लि. (सेल) और राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (आरआईएनएल) ने भी ऑक्सीजन की आपूर्ति की है। इस्पात संयंत्रों से ऑक्सीजन की आपूर्ति महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, दिल्ली, मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों को की गई है। टाटा स्टील ने बृहस्पतिवार को कहा था कि वह विभिन्न राज्यों को प्रतिदिन 300 टन एलएमओ की आपूर्ति कर रही है। इस बीच, एएमएनएस इंडिया ने अपनी दैनिक आपूर्ति को बढ़ाकर 210 टन कर दिया है। जेएसडब्ल्यू और जेएसपीएल ने कहा है कि वे प्रतिदिन क्रमश: 185 और 100 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही हैं। आरआईएनएल ने कहा है कि वह प्रतिदिन 100 टन एलएमओ की आपूर्ति कर रही है। सेल ने बृहस्पतिवार को ट्वीट कर कहा था कि वह प्रतिदिन औसतन 600 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति कर रही है। सभी कंपनियां अपनी ऑक्सीजन आपूर्ति बढ़ाने का प्रयास कर रही हैं। इस्पात मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ‘‘मैं इस समय साथ आने के लिए सभी इस्पात कंपनियों का आभार जताता हूं। ये कंपनियां देश के लिए चौबीसों घंटे सातों दिन काम कर रही हैं। हम कोविड महामारी का मुकाबला मिलकर करेंगे।’’

कोई टिप्पणी नहीं: