मधुबनी : सिटी मैनेजर पर मुख्य पार्षद ने लगाए करोड़ो के गबन का आरोप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 12 मई 2021

मधुबनी : सिटी मैनेजर पर मुख्य पार्षद ने लगाए करोड़ो के गबन का आरोप

chief-ward-member-blame-city-manager-madhubani
मधुबनी : नगर परिषद के मुख्य पार्षद सुनैना देवी ने मधुबनी नगर निगम के सिटी मैनेजर नीरज कुमार झा पर विभिन्न मदों में अग्रिम करोड़ों रुपये का समायोजन नहीं करने तथा कई विपत्र फर्जी तरीके से जमा करने का आरोप लगाया है। पत्र में बताया गया है कि सिटी मैनेजर द्वारा समर्पित कुछ विपत्र फर्जी होने से बड़े पैमाने पर अग्रिम राशी के लूट-खसोट को नकारा नहीं जा सकता है। इनके द्वारा समर्पित श्रम पुस्तिका पर एक भी वास्तविक मजदूरों का निशान और सही हस्ताक्षर नहीं है। श्रम पुस्तिका पर सिटी मैनेजर द्वारा स्वयं निशान बनाकर विपत्र समर्पित किया गया है। पत्र में बताया गया है कि सिटी मैनेजर द्वारा करोड़ों रुपये का समायोजित राशि इनके जिम्मे लंबित है। इनकी सेवा वापस लेकर किसी अन्य सिटी मैनेजर को प्रतिनियुक्त किया जाए। इनके द्वारा दायित्व का निर्वहन नहीं किया जा रहा है। इस सिलसिले में मुख्य पार्षद ने नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव को लिखे पत्र में बताया है कि सिटी मैनेजर द्वारा करोड़ो रुपये अग्रिम लेने के बाद न तो कार्य पूरा हो पाया है, और ना ही अग्रिम राशि के समायोजन के संबंध में कोई कारगर कदम उठाया जा रहा हैं। उनके द्वारा आज तक किसी भी प्रकार के राजस्व संग्रह की प्रगति पर कोई कार्य नहीं किया गया है। वित्तीय वर्ष 2020-21 में कर संग्रह विगत वर्ष 2019-20 से भी कम है। इनके द्वारा कर वसूली संबंधी की प्रक्रिया नहीं अपनाई जा रही है। जिससे नगर निगम को राजस्व की प्राप्ति नहीं होने से करदाताओं पर मोटी राशि बकाया आ रहा है। नगर निगम क्षेत्र के किसी भी योजना की देखरेख भी नहीं कर रहे हैं। पत्र में मुख्य पार्षद ने बताया है कि सिटी मैनेजर स्थानीय राजनीति में हस्तक्षेप कर नगर निगम का सौहार्दपूर्ण वातावरण दूषित कर रहे हैं। इनके द्वारा नगर निगम की राजनीति में दखलंदाजी से विकास कार्य ठप हो गया है। इधर, इस बाबत सिटी मैनेजर नीरज कुमार झा ने बताया कि सारे आरोप बेबुनियाद हैं। वे मुख्य पार्षद द्वारा प्रधान सचिव को भेजे गए पत्र में लगाए गए आरोप की जांच के लिए तैयार हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: