DU अध्यापक वेलफेयर फंड की अंशदान राशि को बढाने की मांग - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 10 मई 2021

DU अध्यापक वेलफेयर फंड की अंशदान राशि को बढाने की मांग

demand-increase-du-teacers-welfare
नई दिल्ली। कोरोना महामारी का संक्रमण जिस कदर कहर बरपा रहा है उससे सरकारी सभी इंतज़ाम नाकाफ़ी साबित हुए हैं। कोरोना संकट को देखते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय के करोड़ीमल कालेज के कैमेस्ट्री विभाग के प्रोफेसर डॉ.रुपेश गुप्ता, आचार्य नरेंद्र देव कालेज के कामर्स विभाग के प्रोफ़ेसर डॉ.संदीप कुमार गोयल व देशबंधु गुप्ता कालेज के कैमेस्ट्री विभाग के प्रोफेसर डॉ.गजेंद्र सिंह ने  दिल्ली विश्विद्यालय के उपकुलपति प्रोफसर डॉ.योगेश त्यागी को पत्र लिखकर दिल्ली विश्वविद्यालय अध्यापक वेलफेयर फंड की अंशदान राशि को 50 से रूपए से बढाकर 500 रूपए करने की मांग की है। डॉ रुपेश गुप्ता ने बताया की अभी इस वेलफेयर फंड से अगर किसी अध्यापक की किसी कारणवश मृत्यु हो जाती है अथवा विकलांगता के चलते आजीविका चलाने में परेशानी आती है तो मात्र एक लाख पचास हज़ार तक सहायता देने का प्रावधान वर्तमान व्यवस्था में है लेकिन अगर उप कुलपति महोदय अपनी संतुति देकर अंश दान राशि को 50 रूपए मासिक से बढाकर 500 रूपए मासिक कर देंगे तो इस  अध्यापक वेलफेयर फंड से हम अधिक राशि की मदद अपने अध्यपकों की कर सकते हैं क्योंकि हमारे साधन सिमित है और सिमित साधनों में से बेहतर क्या हो इसकी व्यवस्था का सुझाव और मांग हमने की है। उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि जो कोरोना संक्रमण से हमारे अध्यापकगणों को काल के हाथ मृत्यु को प्राप्त होना पड़ा उसके लिए यह प्रयास कुछ भी नहीं है लेकिन हम मदद करके परिवार को सबल जरूर बना सकते हैं। उन्होंने अपने साथी इंदिरा गाँधी कालेज और फिजिकल एजुकेशन के प्रोफ़ेसर राकेश गुप्ता के निधन पर उन्हें अपनी श्रद्धांजलि देते हुए कहा की हमने देश और खेलों को समर्पित अपना साथी खो दिया जिसकी कमी को पूरा करने में लम्बा वक्त लगेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: