बिहार : लालू की जमानत पर खुश हुए तेज और तेजस्वी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 17 अप्रैल 2021

बिहार : लालू की जमानत पर खुश हुए तेज और तेजस्वी

tejaswi-tej-happy-with-lalu-bail
पटना : दुमका कोषागार मामले में साढ़े तीन साल से सजा काट रहे लालू प्रसाद यादव को जमानत मिल गई है। रांची हाइकोर्ट ने जमानत याचिका पर सुनवाई करते हुए इसकी मंजूरी दे दी है। वहीं इस बीच लालू के रिहाई के बाद पत्रकारों से बातचीत करते हुए बिहार के नेता प्रतिपक्ष और उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने कहा कि मुझे शुरू से ही माननीय उच्च न्यायालय पर भरोसा था की न्याय जरूर मिलेगा। लालू यादव जी ने अपनी आधी सजा पूरी कर ली थी और उनकी तबीयत लगातार खराब चल रही थी इसे के मद्देनजर हाई कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल की गई थी जिस पर आज सुनवाई करते हुए माननीय उच्च न्यायालय ने जमानत मंजूर की है। तेजस्वी यादव ने कहा कि इस दिन का सिर्फ मुझे ही नहीं बल्कि पूरे देशवासियों को बेसब्री से इंतजार था।पूरे देश में खुशी की लहर है। अभी फिलहाल लालू यादव एम्स में भर्ती हैं। उन्हें दिल की बीमारी के साथ-साथ किडनी में इन्फेक्शन भी है इसलिए फिलहाल हमें उनके स्वास्थ्य के बारे में चिंता करने की जरूरत है। तेजस्वी ने कहा कि उनकी डॉक्टर से लगातार बातचीत हो रही है डॉक्टर ने उन्हें अपनी देखरेख में रखने का सलाह दिया है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बिहार वासियों के मन में खुशी का माहौल है क्योंकि उनका मसीहा अब बाहर आ गया है अब बिहार में किसी प्रकार का कोई भी भ्रष्टाचार नहीं होगा। वहीं इससे पहले लालू के बड़े लाल तेज प्रताप यादव ने ट्विटर के जरिए अपनी खुशी का इजहार करते हुए कहा कि गरीबों, वंचितों, पिछड़ा का रहनुमा आ रहा है बता दो अन्याय करने वालों को कि हमारा नेता आ रहा है। वहीं बेटी रोहिणी आचार्य ने ट्वीट करते हुए कहा कि अन्यायी कब तक अन्याय करेगा.. मसीहा को कब तक कैद रखेगा..? आया आया देखों कौन..? तानाशाह सत्ता से वो लड़कर..! गरीबों का मसीहा आया.. इस माटी का लाल जो आया!!

कोई टिप्पणी नहीं: