बिहार : 5 दिन में कोरोना को हरा दिया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 14 मई 2021

बिहार : 5 दिन में कोरोना को हरा दिया

defeat-covid-in-5-day-patna
पटना। संक्रमित मां के गर्भ से आठ महीने में बाहर आई नवजात लोगों की नजर में भले ही कमजोर थी, लेकिन वह बहादुर निकली। उसने 5 दिन में कोरोना को हरा दिया। बच्ची की रिपोर्ट निगेटिव आ गई है और अब वह नानी की गोद में है। हालांकि, मां अभी निगेटिव नहीं हो पाई है। उनका पटना AIIMS में इलाज चल रहा है। मुगलसराय के आनंद शर्मा की पत्नी संगीता शर्मा गर्भवती थीं। उनका मायका पटना के बिहटा में है। मायके वालों की इच्छा थी कि डिलीवरी डिलीवरी पटना में ही हो। इसलिए वे यहां चली आईं। गर्भ जब 8 माह का हुआ तो संगीता को खांसी, सर्दी हो गई। डॉक्टर से फोन पर ही इलाज लिया जाने लगा, लेकिन मर्ज घटने के बजाए बढ़ता गया। घर वालों ने आनन-फानन में संगीता को आरा के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में भर्ती कराया। ऑक्सीजन लेवल तेजी से डाउन होने लगा। मां से ही बच्चे को भी ऑक्सीजन मिलती है। ऐसे में मां और बेटी दोनों की जान पर खतरा बढ़ने लगा। तब तक संगीता की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आ गई थी। डॉक्टर ने कहा कि संगीता को वेंटिलेटर पर जाना पड़ सकता है, ऐसे में उन्हें पटना के लिए रेफर कर दिया गया। संगीता के भाई अंजय ने बताया कि 27 अप्रैल को वे उसे लेकर पटना AIIMS पहुंच गए। डॉक्टरों ने गंभीर हालत देखकर उन्हें भर्ती कर लिया। जान बचाने के लिए समय से पहले डिलीवरी कराने की चुनौती आ गई। काफी कोशिशों के बाद 30 अप्रैल को डॉक्टरों ने नार्मल डिलीवरी करा ली। संगीता की बेटी को माना जा रहा था कि वह कोरोना पॉजिटिव नहीं होगी, 30 को उसे नार्मल वार्ड में ही रखा गया। लेकिन एक दिन की बच्ची की रिपोर्ट हैरान कर देने वाली थी। वह भी कोरोना पॉजिटिव निकली। इसके बाद पटना AIIMS ने बच्ची का रजिस्ट्रेशन कराया और 1 मई को उसे कोविड केयर यूनिट में विशेष निगरानी में रखा। लेकिन उसने सिर्फ 5 दिन में ही वायरस को हरा दिया। रविवार को पटना AIIMS के डॉक्टरों ने फोन कर मासूम के मामा को बुलाकर उसे सौंप दिया। अंजय पटना AIIMS के डॉक्टरों और पूरी टीम का शुक्रिया करते नहीं थक रहे हैं। उनका कहना है कि कोरोना के दौर में AIIMS ने उनके परिवार को दुनिया की सबसे बड़ी खुशी दे दी। बच्ची के जन्म के बाद अब संगीता की हालत में भी तेजी से सुधार हो रहा है।

कोई टिप्पणी नहीं: