बिहार : फोटो को लेकर मांझी ने कहा : लगनी चाहिए राष्ट्रपति की तस्वीर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 24 मई 2021

बिहार : फोटो को लेकर मांझी ने कहा : लगनी चाहिए राष्ट्रपति की तस्वीर

manjhi-on-vaccine-certificate-pm-pic
पटना : देश समेत बिहार में कोरोना संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीन लेने के लिए होड़ मची हुई है। वहीं बिहार में 18 साल के अधिक 44 साल के अंदर के आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन के लिए स्लॉट बुकिंग में थोड़ी कठिनाई उठाना पड़ रहा है। वहीं इस बीच अब कोरोना वैक्सीन के साथ मिलने वाले सर्टिफिकेट को लेकर भी सियासत शुरू हो गई है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कोरोना वैक्सीन के बाद दिए जाने वाले प्रमाण पत्र पर सवाल उठाए हैं। दरअसल उन्हें आपत्ति इस बात से है की प्रमाण पत्र पर सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर क्यों लगी है। दरअसल हम के मुखिया जीतन राम मांझी कल गया के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज ली थी। जिसके बाद उन्हें सर्टिफिकेट मिला और अब उस पर उन्होंने सवाल खड़ा किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि को-वैक्सीन का दोनों डोज लेने के बाद मुझे प्रमाण पत्र दिया गया, जिसमें प्रधानमंत्री की तस्वीर लगी है. संवैधानिक संस्थाओं के सर्वे सर्वा राष्ट्रपति है। इस के नाते वहां राष्ट्रपति की तस्वीर लगनी चाहिए। साथ ही उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि अगर तस्वीर लगानी है तो स्थानीय मुख्यमंत्री की भी तस्वीर हो। इसके साथ ही उन्होंने एक और ट्वीट में लिखा कि अगर वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट पर तस्वीर लगाने का इतना ही शौक है, तो कोरोना से हो रही मृत्यु के डेथ सर्टिफिकेट पर भी उनकी तस्वीर लगाई जाए। यही न्याय संगत होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: