सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 17 जून 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 17 जून

कलेक्टर ने किए धारा 144 अंतर्गत प्रतिबंधात्मक आदेश जारी , प्रत्येक रविवार को रहेगा जनता कर्फ्यू


सीहोर जिले में कोरोना संक्रमण की दर में कमी को देखते हुए कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री चन्द्र मोहन ठाकुर द्वारा समय-समय पर कोरोना कर्फ्यू के प्रतिबंधों में शिथिलता के संबंध में आदेश जारी किए गए है। इसी क्रम में 15 जून 2021 में जारी दिशा-निर्देशों के परिपालन में पूर्व में जारी कोरोना कर्फ्यू के सभी आदेशों को अधिक्रमित करते हुए दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के तहत सीहोर जिले की संपूर्ण राजस्व सीमा में प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किए गए हैं। जारी आदेशानुसार सभी सामाजिक, राजनैतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक आयोजन, मेले आदि जिनमें जनसमूह एकत्र होता है, प्रतिबंधित रहेंगे। स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक, प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। ऑनलाइन क्लासेस चल सकेंगी। सभी धार्मिक, पूजा स्थल खुल सकेंगे किन्तु एक समय में 06 से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं रह सकेंगे तथा उपस्थित जनों को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना बंधनकारी होगा। इसके अतिरिक्त धार्मिक स्थलों के लिए विशेष गाइडलाइन बनाने की शक्तियाँ उपखंड स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट समिति को होगी। समस्त शासकीय अर्द्धशासकीय निगम मण्डल के कार्यालय 100 प्रतिशत अधिकारियों एवं 100 प्रतिशत कर्मचारियों की उपस्थिति में खुलेंगे। समस्त प्रकार की दुकाने, शॉपिंग मॉल, व्यवसायिक प्रतिष्ठान तथा निजी कार्यालय प्रातः 9 बजे से रात्रि 8 बजे तक खुल सकेंगे। सभी सिनेमा घर, थिएटर, स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे। समस्त वृहद, मध्यम, लघु एवं सूक्ष्म उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता पर कार्य कर सकेंगे तथा निर्माण गतिविधियों सतत चल सकेंगी। जिम एवं फिटनेस सेंटर्स रात 08 बजे तक 50 प्रतिशत केपेसिटी पर कोविड प्रोटोकॉल की शर्त का पालन करते हुए खुल सकेंगे। समस्त खेलकूद के स्टेडियम खुल सकेंगे किन्तु खेल आयोजनों में दर्शक शामिल नहीं हो सकेंगे। समस्त रेस्टोरेंट एवं क्लब 50 प्रतिशत केपेसिटी से रात्रि 10 बजे तक खुल सकेंगे। समस्त होटल एवं लॉज पूर्ण क्षमता अनुसार खुल सकेंगे। विवाह आयोजनों में दोनों पक्षों के मिलाकर अधिकतम 50 लोगों की उपस्थिति की ही अनुमति दी जा सकेगी। इस प्रयोजन के लिए आयोजक को संबंधित अनुविभागीय दण्डाधिकारी को अतिथियों के नाम की सूची आयोजन से पूर्व प्रदाय करना आवश्यक होगा। अधिकतम 10 लोगों के साथ अंतिम संस्कार की अनुमति रहेगी।


रूल ऑफ सिक्स

अनुमत्य गतिविधियों के अलावा किसी भी स्थान पर 6 से अधिक व्यक्तियों के एकत्र होने पर प्रतिबंध रहेगा। अन्राज्यीय तथा राज्यांतरिक माल एवं सर्विसेज का आवागमन निर्बाध रहेगा। जिन ग्रामों में कोविड-19 के पॉजिटिव केस पॉच या पॉच से अधिक है उन्हें रेड ग्राम के रूप में चिन्हांकित किया गया है। रेड ग्रामों में तथा नगरीय क्षेत्रों के माइक्रो कंटेनमेंट जोन एवं कंटेनमेंट जोन में कोविड-19 संक्रमण के संबंध में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दिशा-निर्देशों के अनुसार ही गतिविधियां संचालित हो सकेगी। जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों में प्रत्येक रविवार जनता कर्फ्यू रहेगा जो शनिवार रात्रि 10 बजे से सोमवार प्रातः 06 बजे तक प्रभावी रहेगा। उक्त अवधि में दूध डेयरी प्रातः 06 बजे से प्रातः 09 बजे तक तथा केमिस्ट एवं स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित प्रतिष्ठान पूरे दिन खुले रह सकेंगे, वैक्सीनेशन कार्य में संलग्न अधिकारियों, कर्मचारियों एवं वैक्सीनेशन कराने वाले व्यक्तियों को आने एवं जाने के लिए आवश्यक वस्तुओं के परिवहन, औद्योगिक इकाइयों के श्रमिकों, कर्मियों औद्योगिक, कच्चे माल तथा उत्पाद के परिवहन, बीमार व्यक्तियों के परिवहन एवं रेल्वे स्टेशन आने-जाने तथा परीक्षा, प्रतियोगिता परीक्षा में शामिल होने के लिए छूट रहेगी। जिले के समस्त नगरीय क्षेत्रों में रात्रि 10 बजे से प्रातः 06 बजे तक नाइट कर्फ्यू रहेगा।


कोविड- 19 प्रोटोकॉल एवं कोविड उपयुक्त व्यवहार/अनुशासन

सभी सार्वजनिक व व्यावसायिक प्रतिष्ठानों, दुकानों में कोविड-19 के प्रोटोकॉल (फेस मास्क, सैनिटाइजर, दो गज की दूरी गोले बनाना व रस्सी बाँधना) का पालन करना अनिवार्य होगा। ग्राहकों के मध्य पर्याप्त दूरी सुनिश्चित कर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाए। "नो मास्क नो सर्विस" अर्थात् जिस ग्राहक ने फेस मास्क नहीं पहन रखा होगा तो उसको सार्वजनिक व व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के मालिक, दुकानदार द्वारा कोई सामान विक्रय नहीं किया जायेगा। सार्वजनिक व व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के मालिक, दुकानदार स्वयं भी अनिवार्य रूप से मास्क का उपयोग करेंगें। यदि कोई सार्वजनिक व व्यावसायिक प्रतिष्ठानों के मालिक, दुकानदार "नो मास्क नो सर्विस प्रोटोकॉल का उल्लंघन करता पाया जाता है, तो दुकान को नियमानुसार सील करने की कार्यवाही की जायेगी। फेस मास्क फेस मास्क पहनना एक आवश्यक निवारक उपाय है। अपना मास्क लगाने से पहले, साथ ही इसे उतारने से पहले और बाद में, और किसी भी समय इसे छूने के बाद अपने हाथों को साफ करें। सुनिश्चित करें कि यह आपकी नाक, मुंह और ठुड्डी को पूरी तरह से कवर करे। जब आप किसी मास्क को उतारते हैं, तो उसे साफ प्लास्टिक बैग में स्टोर करें। कपड़े का मास्क हो तो उसे प्रतिदिन धोलें और मेडिकल मास्क को कूड़ेदान में फेंक सभी सार्वजनिक व कार्य स्थलों एवं परिवहन के दौरान फेस मास्क पहनना अनिवार्य होगा। "नो मास्क नो मूवमेंट" का सख्ती से पालन सुनिश्चित कराया जाए। सामाजिक दूरी बनाये रखने के लिए जहां तक संभव हो प्रत्येक परिवार घर के अंदर ही रहें एवं अन्य बाहरी व्यक्तियों से मेल-जोल कम रखें जिससे कोविड संक्रमण को प्रभावी रूप से रोका जा सके। सार्वजनिक स्थानों में प्रत्येक व्यक्ति 5 फिट यानी (2 गज की दूरी) बनाये रखेगा। भीड़-भाड़ वाली जगहों, विशेषकर बाजारों साप्ताहिक बाजारों और सार्वजनिक परिवहन में सामाजिक दूरी बनाए रखना संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए भी महत्वपूर्ण है। कार्यस्थलों के प्रभारी व्यक्तियों द्वारा श्रमिकों, कर्मियों के बीच पर्याप्त दूरी, पारियों को बदलने में पर्याप्त अन्तराल तथा लंच ब्रेक में उपयुक्त अंतराल आदि के माध्यम से सामाजिक दूरी को सुनिश्चित किया जाये। सभी व्यक्तियों को यह सलाह दी जाती है कि वे किसी ऐसी सतह, जो सार्वजनिक संपर्क में है, को छूने के उपरांत साबुन और पानी से हाथ धोएं, सैनिटाइजर का उपयोग करें। यह आदेश तत्काल प्रभावशील है। आदेश का उल्लंघन करने वाले व्यक्ति के विरुद्ध भा.द.स. की धारा 188 एवं आपदा प्रबंधन अधिनियम के प्रावधानों के अंतर्गत कार्यवाही की जाएगी।


सुपर 5000 - कक्षा 10 वीं और 12 वीं में आवेदन की अंतिम तिथि 31 जुलाई


मध्यप्रदेश भवन एवं अन्य संनिर्माण कर्मकार मण्डल, भोपाल सचिव द्वारा निर्माण संघ के पात्र बच्चों के लिए संचालित सुपर 5 हजार कक्षा 10 वीं और 12 वीं योजना के तहत आवेदन प्राप्त करने की तिथि 31 जुलाई तक बढ़ाई गई है। इस अवधि में कार्यालय में प्राप्त आवेदनों पर श्रमपदाधिकारी नियमानुसार कार्यवाही करेगें। कोरोना महामारी के कारण आवेदन प्रस्तुत करने की समय सीमा बढ़ाई गई है। 


किसान अपना पंजीयन 20 जून तक करा सकते हैं - मंत्री श्री पटेल

  • ग्रीष्मकालीन मूंग के उपार्जन के पंजीयन की तिथि बढा़ई गई

किसान-कल्याण तथा कृषि विकास मंत्री श्री कमल पटेल ने कहा है कि ग्रीष्मकालीन मूंग फसल उत्पादक किसान समर्थन मूल्य पर फसल के विक्रय के लिये 20 जून तक पोर्टल पर पंजीयन करा सकते हैं। श्री पटेल ने बताया कि पूर्व में पंजीयन की तिथि 16 जून तक ही थी, जिसे अब 4 दिन और बढ़ा दिया गया है। पंजीयन से छूटे हुए किसान इसका लाभ ले सकते हैं। मंत्री श्री पटेल ने बताया कि भारत सरकार द्वारा घोषित समर्थन मूल्य पर ग्रीष्मकालीन मूंग का उपार्जन प्रारंभ कर दिया गया है। पूर्व में इस योजना का लाभ 27 जिलों को मिल रहा था। अब इनमें भोपाल, बुरहानपुर और श्योपुरकला को भी शामिल कर लिया गया है। इस प्रकार प्रदेश के 23 जिलों में ग्रीष्मकालीन मूंग का उपार्जन किया जायेगा।


उर्वरक बैग, बीज एवं कीटनाशक अच्छी तरह से जांच-परख के बाद ही क्रय करें किसान


संयुक्त संचालक, किसान कल्याण तथा कृषि विकास श्री बी.एल. बिलैया द्वारा जिले के समस्त कृषकों से अपील की गई है कि वे सहकारी समितियों विपणन केन्द्रों, निजी विक्रेताओं से उर्वरक, कीटनाशक, बीज खरीदते समय यूरिया, डीएपी एवं सुपर फास्फेट उर्वरक बैग, बीज एवं कीटनाशक की अच्छी तरह से जांच-परख करने के बाद ही क्रय करें। क्रय किये गये उर्वरक, कीटनाशक एवं बीज का पक्का बिल दुकानदार से प्राप्त करें। बिल में दर्शाई गई कीमत से अधिक भुगतान न करें। बिना लायसेंस की दुकानों से कोई भी सामग्री क्रय नही करें। पंजीकृत उवर्रक, कीटनाशक एवं बीज विक्रेताओं से ही कृषि आदान सामग्री खरींदे। यदि कृषि आदान सामग्री की गुणवत्ता के संबंध में किसी भी प्रकार की शंका होती है अथवा दुकानदार निर्धारित कीमत से अधिक कीमत मांगता है तो किसान निडर होकर बिना किसी संकोच के अपने विकासखंड अंतर्गत आने वाले कृषि विभाग के अधिकारी से सम्पर्क कर सूचित कर सकते है।


हमारा घर-हमारा विद्यालय-प्रयास अभ्यास पुस्तिका 15 जुलाई से पहले होगी वितरित


छोटे बच्चों में भावनात्मक विकास और शैक्षणिक समझ विकसित करने के लिए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा ’आओ सीखें कार्यक्रम’ में 15 जुलाई 2021 तक  विभिन्न विषयों पर तैयार किए गए ऑडियो वीडियो व्हाट्सएप ग्रुप के माध्यम से  बच्चों तक पहुंचाए जाएंगे। आधारित विभिन्न छोटे ऑडियो और वीडियो भेजे जाएँगे। संचालक राज्य शिक्षा केंद्र ने बताया कि इसके साथ ही हमारा घर-हमारा विद्यालय के अंतर्गत बच्चों में विषय की प्रारंभिक समझ को विकसित करने की दृष्टि से प्रयास- अभ्यास पुस्तिका का वितरण भी 15 जुलाई से पहले किया जाएगा। 15 जुलाई के पहले अभ्यास पुस्तिका  बच्चों को उपलब्ध कराने के संबंध में सभी जिला परियोजना समन्वयकों को निर्देश दिए गए हैं। 16 जुलाई से 15 अगस्त तक विद्यार्थियों  को मेल पर प्रेषित की जाएगी। अभ्यास पुस्तिका के 48 पेज की सामग्री को जिले स्तर पर कक्षा 1 व 2 और कक्षा 3 से 5 के लिए बहुरंगी तथा कक्षा 6 से 8 के लिए ब्लैक एंड व्हाइट प्रिंट में मुद्रित कराकर बच्चों को उनके घर पर कार्य करने के लिए 15 जुलाई के पूर्व उपलब्ध कराई जाएगी।


मेडिकल, पैरामेडिकल और नर्सिंग सत्र जुलाई से होगा शुरू

  • प्रवेशित छात्र-छात्राओं को दिया जायेगा कोविड प्रोटोकॉल का प्रशिक्षण मंत्री श्री सारंग ने सभी प्रवेशित विद्यार्थियों का वैक्सीनेशन सुनिश्चित करने के दिये निर्देश

चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास मंत्री श्री विश्वास कैलाश सारंग ने मेडिकल, पैरामेडिकल और नर्सिंग कक्षाएँ जुलाई से शुरू करने के निर्देश दिये हैं। श्री सारंग ने कहा कि विद्यार्थियों का प्रवेश के समय अनिवार्य रूप से टीकाकरण सुनिश्चित करें। श्री सारंग ने कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनज़र तीनों ही विधाओं में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को पहले हफ्ते कोरोना प्रोटोकॉल का प्रशिक्षण देने के निर्देश भी दिये। श्री सारंग ने यह निर्देश मंत्रालय में चिकित्सा शिक्षा और भोपाल गैस त्रासदी, राहत एवं पुनर्वास विभागों की गतिविधियों की समीक्षा करते हुए दिए। मंत्री श्री सारंग ने मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय को सभी परीक्षाएँ और परीक्षा परिणाम समय-सीमा में घोषित करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के कारण लंबित बेकलॉग का जल्द से जल्द निपटारा करें। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक गतिविधियों में अकारण विलंब को बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। प्रदेश के 36 मेडिकल और डेंटल निजी एवं शासकीय कॉलेजों में विद्यार्थियों की संख्या 16 हजार 500, नर्सिंग के 1,420 कॉलेज में 59 हजार 900 और पैरामेडिकल के 172 कॉलेज में 12 हजार 600 है। अभी ऑनलाइन संचालित की जा रही कक्षाएँ जुलाई से ऑफलाइन हो जायेंगी। कोरोना महामारी के कारण मानसिक रूप से प्रभावित छात्र-छात्राओं को मनो-चिकित्सक की सुविधाएँ भी उपलब्ध कराई जायेंगी। बैठक में यूनियन कार्बाइड के रासायनिक कचरे के विनिष्टिकरण, गैस पीड़ित विधवा पेंशन योजना, भोपाल गैस मेमोरियल निर्माण, आयुष्मान योजना, नई डिस्पेंसरी खोलने, गैस प्रभावितों के आर्थिक पुनर्वास और चिकित्सा सुविधाओं पर चर्चा की गई। आयुक्त चिकित्सा शिक्षा श्री निशांत बरवडे़, संचालक श्रीमती उल्का श्रीवास्तव, संचालक भोपाल गैस त्रासदी श्री बसंत कुर्रे और दोनों विभागों के वरिष्ठ अधिकारी बैठक में मौजूद थे।  


15 अगस्त तक वर्षा ऋतु में मत्स्याखेट प्रतिबंधित


मध्यप्रदेश नदीय नियम 1972 के नियम 3’ 34 धारा (2) के अंतर्गत 16 जून से 15 अगस्त तक मत्स्य प्रजनन काल की अवधि होने के कारण इस बंद ऋतु के दौरान मछली मारने, क्रय करने या इन्हें बेचने या पकड़ने या बेचने की चेष्टा करने, परिवहन करने या परिवहन का प्रयास करने पर प्रतिबंध रहेगा। इस प्रतिबंध का उल्लंघन किए जाने पर एक वर्ष तक के कारावास या 5 हजार रुपये तक के जुर्माने या दोनों दण्ड दिए जा सकेंगे। छोटे तालाब व अन्य स्त्रोत जिनका कोई संबंध किसी नदी से नहीं है और जिन्हें निर्दिष्ट जल की परिभाषा के अंतर्गत नहीं लिया गया है, के लिए उक्त नियम लागू नहीं होगा।


मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड की विद्या बालन स्टारर फिल्म शेरनी के साथ भागीदारी

  • मध्यप्रदेश टूरिज्म के विस्तृत मार्केटिंग कैंपेन की अभिनव पहल 'शेरनी'  का वर्ल्ड प्रीमियर, 18 जून को अमेज़न प्राइम वीडियो पर

मध्यप्रदेश टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड ने आगामी और बहुप्रतीक्षित फिल्म, अभिनेत्री विद्या बालन स्टारर "शेरनी" के निर्माताओं- टी-सीरीज़ और अबूदंतिया इंटरटेनमेंट के साथ मार्केटिंग साझेदारी की है। प्रमुख सचिव, पर्यटन श्री शिव शेखर शुक्ला ने बताया कि फिल्म "शेरनी" को मध्यप्रदेश के वास्तविक और मनोहारी जंगलों, कान्हा नेशनल पार्क, रायसेन के भूत पलासी और बालाघाट के आसपास के क्षेत्रों में शूट किया गया है। फिल्म "शेरनी" का वर्ल्ड प्रीमियर 18 जून को 240 से अधिक देशों में अमेज़न प्राइम वीडियो पर रिलीज होगा। प्रदेश की नैसर्गिक सुंदरता से पर्यटकों को रू-ब-रू कराने और पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड, "शेरनी" फिल्म के निर्माताओं के साथ सिंबायोटिक मार्केटिंग और प्रमोशन कैंपेन में भागीदारी कर रहा है। सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया में हैशटैग #MPKiSherni के साथ फिल्म का प्रमोशन किया जा रहा है। श्री शुक्ला ने बताया कि जब से हमने पहली बार "शेरनी" की कहानी सुनी थी, तब से हम जानते थे कि यह मध्यप्रदेश के जंगलों की सुंदरता और विरासत को दुनिया के सामने प्रदर्शित करने का उपयुक्त वाहक होगा। वन संरक्षण और पर्यटकों को रोमांचक वन्यजीव पर्यटन का अनुभव कराने के लिए वन विभाग का भी पूरा सहयोग मिला है। श्री शुक्ला ने कहा कि यह खुशी की बात है कि फिल्म "शेरनी" अब न केवल हमारे राज्य की सुंदरता को दुनिया के सामने लाएगी, बल्कि वेलनेस टूरिज्म, आदिवासी कला और संस्कृति, हस्तशिल्प और मध्यप्रदेश की विभिन्न अनूठी पहलों की ओर भी ध्यान आकर्षित करेगी। राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्यों को पूरा करने के लिए मध्यप्रदेश पर्यटन बोर्ड प्रतिभाशाली अभिनेत्री विद्या बालन और फिल्मकार श्री अमित मसुरकर, टी-सीरीज़ और अबुदंतिया एंटरटेनमेंट जैसे के साथ साझेदारी करके उत्साहित है। फिल्म निर्माण में सहयोग देने वाले सहायक वन संरक्षक श्री रजनीश के सिंह ने कहा कि यह साधारण बात नहीं हैं कि हमें "शेरनी" जैसी कहानियों का हिस्सा बनने का मौका मिला है, जो पर्यावरण एवं विकास और मानव-पशु संघर्ष प्रबंधन के बीच संतुलन बनाए रखने जैसे मुद्दों पर चर्चा करती है और उसे समाज के सामने लाती हैं। हमें गर्व है कि हमारे विभाग द्वारा प्रतिदिन किया जाने वाला अद्भुत कार्य अब दुनिया देखने वाली है। हमें दुनिया को हमारे अद्भुत जंगलों और फिल्मकारों द्वारा पेश किए जाने वाले अनुभवों को देखने का इंतजार रहेगा। फिल्म "शेरनी" में मुख्य किरदार निभा रही अभिनेत्री श्रीमती विद्या बालन ने मध्यप्रदेश में शूटिंग के अनुभवों को सांझा करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के जंगलों में वास्तविक और लाइव स्थानों पर फिल्म की शूटिंग करना मेरे लिए जीवन-भर का अनुभव रहा है। मध्यप्रदेश की नैसर्गिक सुंदरता और विरासत ने फिल्म की कहानी को एकदम सही पृष्ठभूमि प्रदान की है। उम्मीद है कि फिल्म को देखना दर्शकों के लिए एक अनूठा अनुभव होगा। उन्होंने बताया कि उन्हें मध्यप्रदेश में शूटिंग करने में उन्हें बहुत मजा आया और यहाँ के लोगों के मिलनसार व्यवहार ने इसे और भी खास बना दिया। फिल्म "शेरनी" मानव जाति और जानवरों के बीच संघर्ष के जटिल मुद्दों की खोज करती है। फिल्म में अभिनेत्री विद्या बालन एक मध्य स्तरीय वन अधिकारी की भूमिका निभा रही है, जो कई बाधाओं और सामाजिक दबावों के बावजूद भी अपनी टीम और स्थानीय सहयोगियों के साथ पर्यावरण में संतुलन बनाए रखने के लिए संघर्ष करती है। फिल्म एक संवेदनशील विषय से संबंधित है, जो न केवल मानव-पशु के बीच बल्कि मनुष्य के बीच भी सम्मान, आपसी समझ और सहअस्तित्व के विभिन्न पहलुओं को छूती हैं।


आज 1122 व्यक्तियों को लगा कोरोना का टीका 


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में कोविड टीकाकरण किया जा रहा है। वार को जिले के 08 सत्रों में कुल 1122 व्यक्तियों को कोरोना का प्रथम एवं द्वितीय टीका लगाया गया। बुधनी के 05 सत्र में 970, नसरुल्लागंज के 02 सत्र में 42 एवं श्यामपुर के 01 सत्र में 110 व्यक्तियों को कोविड का टीका लगाया गया।


21 जून से शुरू हो रहे टीकाकरण महोत्सव के लिये ऑनलाइन बुकिंग शुरू

  • - सीहोर शहरी क्षेत्र के लिये महिला पालिटेक्निक कॉलेज में निरंतर आयोजित हो रहा सत्र , 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिये होंगी ऑनलाइन बुकिंग

21 जून से प्रदेश व्यापी टीकाकरण महोत्सव का शुभारम्भ होगा. 18 से 44 वर्ष आयु वर्ग के लिये सीहोर के शासकीय महिला पालिटेक्निक कॉलेज में कोविड 19 टीकाकरण की व्यवस्था जारी है. 21 जून को आयोजित महोत्सव के लिये ऑनलाइन बुकिंग प्रारम्भ कर दी गई है। यह बुकिंग सीहोर शहर क्षेत्र के लिये होंगी। जिला टीकाकरण अधिकारी डाक्टर एम. के. चंदेल ने जानकारी दी की टीका महोत्सव को लेकर लक्ष्यगत व्यापक तैयारी की जा रही है। तथा इस सम्बन्ध में सभी बीएमओ को भी सभी जरुरी दिशा निर्देश मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाक्टर सुधीर कुमार डेहरिया द्वारा जारी किये गए है।


जिले में अभी तक 3 लाख 8 हजार 855 लोगो ने लगवाया कोविड का टीका

  • जिले के 268546 लोगों को प्रथम डोज तथा 40309 द्वितीय डोज लगा, 18 प्लस वाले 99882 लगे डोज, जिसमें 97 हजार 598 प्रथम तथा 2 हजार 284 द्वितीय डोज शामिल है

sehore news
कोविड टीकाकरण अभियान के अंतर्गत अब तक 3 लाख 8 हजार 855 डोज जिले के नागरिकों को लगाए जा चुके है। जिसमें प्रथम डोज 268546 तथा द्वितीय डोज 40309 लगाए गए है। 18 प्लस वाले व्यक्तियों को 99 हजार 882 डोज लगाए जा चुके हैं। जिसमें 97 हजार 598 प्रथम तथा 2 हजार 284  द्वितीय डोज शामिल है। 18 प्लस आयु वर्ग का टीकाकरण 05 मई 2021 से प्रारंभ किया गया था। विकासखण्ड आष्टा में वैक्सीन के 71 हजार 282 दोनों डोज लगाए जा चुके है। बुधनी में 41 हजार 263, इछावर में 38 हजार 944, नसरूल्लागंज में 47 हजार 887, श्यामपुर में 51 हजार 819 तथा जिला चिकित्सालय के अंतर्गत सीहोर शहरी क्षेत्र में 57 हजार 660 टीके के डोज हितग्राहियों को लगाए जा चुके है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि जिले में अब तक टीकाकरण के 3 हजार 623 सत्र आयोजित किए गए है। विकासखण्ड आष्टा में 821 सत्र,  बुदनी 624, इछावर 438, नसरुल्लागंज 897, श्यामपुर 1180 तथा सीहोर शहरी क्षेत्र में 1247 टीकाकरण सत्र विभिन्न टीकाकरण केन्द्रों पर आयोजित किए जा चुके हैं। कोविड-19 टीकाकरण का महाअभियान 16 जनवरी से प्रारंभ हुआ था जिसमें हेल्थ केयर वर्कर्स का टीकाकरण प्रारंभ किया गया था अब तक हेल्थ केयर वर्कर को 6 हजार 346 प्रथम डोज तथा 5 हजार 517 द्वितीय डोज लगाए जा चुके है। 06 फरवरी को फ्रंटलाइन वर्कर्स का द्वितीय चरण प्रारंभ किया गया था। जिले में फ्रंटलाइन वर्कर्स को 5 हजार 632 प्रथम डोज तथा 5 हजार 16 द्वितीय डोज लगाए जा चुके हैं। 01 मार्च 2021 से 60 प्लस आयु वर्ग वाले तथा 20 चिन्हित बीमारी वाले 45 प्लस आयु वर्ग वाले व्यक्ति टीकाकरण के लिए चिन्हित किए गए थें। जिले में 60 प्लस आयु वर्ग वाले व्यक्तियों को 78 हजार 2018 प्रथम डोज तथा 17 हजार 111 द्वितीय डोज लगाए जा चुके है। 45 से 60 वर्ष के मध्य आयु वर्ग के 80 हजार 752 प्रथम डोज तथा 10 हजार 381 द्वितीय डोज लगाए जा चुके है।


जिले में आज एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला

  • एक व्यक्ति रिकवर हुआ, कुल रिकवर व्यक्ति की संख्या 9994, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजिटिव की संख्या 13

पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में एक व्यक्ति कोविड-19 पॉजिटिव मिला। जो श्यामपुर अन्तर्गत ग्राम रलावती का रहने वाला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10122 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव 13 हैं। आज 01 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 9994 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 115 है । आज 1177 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 280, श्यामपुर से 221, विकासखंड नसरुल्लागंज से 140, आष्टा से 253 एवं बुधनी से 101 तथा इछावर से 182 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 160016 हैं जिनमें से 147746 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 1223 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 2077 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर जिला कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर का मोबाइल नंबर 9425400273, 7987652577, 9425400453 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारंटाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारंटाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकोलॉजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा योजना हेतु ऑनलाइन आवेदन सुविधा पोर्टल पर उपलब्ध


सामान्य प्रशासन विभाग मध्यप्रदेश शासन द्वारा मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना के क्रियान्वयन के लिए पोर्टल संबंधी निर्देश जारी किए गए है। जारी निर्देश के अनुसार मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकंपा नियुक्ति योजना लागू की गई है। उक्त योजना के तहत प्राप्त प्रकरणों के निराकरण के लिए एमपी ई-सर्विस पोर्टल पर लिंक https://services.mp.gov.in में अनुकंपा नियुक्ति योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन किए जाने हेतु सेवा उपलब्ध कराई गई है। साथ ही आवेदन संबंधित प्रक्रिया तथा योजना के विस्तृत दिशा-निर्देश आमजन की सुविधा के लिए पोर्टल पर उपलब्ध है। योजना का क्रियान्वयन उपरोक्त निर्देशों के अनुसार किया जाएगा। साथ ही यह भी सुनिश्चित किया जाए कि उक्त निर्देश जारी होने के दिनांक से समस्त आवेदन पत्र ऑनलाइन ही ग्राहय किए जाएंगे। काई भी आवेदन ऑफलाइन ग्राहय नही किया जाएगा एवं पूर्व में प्राप्त सभी ऑफलाइन आवेदनों को इस पोर्टल पर अनिवार्य रूप से संबंधित कार्यालय द्वारा दर्ज किया जाकर निर्धारित समय-सीमा में निराकृत किया जाएगा। साथ ही उक्त पोर्टल लिंक का प्रचार-प्रसार अपने अधीनस्थ कार्यालयों में भी किया जाना सुनिश्चित किया जाए।


प्रदेश में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस-21 जून से प्रारंभ होगा वैक्सीनेशन महा-अभियान

  • सभी 18+ नागरिकों को लगेगी नि:शुल्क वैक्सीन, वैक्सीन लगवाएँ, स्वयं को कोरोना से सुरक्षित करें
  • मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश के समस्त क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों को संबोधित किया  

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के कुशल नेतृत्व में 21 जून-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से पूरे देश के साथ ही प्रदेश में भी कोरोना वैक्सीनेशन का महा-अभियान प्रारंभ होगा। अभियान के अंतर्गत 18+ आयु के सभी व्यक्तियों को कोरोना का वैक्सीन नि:शुल्क लगाया जाएगा।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीन कोरोना के विरूद्ध सुरक्षा चक्र है। अत: न केवल वैक्सीन लगवाकर स्वयं को कोरोना से सुरक्षित करें, अपितु दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित करें। आप सभी के सक्रिय सहयोग से जिस प्रकार हमने प्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर को नियंत्रित किया है, वैसे ही हम तीसरी लहर का प्रभाव मध्यप्रदेश पर नहीं पड़ने देंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रदेश के समस्त जिला, ब्लॉक, वार्ड और ग्राम क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों को संबोधित कर रहे थे। जिला मुख्यालय पर कलेक्ट्रेट परिसर में स्थित एनआईसी कक्ष में आष्टा विधायक श्री रघुनाथ सिंह मालवीय, कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर, एसपी श्री एसएस चौहान, सीईओ जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह तथा श्री सीताराम यादव, श्री राजेश राठौर, श्री राजकुमार गुप्ता सहित क्राइसिस मेनेजमेंट के सदस्य उपस्थित थे।


कोरोना पूरी तरह नियंत्रित

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में सभी के सहयोग से कोरोना लगभग पूरी तरह नियंत्रित हो गया है। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 0.2% आ गई है। आज किए गए 73 हजार टेस्ट में से 145 व्यक्ति पॉजिटिव आए हैं। केवल भोपाल और इंदौर में ही कोरोना के दहाई में प्रकरण हैं। प्रदेश की रिकवरी रेट भी बढ़कर 98.52% हो गई है।


हमको लगातार सावधान रहना ही होगा

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इंग्लैण्ड सहित विश्व के कई देशों में कोरोना फिर बढ़ रहा है। हमको लगातार सावधान रहना ही होगा। मास्क लगाना, परस्पर दूरी रखना, कहीं भी भीड़ नहीं करना आदि सभी सावधानियाँ बरतनी होंगी। सरकार कोरोना से लड़ने की सारी व्यवस्थाएँ कर रही हैं। अस्पतालों में बेड्स बढ़ाना, ऑक्सीजन, दवाओं का भंडारण, बच्चों के वार्ड/आई.सी.यू. वार्ड तैयार करना आदि काम किए जा रहे हैं। क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों को अपने क्षेत्रों में यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी कोविड अनुरूप व्यवहार करें और कोरोना गाइड लाइन का शत-प्रतिशत पालन किया जाए।


योग भी करें और वैक्सीन भी लगवाएँ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 21 जून-अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर सभी योग करें और 18+ के व्यक्ति, जिन्होंने वैक्सीन नहीं लगवाया है, वैक्सीन लगवाएँ। इस दिन छोटे-छोटे समूहों में भी दूरी बनाकर योग किया जा सकता है। क्राइसिस मैनेजमेंट समूह इस अभियान का संचालन करें।


बुजुर्गों को टीकाकरण केन्द्र पर लाने की व्यवस्था करें

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि बुजुर्गों को टीकाकरण केन्द्र तक लाने की व्यवस्था की जाए। साथ ही, जो अधिक बुजुर्ग हैं, उनके घर जाकर वैक्सीन लगाने की भी व्यवस्था करें। यह ध्यान रखा जाए कि वैक्सीन का एक डोज़ भी बेकार न हो।


वैक्सीनेशन महा-अभियान की रूपरेखा

• वैक्सीनेशन महा-अभियान 21 जून 2021 को प्रात: 10 बजे से प्रारंभ होगा।

• प्रदेश के 7000 टीकाकरण केन्द्रों पर एक साथ अभियान प्रारंभ किया जाएगा। प्रत्येक सेंटर पर एक-एक प्रमुख व्यक्ति वैक्सीनेशन मोटिवेटर अर्थात टीकाकरण प्रेरक के रूप में भेजा जाएगा। यह व्यक्ति समाज के जाने-माने व्यक्ति होंगे जैसे मंत्री, विधायक, अन्य जन-प्रतिनिधि, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य, धर्मगुरू, समाजसेवी, कलाकार, खिलाड़ी, साहित्यकार, पत्रकार, विश्लेषक, पद्म पुरस्कार प्राप्त शिक्षक, अधिकारी इत्यादि।

• जिन हस्तियों को वैक्सीन मोटिवेटर के रूप में आमंत्रित किया गया है, उनकी वैक्सीन लगवाने की अपील भी ज़ारी की जाएगी।

• आमंत्रित वैक्सीनेशन मोटिवेटर टीकाकरण केंद्र पर दीप प्रज्वलन करेंगे और टीका लगवाने वाले व्यक्तियों के माथे पर टीका लगाकर उनका स्वागत करेंगे।

• स्थानीय स्तर पर स्थानीय कार्यकर्ताओं की टोलियाँ बनाकर लोगों के घरों में जाकर उन्हें वैक्सीनेशन कराने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

• कार्यक्रम के दौरान उपस्थित लोगों को स्वयं वैक्सीन लगवाने और अन्य लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई जाएगी।

•  21 तारीख के बाद यह कार्यक्रम निरंतर चलेगा। जिन स्थानों पर वैक्सीनेशन पूरा हो जाएगा, वहाँ से वैक्सीनेशन सेंटर अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया जाएगा।

• 1, 2 व 3 जुलाई को पुन: वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने के लिए जागरूकता यात्राएँ निकाली जाएंगी।  


15 अगस्त तक चलाया जाएगा उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक गुण नियंत्रण अभियान


खरीफ फसलों की बोनी का कार्यक्रम प्रारंभ हो चुका है। कृषकों को मानक स्तर का खाद, बीज एवं पौध संरक्षण दवाईयाँ उपलब्ध हो इसके लिये विभाग द्वारा 15 जून से 15 अगस्त तक विशेष उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक गुणनियंत्रण अभियान चलाया जा रहा है। किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उपसंचालक श्री आरके जाट ने जानकारी दी कि इस अभियान के अन्तर्गत जिला स्तर पर 2 उड़नदस्ता दल एवं विकासखंड स्तर पर 5 उड़नदस्ता दल गठित किये गये है। जो सहकारी एवं निजी व्यापारियों के यहाँ पर उपलब्ध खाद, बीज एवं कीटनाशक की गुणवत्ता के लिए विक्रय केन्द्रों का निरीक्षण किया जा रहा है। आवश्यकतानुसार नमूने लेकर परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजे जा रहे हैं। यदि किसी भी उर्वरक, बीज एवं कीटनाशक विक्रेता के विक्रय केन्द्र पर अनियमितता पाई जाती है तो उनके विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी। अभी तक उर्वरक  के 98 नमूने तथा बीज के 64 नमूने लेकर परीक्षण के लिए प्रयोगशाला भेजे गये हैं। निरीक्षण एवं नमूने लेने का कार्यक्रम निरंतर जारी है। उन्होंने सभी किसानों से आग्रह किया है कि वे जिस संस्था से आदान सामग्री क्रय करें वहाँ से पक्का बिल लें। सहकारी एवं निजी व्यापारियों से अनुरोध है कि वे उत्तम गुणवत्ता का खाद, बीज एवं कीटनाशक निर्धारित मूल्य पर ही विक्रय करें एवं कृषकों को पक्का बिल दें, यदि किसी प्रकार की अनियमितता पाई जाती तो विक्रेता के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।


युवा शक्ति से कोरोना मुक्ति अभियान पर प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण संपन्न


sehore news
युवा शक्ति से कोरोना मुक्ति अभियान पर मास्टर प्रशिक्षकों  का एक दिवसीय प्रशिक्षण सीएमएचओ कार्यालय स्थित सभाकक्ष में संपन्न हुआ। शासकीय महाविद्यालय के प्रशिक्षकों को जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ.महेश कुमार चंदेल द्वारा विस्तार प्रशिक्षण प्रदान किया गया। प्रशिक्षण में तकनीकी सहयोग जिला कार्यक्रम प्रबंधक श्री धीरेन्द्र आर्य द्वारा प्रदान किया गया। प्रशिक्षण में अग्रणी महाविद्यालय के प्राध्यापक उपस्थित थे। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.सुधीर कुमार डेहरिया ने जानकारी दी कि कोविड अनुकूल व्यवहार के लिए गठित मंत्री समूह की अनुशंसा के आधार पर बनाई गई रणनीति अनुसार युवा शक्ति-कोरोना मुक्ति अभियान के अंतर्गत उच्च शिक्षा विभाग तथा तकनीकी शिक्षा विभाग के शासकीय विश्वविद्यालयों तथा महाविद्यालयों  में अध्ययनरत विद्यार्थियों के माध्यम से कोविड अनुकूल व्यवहार के पालन में समाज की सहभागिता सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाएगा। वैक्सीनेशन के लिए जागरूकता लाने के लिए फोर्स मल्टीप्लायर का कार्य करेंगे। इसके लिए जिला स्तर पर अग्रणी महाविद्यालयों के प्राध्यापकों का प्रशिक्षकों का प्रशिक्षण जिला स्तर पर सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। प्रशिक्षित प्राध्यापक संस्था स्तर पर जिले के विभिन्न महाविद्यालयों में पदस्थ प्राध्यापकों को प्रशिक्षित करेंगे। जिसके पश्चात विद्यार्थियों को वैक्सीनेशन अनुकूल व्यवहार हेतु प्रशिक्षित किया जाएगा।

कोई टिप्पणी नहीं: