सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 25 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 25 मई 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 25 मई

बीमारी से बचाव हमेशा इलाज से बेहतर होता है- कलेक्टर श्री ठाकुर

  • कोरोना को पूरी तरह समाप्त करने के लिए जन-जागरूकता आवश्यक- कलेक्टर   

sehore news
बीमारी से बचाव हमेशा इलाज से बेहतर होता है। थोड़ी सावधानी और सयंम से बड़ी से बड़ी बीमारियों बचा जा सकता है। यह बात कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने इछावर तथा ग्राम भाउखेड़ी में आयोजित क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक में कही। उन्होंने कहा कि सावधानी से कोरोना जैसी महामारी से न केवल बचा जा सकता बल्कि इसे पूरी तरह समाप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन अपनी पूरी क्षामता से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहा है। वर्तमान में संक्रमण की गति धीमी पढ़ी है लेकिन लापरवाही घातक हो सकती है। उनहोंन कहा कि लोग स्वयं सावधनी और सोशल डिस्टेंसिंग तथा मास्क जैसे सुरक्षात्मक उपाय अपनायेंगे तो कोरोना संक्रमण के चेन जल्द तोड़ने मदद मिलेगी। बैठक में कलेक्टर श्री ठाकुर ने इछावर सहित ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण की जानकारी लेते हुए कहा कि कहा कि उन्होंने कहा कि सरकारी अमला और क्राइसिस मेनेजमेंट के सदस्य मिलकर नगर तथा गावों में लोगों को जागरूक करेंगे तो जल्द और सार्थक परिणाम मिलेंगे। श्री ठाकुर ने कहा कि कोरोना संक्रमण को प्रथम चरण में ही रोक लिया जाये तो यह फैलेगा नहीं। इसके लिए प्रत्येक व्यक्ति का किल करोना अभियान के तहत सर्वे किया जाए। शेष बचें हैं उनका जल्द सर्वे कर लिया जाये। श्री ठाकुर ने कहा कि वार्ड एवं ग्राम स्तर पर गठित क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य प्रत्येक परिवार की जानकारी लेते रहें तथा जहां किसी के बीमार होने या सर्दी, खांसी, जुकाम तथा बुखार होने पर उसे तुरंत अस्पताल या कोविड केयर सेंटर में जांच एवं उपचार के लिये भिजवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने ने कहा कि बाहर से गांव आने वाले लोगों की भी जानकारी ली जाए जो अन्य जिलों या राज्यों से आ रहे हैं।


पूरी संवेदनशीलता के साथ मरीजों का करें इलाज- कलेक्टर श्री ठाकुर

  • कलेक्टर ने इछावर सिविल अस्पताल का किया निरीक्षण   

sehore news
कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने इछावर के सिविल अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने जब कोई मरीज अस्पताल आता है, तो मरीज और उसके परिजन मानसिक रूप से परेशान और विचलित होते हैं। उनकी अपेक्षा होती है कि शीघ्र मरीज को भर्ती किया जाए या जल्द इलाज मिले। ऐसे समय में चिकित्सकों एवं अस्पताल के स्टाफ को पूरी संवेदनशीलता के साथ व्यवहार किया जाना चाहिए। कलेक्टर श्री ठाकुर ने निरीक्षण के दौरान अस्पताल में आने वाले मरीजों का बेहतर इलाज एवं देखभाल सुनिश्चित करने के चिकित्सकों को निर्देश दिए। उन्होंने अस्पताल में जांच एवं दवाओं की उपलब्धता तथा स्टॉफ के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत चिकित्सा स्टाफ को संदिग्ध कोराेना संक्रमण के लक्षणों वाले मरीजों आने पर अविलंब उपचार किया जाए। श्री ठाकुर ने अस्पताल के पूरे स्टाफ को कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के समय स्वयं भी कोरोना से बचाव के सभी साधनों का उपयोग करने के लिये कहा। श्री ठाकुर ने स्वयं मेडिकल किट में रखी दवाओं को देखा। 


ब्लाक, ग्राम एवं वार्डवार क्राइसिस मेनेजमेंट ग्रुप की बैठक प्रतिदिन, आयोजित करने के कलेक्टर ने दिए निर्देश  


कोरोना वायरस संक्रमण के रोकथाम एवं बचाव के लिए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने समस्त एसडीएम को ब्लाक, ग्राम, वार्ड संकट प्रबंधन समूह (क्रायसिस मेनेजमेन्ट ग्रुप) का गठन करने के निर्देश दिए हैं। समस्त अनुविभाग क्षेत्र में गठित ब्लाक, ग्राम, वार्ड संकट प्रबंधन समूह (कायसिस मेनेजमेन्ट ग्रुप) के सदस्यों के नाम एवं संपर्क नंबर संबंधी पूर्ण जानकारी उपलब्ध रखी जाए एवं समिति की बैठक प्रतिदिन आयोजित करने के निर्देश दिए। एसडीएम सेक्टर, क्लस्टर एवं ग्राम तथा नगरीय वार्ड के अधिकारियों कर्मचारियों की ड्यूटी लगाकर आदेश की प्रति उपलब्ध करने एवं ग्राम अथवा नगरीय वार्ड पर होने वाली प्रतिदिन की गतिविधि संबंधी निर्देश भी आदेश में उल्लेखित करने के निर्देश दिए गए हैं। प्रत्येक 10-12 ग्राम पंचायतों के लिए एक क्लस्टर स्तर के नोडल अधिकारी की नियुक्ति एवं नगरीय क्षेत्र में 3-4 वार्डो के समूह हेतु एक क्लस्टर अधिकारी की नियुक्ति के निर्देश दिए गए। अनुविभाग में गठित कुल क्लस्टरों को अनुविभागीय दण्डाधिकारी,  तहसीलदार,  नायब तहसीलदार,  मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत के मध्य इस प्रकार विभाजित किया जाये कि प्रत्येक अधिकारी की 23 क्लस्टरों की निगरानी, सर्वेक्षण की जिम्मेदारी निर्धारित हो जाये। संबंधित अधिकारी द्वारा स्वतंत्र रूप से आवंटित क्लस्टरों की सतत मॉनिटरिंग की जाएगी। समितियों सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क, टीकाकरण और कोविड रोकथाम व्यवहार पर प्रतिदिन जागरूकता बैठक आयोजित करेगी। समितियाँ योग, प्राणायाम, गर्म जल चिकित्सा के सत्र आयोजित कर कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए आमजन को जागरूक करेगी। इस कार्य के लिए स्थान चिन्हित कर प्रतिदिन खुले स्थान पर (जहाँ सोशल डिस्टेंसिंग का पालन हो सके) 30 मिनिट के सत्र का आयोजन किया जाए। उक्त सत्र के दौरान आमजन से संवाद के माध्यम से नये संक्रमित मरीजों के संबंध में आवश्यक जानकारी भी प्राप्त की जाए।   


रबी विपणन वर्ष 2021-22 में समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन की तिथि में वृद्धि  


खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग द्वारा रबी विपणन वर्ष 2021-22 में ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत किसानों से समर्थन मूल्य पर गेहूं उपार्जन की तिथि में वृद्धि की गई है। भोपाल, नर्मदापुरम, जबलपुर, रीवा, शहडोल, सागर, ग्वालियर एवं चम्बल संभाग के जिलों में माह मई में असमायिक वर्षा के कारण उपार्जन कार्य बाधित होने एवं ई-उपार्जन पोर्टल पर पंजीकृत किसानों को समर्थन मूल्य पर गेहूं विक्रय करने का अवसर प्रदान करने के लिए उपार्जन की अवधि 28 मई तक बढ़ाई गई है।    


जिले में ग्राम पंचायतों में आयोजित हो रही क्राईसिस मेनेजमेंट की बैठक, कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए किया जा रहा लोगों को जागरुक  


sehore news
कोरोना संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देशानुसार जिले की ग्राम पंचायतों में क्राईसिस मेनेजमेंट की बैठक आयोजित की जा रही हैं। बैठक में लोंगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए जागरुक किया जा रहा है। साथ ही समझाइश दी जा रही है कि कोई भी व्यक्ति घर से बाहर नहीं निकले। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें, मास्क लगाएं तथा अपने हाथों को बार-बार साबुन से धोएं। जिले के छापरी, दोराहा, खाईखेड़ा सहित अन्य ग्राम पंचायतों में बैठक आयोजित की गई। आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाओं द्वारा घर-घर जाकर किल कोरोना अभियान अन्तर्गत सर्वे किया जा रहा है। सर्वे के दौरान सर्दी, खांसी, जुखाम, बुखार के मरीजों को चयन कर तत्काल उपचार के लिए स्वास्थ्य केन्द्र में उपचार कराया जा रहा है। जिससे कि कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना न रहे।


संक्रमित व्यक्ति पाए जाने पर बनाए जा रहे कंटेंमेंट एरिया  


sehore news

कोरोना संक्रमण को दृष्टिगत रखते हुए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देश पर जिले में जहां कोरोना संक्रमित व्यक्ति पाए गए हैं उस क्षेत्र को कंटेमेंट एरिया बनाए जा रहें है। जिससे की कोरोना संक्रमण की चैन ब्रेक हो सके। प्रशासिनक अधिकारियों द्वारा निरंतर माइक्रो कंटेंमेंट क्षेत्रों का निरीक्षण किया जा रहा है। कंटेंमेंट के दौरान रहवासियों को आवश्यक सामग्री के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं भी की जा रही हैं।


डी.ए.पी. उर्वरक की संशोधित विक्रय दर कृषकों के लिए विक्रय, प्रति बोरी (50 किग्रा.) 1200 रुपए निर्धारित की गई  


मध्यप्रदेश राज्य सहकारी विपणन संघ मर्यादित भोपाल के द्वारा डी.ए.पी. उर्वरक की दर के संबंध मे खरीफ 2021 के लिए भारत शासन द्वारा संशोधित एन.बी.एस. स्कीम जारी की गई है। जिसके परिपेक्ष में डी.ए.पी. उर्वरक की संशोधित विक्रय दर कृषकों के लिए विक्रय प्रति बोरी  (50 किग्रा.) 1200 रुपए निर्धारित की गई है। कृषकों को सूचित किया गया है कि डी.ए.पी. उर्वरक की प्रति बोरी  1200 रुपए मे सहकारी समितियों एवं निजी विक्रेताओ से क्रय कर सकते है, संबंधित से संस्था से पक्का बिल प्राप्त करें। यदि कोई विक्रेता/संस्था आपको निर्धारित कीमत से अधिक कीमत पर विक्रय करता हैं, तो तत्काल विकासखण्ड के संबंधित वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी को सूचित करे साथ ही कोई अनाधिकृत व्यक्ति अनावश्यक रूप से उर्वरक का भण्डारण कर कालाबाजारी करते पाया जाता है, तो तत्काल सूचित करे, ताकि संबंधित के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जा सके।


विश्व तंबाकू एवं धूम्रपान निषेध दिवस 31 मई को  


विश्व तंबाकू एवं धूम्रपान निषेध दिवस 31 मई को आयोजित किया जाएगा। इसका उद्देश्य युवाओं, छात्र-छात्राओं एवं बढ़ती हुई तंबाकू सेवन, धूम्रपान की प्रवृत्ति की रोकथाम के लिए तंबाकू एवं बीड़ी, सिगरेट के दुष्परिणामों से इन्हें अवगत कराना है। तंबाकू एवं गुटखा, बीड़ी सिगरेट के सेवन की बढ़ती प्रवृत्ति से युवाओं एवं जनसामान्य को कैंसर और टीबी की बीमारियों से बचाया जा सके। तंबाकू, धूम्रपान के सेवन की रोकथाम के लिए वातावरण निर्माण हो सके। वर्तमान में कोविड-19 के दृष्टिगत शासन द्वारा जारी दिशा निर्देशों के तहत किसी प्रकार का आयोजन समारोह आयोजित किया जाना संभव नहीं है। निषेध दिवस पर दृश्य श्राव्य माध्यमों द्वारा तंबाकू से बने उत्पादों के दुष्परिणामों से युवाओं एवं समाज को अवगत कराने के लिए दिवस की महत्ता पर फिजिकल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए जागरूकता करने की कार्यवाही एवं शपथ लेने की कार्यवाही करें।


पौधा लगाएँ, फोटो अपलोड करें और मुख्यमंत्री से अवार्ड पाएँ

  • जन-सहभागिता से वृक्षारोपण के लिए अंकुर कार्यक्रम: मुख्यमंत्री श्री चौहान, पर्यावरण को स्वच्छ और प्राणवायु से समृद्ध बनाना है कार्यक्रम का उद्देश्य  

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जन-जन के सहयोग से प्रदेश के हरित क्षेत्र में वृद्धि कर  पर्यावरण को स्वच्छ और प्रकृति को प्राणवायु से समृद्ध करने के उद्देश्य से अंकुर कार्यक्रम आरंभ किया गया है। कार्यक्रम के अंतर्गत वृक्षारोपण के लिए जन-सामान्य को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से पौधा लगाने वाले चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा। कार्यक्रम में भाग लेने की प्रक्रिया- कार्यक्रम में भाग लेने के लिए गूगल प्ले-स्टोर्स से ’वायुदूत एप’  डाउनलोड कर पंजीयन करना होगा। कार्यक्रम में भाग लेने वाले व्यक्ति को स्वयं के संसाधन से कम से कम एक पौधा लगाकर, पौधे की फोटो एप के माध्यम से लेकर अपलोड करनी होगी। पौधा लगाने के तीस दिन बाद फिर से पौधे की नई फोटो एप पर अपलोड कर सहभागिता प्रमाण-पत्र डाउन लोड किया जा सकेगा। जिलेवार चयनित विजेताओं को प्राणवायु अवार्ड से सम्मानित किया जायेगा, जिसके अंतर्गत मुख्यमंत्री द्वारा प्रमाण-पत्र प्रदान किया जायेगा। सभी जिलों में होंगे नोडल अधिकारी और वेरिफायर - अंकुर कार्यक्रम के क्रियान्वयन के लिए राज्य शासन द्वारा पर्यावरण नियोजन एवं समन्वय संगठन (एपको) नोडल एजेंसी बनाया गया है। जिला कलेक्टर इस कार्य के लिए जिले के वरिष्ठ अधिकारी को जिला नोडल अधिकारी नियुक्त करेंगे। जिला नोडल अधिकारी द्वारा आवश्यकतानुसार स्थानीय वेरिफायर का नामांकन कर ’वायुदूत एप’ में उनकी प्रवृष्टि की जायेगी। कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा होगा विजेताओं का चयन- जिले में जन-अभियान परिषद के स्वयंसेवक, महाविद्यालयों के ईको क्लब प्रभारी तथा राष्ट्रीय हरित कोर योजना के मास्टर ट्रेनर में से वेरिफायर नामांकित किये जायेंगे। जिला स्तर पर कुल प्राप्त प्रवृष्टियों का 10 प्रतिशत अथवा 200 जो भी कम हो का रेंडम आधार पर जिला स्तर पर वेरिफायर्स से सत्यापन कराया जायेगा। जिला स्तर पर कुल प्राप्त हुई प्रविष्टियों में से कम्प्यूटराइज लाटरी द्वारा विजेताओं का चयन किया जायेगा। विजेताओं की सूची ’वायुदूत एप’ में अपलोड की जायेगी।


महाविद्यालयों में वैकल्पिक विषय के रूप में शामिल होगा एन.सी.सी.  


सभी महाविद्यालयों के छात्र एवं छात्राएं अब एन सी सी एक वैकल्पिक विषय के रूप में ले सकेंगे। एनसीसी महानिदेशालय, नई दिल्ली द्वारा एनसीसी को नई शिक्षा नीति के तहत बतौर वैकल्पिक विषय के रूप में महाविद्यालयों में शामिल करने का अनुरोध किया गया था, जिसे यूजीसी द्वारा स्वीकार करने के बाद मंजूरी दे दी गई है। यूजीसी द्वारा देश भर के सभी सरकारी एवं निजी विश्वविद्यालयों एवं महाविद्यालयों में एनसीसी को एक विषय के रूप में शामिल किया जायेगा। इस विषय में 8 चेप्टर थ्योरी के, 6 प्रेक्टिल एवं 10 चैप्टर कैम्प के होंगे।  विश्वविद्यालयों के कुलपति एवं कुलसचिवों से इसी वर्ष से एन सी सी को एक वैकल्पिक विषय के रूप में शामिल करने की बातचीत की जायेगी, इससे इच्छुक छात्र एवं छात्राओं को शीघ्र ही लाभ मिल सकें। एनसीसी विद्यार्थियों में अनुशासन, चरित्र निर्माण एवं निःस्वार्थ सेवा भाव विकसित करने का कार्य 1948 से कर रही है। एनसीसी ने कई अधिकारी इस देश को दिये है। भारतीय सेना जैसे गौरवमयी क्षेत्र में अपना भविष्य बनाने के इच्छुक विद्यार्थियों के लिये एनसीसी एक महत्वपूर्ण विषय साबित होगा। अभी तक एन सी सी में स्थान सीमित होने के कारण अनेक छात्र एवं छात्राएं एन सी सी लेने से छूट जाते थे, किन्तु वेकल्पक विषय के रूप में शामिल होने से एन सी सी का लाभ सभी विद्यार्थी उठा सकते है एवं सेना में शानदार केरियर बना सकते है।


कोविड-19 टीकाकरण के संबंध में निर्देश जारी  


राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के टीकाकरण संचालक ने कोविड-19 टीकाकरण के संबंध में प्रदेश के समस्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और जिला टीकाकरण अधिकारी को निर्देश जारी किये हैं। कोविड-19 संक्रमण से पूर्ण रूप से स्वस्थ्य हुए व्यक्ति का टीकाकरण 3 माह के अंतराल पर किया जा सकता हैं। जिन रोगियों को कोविड-19 संक्रमण के दौरान मोनोक्लोनल एन्टीबॉडीज एवं कॉन्वलेसेन्ट प्लाज्मा दिया गया है, ऐसे रोगी अस्पताल से डिस्चार्ज होने के 3 माह के बाद टीकाकरण करा सकते हैं। ऐसे व्यक्ति जो वैक्सीन की पहली डोज लगने के बाद कोविड संक्रमित हुए हैं, उन्हें कोविड संक्रमण से पूर्णतः स्वस्थ्य होने के 3 माह बाद वैक्सीन की दूसरी डोज दी जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि गंभीर बीमारियों वाले व्यक्ति जिन्हें अस्पताल में भर्ती करने एवं आई.सी.यू की आवश्यकता होती है, उन्हें स्वस्थ्य होने के 4 से 8 सप्ताह के बाद वैक्सीन लगाई जाये। डॉ. शुक्ला ने बताया कि टीकाकरण तथा कोविड-19 संक्रमण से स्वस्थ्य हुआ व्यक्ति 14 दिनों के बाद रक्तदान कर सकता है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को कोविड-19 टीकाकरण किया जा सकता है। कोविड टीकाकरण के लिए पहले रेपिडएंटिजन टेस्ट से स्क्रीनिंग कराना अनिवार्य नहीं है।


18 से 44 आयुवर्ग के नागरिकों का ऑनस्पॉट रजिस्ट्रेशन निर्णय के संबंध में निर्देश  


केन्द्र शासन द्वारा 18 से 44 आयुसंवर्ग में 1 मई 2021 से ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन एवं अपाइंटमेंट सिस्टम cowin.gov.in के माध्यम से प्रारंभ किया गया था, ताकि टीकाकरण केन्द्रों पर भीड़ न हो सके। विभिन्न राज्यों से प्राप्त प्रतिनिधित्व के अनुसार कोविन एप के संचालन के लिए केन्द्र शासन स्वास्थ्य सचिव ने राज्य सरकारों को उचित आवश्यक निर्णय लेने के लिए स्वायत्त्वता दी है। इस संबंध में शीघ्र ही शासन स्तर पर निर्णय लिये जाने के पश्चात् स्लॉट बुकिंग की नवीन नीति से जन-जन को अवगत कराया जायेगा।  


सावधानी और सतर्कता के साथ कड़ाई भी जरूरी- कलेक्टर श्री ठाकुर


sehore news
जिले के नगरीय तथा ग्रामीण क्षेत्रों के भ्रमण के दौरान नसरुल्लागंज में कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर की अध्यक्षता में क्राईसिस मैनेजमैंट ग्रुप की बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि कोरोना पर पूरी तरह से नियंत्रण के लिये सावधानी और सतर्कता के साथ ही कड़ाई से कोरोना कर्फ्यू का पालन जरूरी है। कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि जहां कोरोना मरीज मिल रहे हैं वहां माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएं तथा यह निगरानी की जाए की होम आइसोलेशन के मरीज अनावश्यक बाहर नहीं निकलें। साथ ही घर पर भी पूरी सर्तकता और सावधानी से रहें। उन्होंने कहा कि माइक्रो मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य प्रभावी ढंग से व्यापक स्तर पर जन जागरूका अभियान चलाये। श्री ठाकुर ने कहा कि सभी का टीकाकरण कराया जाए टेस्टिंग, होम आइसोलेशन एवं ट्रीटमेंट पर खास ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि टीकाकरण के लिये अभियान चलाना होगा। इस अभियान में जनप्रतिनिधियों की महती भूमिका है। श्री ठाकुर ने एसडीएम सहित सभी संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए कि कोरोना कर्फ्यू का पालन कराया जाये। उन्होंने ब्लैक फंगस के मरीजों क समुचित उपचार के प्रबंध करने के निर्देश दिए। बैठक में एसडीएम श्री दिनेश सिंह तोमर तथा जिला भाजपा अध्यक्ष श्री रवि मालवीय सहित अनेक स्थानीय जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।


मुख्‍यमंत्री श्री चौहान द्वारा सिंगल क्लिक के माध्यम से भवन संनिर्माण श्रमिकों को एकमुश्‍त राशि प्रदान की

  • सीहोर जिले के 406 हितग्राहियों को के खाते में 4 लाख 6 हजार रूपये अंतरित, इछावर की श्रीमती लता से मुख्यमंत्री श्री चौहान ने किया संवाद

sehore news
मुख्‍यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने मध्यप्रदेश भवन तथा अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के अंतर्गत पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बैंक खाते में एक-एक हजार रूपये की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से अंतरित की। कार्यक्रम के दौरान एनआईसी कक्ष में अपर कलेक्टर श्रीमती गुंचा सनोबर, श्रम पदाधिकारी प्रियंका बंशीवाल सहित हितग्राही लताबाई, देवसिंह, चर्तुभुज, सन्नू यादव, विनोद कौशल उपस्थित थे।  इस दौरान मुख्‍यमंत्री श्री चौहान जिले के इछावर तहसील अन्तर्गत ग्राम पालखेड़ी निवासी हितग्राही श्रीमती लताबाई से वीडियो कांफेंस के माध्यम से चर्चा की। लताबाई ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बताया कि मेरे घर में चार सदस्य हैं। मैं मजदूरी करती हूं और मुझे तीन माह का 60 किलो राशन मिल चुका है। लता ने मुख्यमंत्री का बताया कि मेरे पास आयुष्मान कार्ड एवं उज्जवला योजना अन्तर्गत गैस चूल्हा भी है जिस पर हम भोजन बनाते हैं। लता ने बताया कि पिछले वर्ष भी लॉकडाउन के दौरान भी उन्हें एक हजार रुपए की सहायता राशि प्राप्त हुई थी। जिससे परिवार के भरण-पोषण में काफी मदद मिली थी और इस वर्ष भी यह सहायता राशि से कोरोना कर्फ्यू के दौरान काफी सहायता मिलेगी। लता बाई ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को बताया कि हमारे गांव में जनता कर्फ्यू लगाया है जिसका सभी ग्रामवासी कोरोना गाईड लाइन के अनुसार पालन कर रहें हैं। संबोधन के अंत में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लता को बहुत बधाई दी है। म.प्र. भवन एवं अन्‍य संनिर्माण कर्मकार कल्‍याण मण्‍डल के अंतर्गत पंजीकृत है उन्‍हें कोरोना संक्रमण के दौरान हो रही परेशानियो को कम करने की दृष्टि से आपदा सहायता राशि के रूप में प्रति श्रमिक एक हजार रूपये की राशि प्रदाय की जा रही है। इस मंडल के अंतर्गत कुल 11 लाख से अधिक निर्माण श्रमिक पंजीकृत हैं, जिनको कुल राशि 112.813 करोड़ डीबीटी के माध्‍यम से उनके खाते में अंतरित की गई। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने संबोधन के दौरान कहा कि कोरोना संक्रमण को कंट्रोल करने का एक ही उपाय है कि अपने घरों में रहें। फर्क देखिए, हमने घरों से निकलना बंद किया। अनावश्यक आना जाना बंद किया, शादी विवाह का आयोजन, धार्मिक आयोजन, राजनीतिक आयोजन बंद किया तो अब कोरोना केस घट रहे हैं। नि:शुल्क राशन के अलावा श्रमिकों का काम-धंधा बंद है इसके लिए एक-एक हजार साढ़े 11 लाख मजदूरों के खातों में डाले हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1 जून से हम धीरे-धीरे सामान्य जीवन की ओर बढ़ेंगे, लेकिन कोरोना से बच के रहना है तो हम संयम रखना होगा। गांव के वार्ड के ब्लॉक जिलों के क्राइसिस मैनेजमेंट कमिटी को तय करना है कि क्या और कब से खोलना है। अनलॉक होने के बाद अगर काम भी करना है तो दूरी बना के रखना है। हमें कोरोना के साथ जीना सीखना पड़ेगा। हम रोज बड़ी संख्या में टेस्ट कराते रहेंगे। ताकि कोई भी संक्रमित हो तो तुरंत ही उसका इलाज किया जा सके। सावधानी रखनी पड़ेगी। कोविड केयर सेंटर चालू रहेंगे।


देवीसिंह ने कहा सहायता राशि से जीविका चलाने में मिलेगी मदद


कोरोना कर्फ्यू के दौरान जीविका चलाना मुश्किल हो रहा था, ऐसे में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एक हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान की गई। इससे परिवार के भरण-पोषण में मदद मिलेगी। यह कहना है इछावर तहसील के ग्राम काकंरखेड़ा निवासी देवसिंह का।   देवसिंह बताते हैं कि उन्हें  मध्यप्रदेश भवन तथा अन्य संनिर्माण कर्मकार कल्याण मण्डल के अंतर्गत मुख्यमंत्री द्वारा एक हजार रुपये की सहायता राशि प्रदान की गई है। देवसिंह ने बताया कि यह राशि मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मेरे परिवार की आजीविका दिहाड़ी मजदूरी पर ही निर्भर है। उल्लेखनीय है कि म.प्र. भवन एवं अन्‍य संनिर्माण कर्मकार कल्‍याण मण्‍डल के अंतर्गत पंजीकृत श्रमिकों को कोरोना संक्रमण के दौरान हो रही परेशानियों को कम करने की दृष्टि से आपदा सहायता राशि के रूप में प्रति श्रमिक एक हजार रूपये की राशि प्रदाय की गई है। देवसिंह  ने प्रदेश शासन द्वारा चलाई जा रही योजनाओं जैसे नि:शुल्‍क राशन वितरण, आयुष्मान कार्ड द्वारा उपचार सहित अन्य योजनाओं के लिए धन्यवाद दिया है। 


आज 89 व्यक्ति रिकवर हुए जिले में 25 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले


जिले में कोरोना संक्रमण निरंतर कम हो रहा है। वहीं कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के ठीक होने का आंकड़ा बड़ रहा है। जिला चिकित्सालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार आज जिले में 25 व्यक्ति कोरोना पॉजीटिव मिले हैं तथा आज 89 व्यक्ति रिकवर हुए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: