विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 16 मई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 16 मई 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 16 मई

भौंर घाट मुक्तिधाम को एक ट्राली लकडी पहुॅचाई विधायक शषांक भार्गव


vidisha news
विदिशा: कोविड संक्रमण को ध्यान में रखते हुए भौंर घाट को एक मुक्ति धाम का रूप दे दिया गया है, जहाॅ विदिषा के कुछ समाज सेवीयों द्वारा अपने-अपने स्तर पर संक्रमण काल में मदद की जा रही है।  ऐसी ही एक मदद निःषुल्क अंतिम संस्कार हेतु विदिषा विधायक शषांक भार्गव ने की उन्होंने कांग्रेस नेताओं के माध्यम से एक ट्राली लकडी भौंर घाट मुक्ति धाम समिति को पहुॅचाई। भोर घाट मुक्तिधाम समिति लकडी पहुॅचाने में योगदान करने वालों में पूर्व एल्डर मेन मोनू पाल, शहर कांग्रेस अध्यक्ष देवेन्द्रसिंह राठौर, असंगठित कामगार कांग्रेस जिलाध्यक्ष अजय कटारे, कांग्रेस नेता अरूण राजू अवस्थी एवं मीडिया प्रभारी राजकुमार डीडोत आदि लोग उपस्थित रहे।


जिले की समस्त मदिरा दुकानें 30 मई तक बंद रखने का आदेश जारी


कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी डॉ पंकज जैन के द्वारा जिले की समस्त शराब दुकाने 30 मई तक ड्राई डे रखने का  आदेश जारी किया गया है । जिला आबकारी अधिकारी श्री शैलेश जैन ने बताया कि जिले की समस्त देशी-विदेशी मदिरा दुकानों एवं भांग तथा भांग घोटा की समस्त दुकाने अब 30  मई तक ड्राई डे रखने के आदेश के परिपालन में  30 मई तक की अवधि में जिले में मदिरा का परिवहन संग्रह भंडारण व विक्रय पूर्णतया प्रतिबंधित रहेगा


’दवाईयां एवं मेडिकल उपकरण निर्धारित कीमत से अधिक पर बेचने पर होगी कार्यवाही’


कलेक्टर एवं जिला मजिस्ट्रेट डॉ पंकज जैन के द्वारा जिले के समस्त मेडिकल दुकान संचालकों को निर्देशित किया गया है कि दवाइयां तथा मेडिकल उपकरण जैसे पल्स आक्सीमीटर, थर्मामीटर आदि को निर्धारित की गई कीमतों पर ही विक्रय करना सुनिश्चित करें। यदि किसी दुकानदार द्वारा निर्धारित कीमत से अधिक में विक्रय करते पाया गया तो कठोर वैधानिक कार्यवाही की जायेगी। कलेक्टर डॉ जैन ने उपभोक्ताओं से अपील की है कि दवाईयां एवं मेडिकल उपकरण लेते समय संबंधित दुकानदार से बिल अवश्य प्राप्त करें। यदि कोई दुकानदार आप से निर्धारित मूल्य से अधिक लेता है तो उसकी शिकायत दस्तावेजों सहित संबंधित एसडीएम को करें। जाँच में शिकायत सत्य पायी जाने पर दोषी व्यक्तियों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।ऐसे समय में लोगों को अधिक कीमत में सामग्री का विक्रय करना जघन्य अपराध है। ऐसे अपराधियों के विरूद्ध कठोर वैधानिक एवं दण्डात्मक कार्यवाही की जायेगी। 


सम्भाग के सभी जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में ‘तीसरा किल कोरोना अभियान 25 मई तक चलेगा’


सम्भाग के सभी जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ते कोविड संक्रमण के दृष्टिगत अधिकाधिक जनसंख्या तक स्वास्थ्य सेवाओं के विस्तार के लिये ‘किल कोरोना-3’ अभियान का संचालन शुरू कर दिया गया है। संभागायुक्त और ए डी जी पी लगातार सम्भाग के सभी जिलों में पहुंचकर अभियान को गति दे रहे है। इस अभियान की अवधारणा सर्दी, खाँसी, बुखार के लक्षणयुक्त रोगियों के प्राथमिक उपचार एवं कोविड-19 के सर्वेलेन्स के लिये की गई है। अभियान का संचालन 25 मई 2021 तक किया जाएगा। किल कोरोना अभियान में प्राथमिक दल अपने कर्तव्यों का निर्वहन ठीक से कर सके, इसलिये ग्रामवासियों को जागरूक करने, उनका सहयोग प्राप्त करने तथा दल एवं समुदाय के बीच बेहतर समन्वय एवं संवाद स्थापित करने के लिये ग्राम पंचायतों के पदाधिकारियों, स्व-सहायता समूह के पदाधिकारियों या सदस्य, कोरोना वॉलेंटिंयर्स, सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता तथा अन्य स्थानीय स्वैच्छिक संस्थाओं के व्यक्तियों को भी इस दल के साथ जोडा गया है। जनपद एवं जिला पंचायत में पूरा अभियान प्रभावी ढंग से क्रियान्वयन हो सके, इसके लिये मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद एवं जिला पंचायत दिन-प्रतिदिन में परिवीक्षण समन्वय एवं मॉनीटरिंग सुनिश्चित कर रहे है। ग्राम पंचायतों को प्रेरित किया जा रहा है कि वे जानबूझकर कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध एवं होम आइसोलेशन में रहने वाले व्यक्तियों द्वारा कोरोना गाइडलाइन का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध जुर्माने की राशि के रूप में समुचित दण्ड अधिरोपित करने का संकल्प लें। उल्लंघनकर्ता से राशि की वसूली करें। इस प्रकार वसूल की गई राशि का उपयोग कोरोना प्रबंधन यथा फेस मास्क,सेनेटाइजर, क्वारेंटाइन सेंटर की व्यवस्था आदि में किया जायेगा। मुख्य कार्यपालन अधिकारी, जनपद पंचायत अपने क्षेत्रांतर्गत सभी व्यवस्थाओं का नियमित पर्यवेक्षण, समीक्षा एवं अनुश्रवण (मॉनीटरिंग) कर रहे है। वे ‘किल कोरोना-3’ अभियान में समस्त आवश्यक व्यवस्थाओं के सुचारु संचालन के लिये जिम्मेदार होंगे। श्री कियावत ने कहा है कि ‘किल कोरोना-3’ अभियान का उद्देश्य प्रत्येक ग्राम तथा समस्त जनपद एवं जिलों को कोरोना मुक्त कराना है। इस संबंध में संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएँ द्वारा जारी निर्देशों का सम्भाग के सभी जिलों में पूर्णतः पालन सुनिश्चित करवाया जा रहा है।


’कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी खुराक 12 से 16 सप्ताह की अवधि में प्रदान की जायेगी’


मुख्य चिकित्सा और स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार के नए निर्देश अनुसार कोविशिल्ड वैक्सीन की दूसरी डोज के लिए नई गाइड लाइन जारी कर दी है। कोविड-19 टीकाकरण अभियान के अंतर्गत कोविशील्ड वैक्सीन की दूसरी खुराक 12-16 सप्ताह की अवधि में प्रदान की जायेगी। जिन व्यक्तियों को कोविशिल्ड वैक्सीन का पहला डोज लग चुका है वे सभी अब 12 से 16 सप्ताह के बाद ही वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाने जाए। पूर्व शेड्यूल में यह अवधि 6- 8 सप्ताह निर्धारित थी। कोविशील्ड वैक्सीन के वर्तमान वैज्ञानिक साक्ष्यों के आधार पर कोविड वर्किंग ग्रुप ऑफ द नेशनल टेक्निकल एडवाइजरी ग्रुप ओन इम्यूनाइजेशन एवं नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड 19 द्वारा कोविशील्ड वैक्सीन की पहली और दूसरी खुराक के बीच 12 से 16 सप्ताह के अंतर रखे जाने की अनुशंसा की गई है।  नागरिकों से आग्रह किया गया है कि ऐसे समस्त हितग्राही जिनको कोविशील्ड वैक्सीन की प्रथम खुराक प्राप्त हो चुकी है वे प्रथम खुराक के 12- 16 सप्ताह पश्चात ही वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाए। यह परिवर्तन केवल कोविशील्ड वैक्सीन हेतु ही किये गए हैं। कोवैक्सीन की डोज पूर्व निर्धारित शेड्यूल के अनुरूप ही प्रदान की जायेगी।


’हल्के एवं बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए होम आइसोलेशन सम्बन्धी एडवाइजरी’


कोविड-19 के बहुत हल्के एवं बिना लक्षण वाले मामलों के मरीजों के लिये होम आइसोलेशन हेतु नवीन दिशा-निर्देश जारी किये हैं। नवीन निर्देशानुसार अनुसार मास्क के उपयोग के 8 घंटे या उससे पहले यदि मास्क गीला या गंदा हो जाए तो इसे फेंक दें। मरीज एक निर्धारित कमरे में रहें और घर में अन्य लोगों, विशेषकर बुजुर्ग और उच्च रक्तचाप, गुर्दे की बीमारी आदि जैसी सह-रुग्ण स्थितियों वाले लोगों, से दूर रहें। मरीज को अच्छे हवादार क्रॉस वेंटिलेशन वाले कमरे में रहना चाहिए और कमरे की खिड़कियों को हमेशा खुला रखना चाहिए ताकि कमरे में स्वच्छ हवा आ सके।  मरीज को हमेशा ट्रिपल-लेयर मास्क पहने रहना चाहिए। मास्क को फेंकने से पहले 1 प्रतिशत सोडियम हाइपो-क्लोराइट से कीटाणुमुक्त किया जाना चाहिए। बीमार व्यक्ति के कमरे में जाने पर देखभाल करने वाले व मरीज दोनों को एन-95 मास्क पहनना चाहिए। शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के लिए मरीज को आराम करना चाहिए और तरल पदार्थों का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। हमेशा श्वसन संबंधी शिष्टाचार का पालन करें। साबुन और पानी से कम से कम 40 सेकेंड तक थोड़ी-थोड़ी देर बाद हाथ धोएं अथवा हाथों को एल्कोहल युक्त सैनिटाइजर से साफ करें घर के किसी भी सदस्य के साथ अपने वैयक्तिक सामानों को साझा न करें। कमरे में अक्सर छुई जाने वाली सतहों को 1 प्रतिशत हाइपोक्लोराइट सॉल्यूशन से साफ करें। पल्स ऑक्सीमीटर की मदद से ब्लड ऑक्सीजन के स्तर की नियमित तौर पर स्वयं निगरानी अवश्य करें।  मरीज दैनिक स्तर पर शरीर के तापमान की जांच के साथ अपने स्वास्थ्य की स्वयं-निगरानी करेगा और तबीयत ज्यादा खराब होने पर तुरंत नजदीकी अस्पताल को रिपोर्ट करेंगे 


’कक्षा 10वीं की परीक्षा नहीं होगी आयोजित’


कोरोना संक्रमण की गंभीरता के दृष्टिगत रखते हुये माध्यमिक शिक्षा मण्डल द्वारा आयोजित 10वीं की परीक्षा का आयोजन नहीं किया जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग ने संक्रमण के संभावित खतरे की रोकथाम करने के उद्देश्य से और छात्रहित में वर्तमान परिस्थिति  के दृष्टिगत यह निर्णय लिया है। कोरोना संक्रमण की वर्तमान स्थिति के मद्देनजर 12वीं, 12वीं (व्यावसायिक), डिप्लोमा इन प्री-स्कूल एजूकेशन, शारीरिक प्रशिक्षण पत्रोपाधि परीक्षाओं की सैद्धांतिक एवं प्रायोगिक परीक्षायें आगामी आदेश तक स्थगित की गई है। कोरोना संक्रमण सामान्य होने की स्थिति में परीक्षा आयोजन की सूचना 20 दिन पहले दी जाएगी। कक्षा 10वीं के नियमित छात्रों के परीक्षा परिणाम की गणना अर्धवार्षिकी परीक्षा या प्री-बोर्ड परीक्षा, यूनिट टेस्ट और आंतरिक मूल्यांकन के अंको का अधिभार नियत कर की जाएगी। स्वाध्यायी छात्रों के लिए आंतरिक मूल्यांकन का प्रावधान नहीं होने से, समस्त छात्रों को न्यूनतम अंक (33) अंकित करते हुए अंकसूचियाँ जारी की जाएगी।


’कोरोना वायरस से बचने के लिए एडवायजरी जारी’


कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए एडवायजरी जारी की गई है।जारी की गई एडवाइजरी के अनुसार कोरोना से प्रभावित होने पर बुखार आना, सिर दर्द, नाक बहना, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, खांसी, गले में खरास, सीने में जकड़न आदि लक्षण दिखाई देते हैं। संक्रमित व्यक्ति के खुली जगह में छींकने वा खांसने से हवा द्वारा इस वायरस का संक्रमण होता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाने, गले लगने, संक्रमित जगह के संपर्क में आने से भी यह वायरस फैलता है।  एडवायजरी के अनुसार बचाव के लिए नियमित अंतराल से हाथ धोना चाहिए। साथ ही बिना हाथ धोए चेहरे को न छुऐं, संक्रमित सामग्रियों के संपर्क में आने से बचें, छींकते समय साफ रूमाल का प्रयोग करें, सर्दी जुकाम या खांसी से प्रभावित व्यक्ति से दूरी बनाकर रखें, खांसी बुखार या सांस लेने में तकलीफ होने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने भीड़-भाड़ से दूर रहें। धैर्य बनाए रखते हुए चिकित्सक से जरूरी परामर्श लेना चाहिए। क्रमांक 79/अहरवाल

कोई टिप्पणी नहीं: