बिहार : लालू की बेटी रोहिणी पर सुमो ने साधा निशाना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 13 अप्रैल 2021

बिहार : लालू की बेटी रोहिणी पर सुमो ने साधा निशाना

sushil-modi-target-lalu-daughter-rohini
बिहार : लालू की बेटी रोहिणी पर सुमो ने साधा निशानालालू प्रसाद यादव की रिहाई तथा सलामती के लिए लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने कहा कि रमज़ान का पाक महीना शुरू हो रहा है! इस साल हमने भी फैसला किया है कि पूरे महीने अपने पापा के सेहतयाबी और सलामती के लिए रोज़े रखूंगी! पापा की हालत में सुधार हो और जल्दी न्याय मिल सके इसकी भी दुआ करूँगी! साथ ही मुल्क में अमन चैन हो इसलिए ईश्वर / अल्लाह से कामना करूँगी। साथ ही उन्होंने कहा कि कल से चैती नवरात्र भी है, मेरे अंदर इनती हिम्मत है कि मैं दोनों पावन पर्व पूरी निष्ठा के साथ पूरा कर सकती हूं! मुझे किसी ज़हरीले परवरिश की नफ़रती सोच से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। लालू के सेहतयाबी और सलामती के लिए रोज़े रखने की बातों पर टिप्पणी करते हुए राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने ट्वीट कर निशाना साधते हुए कहा कि लालू प्रसाद न ठीक से हिंदू हो पाये, न इस्लाम की शिक्षा ग्रहण कर पाये। कोई भी धर्म गरीबों-दलितों को सताने की इजाजत नहीं देता। आज जमानत पर उनकी रिहाई के लिए परिवार के जो सदस्य व्रत और रोजा, दोनों रखने करने की बात कर रहे हैं ,वे दरअसल किसी भी उपासना पद्धिति के प्रति ईमानदार नहीं हैं। उससे कुछ होने वाला नहीं। लालू परिवार सत्ता और सम्पत्ति के लिए ईश्वर- छठी मइया और अल्ला को भी धोखा देने की कोशिश करता रहा। सुमो ने कहा कि लालू प्रसाद ने अपने कुशासन काल में बिहार के लाखों लोगों को पलायन के लिए मजबूर किया, अपराधियों का दुस्साहस बढाया, सत्ता में बने रहने के लिए 100 से ज्यादा नरसंहार होने दिये, विकास को ठप कर लोगों को रोजगार से वंचित किया और मूक पशुओं के चारा तक में 1000 करोड़ का घोटाला किया। उन्हें न्यायिक प्रक्रिया के तहत जो सजा मिली है, उसे पूरा कर अपने किये का प्रायश्चित करना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं: