विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 18 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 18 जून 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 18 जून

कांग्रेस ने मनाया महारानी लक्ष्मीबाई का बलीदान दिवस


vidisha news
विदिशाः- महारानी लक्ष्मीबाई के बलीदान दिवस के अवसर पर कांग्रेस नेताओं ने बडा बाजार स्थित महारानी लक्ष्मीबाई की प्रतिमा पर श्रद्धाशुमन अर्पित किए। इस अवसर पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष कमल सिलाकारी ने कहा कि महारानी लक्ष्मीबाई ने कभी भी अंग्रेजों की गुलामी स्वीकार नहीं की। महिला होने के बावजूद उन्होंने ब्रिटिश हुकुमत के आगे झुगना मंजूर नहीं किया। इसी कारण उनका नाम विश्व में नारी शक्ति का प्रतीक है। विधायक शशांक भार्गव ने कहा कि महारानी लक्ष्मीबाई ने अपने अदभुत शौर्य एवं पराक्रम से न सिर्फ अंग्रेजों को नतमस्तक किया बल्कि पूरे विश्व में भारतीय वसुंधरा को गौरवान्वित किया है। महारानी लक्ष्मीबाई उन्हें भारतीय इतिहास में वीरता ओर स्वाभिमान का नया अध्याय जोडा है जो सदियो तक देशवासियों को प्रेंिरत करता रहेगा। इस अवसर पर नंदकिशोर शर्मा, वीरसिंह रघुवंशी, अजय कटारे, अंशुज शर्मा, विजयकांत रैकवार, राजकुमार पासी, मुकेश शर्मा, अब्दुलहक, अमीत सोनी, कोमल जाटव, अनूप अग्रवाल, जाबेद मंसूरी, मुआज कामिल, विप्पे रघुवंशी, शहजाद खाॅ, भोला सोनी, नरेश यादव, फजल शैख सहित कई कांग्रेस नेता उपस्थित रहे।


आधार कार्ड अथवा अन्य कोई पहचान पत्र नहीं होने पर भी वैक्सीनेशन हेतु पंजीयन की पात्रता दी जावे- भार्गव


विदिशाः- विधायक शशांक भार्गव ने कलेक्टर विदिशा को पत्र लिखकर कहा कि वर्तमान में कोविड-19 बीमारी से बचाव के लिए जो वैक्सीनेशन का कार्य किया जा रहा है, उसमें आधार कार्ड अथवा अन्य पहचान पत्रों को माध्यम बनाकर वैक्सीनेशन हेतु पंजीयन किया जा रहा है, जबकि इस संबंध में यह बात ध्यान देने योग्य है कि विदिशा जिले में ऐसे भी लोग निवासरत है, जो भारत के नागरिक है लेकिन उनके पास किन्हीं करणवश आधार कार्ड अथवा अन्य कोई पहचान का अधिकृत प्रमाण पत्र नहीं होेने से यह लोग वैक्सीनेशन की प्रक्रिया से वंचित किये जा रहे है, जबकि कोरोना महामारी के संक्रमण को ध्यान में रखते हुये वैक्सीनेशन का कार्य अधिकतम किया जाना है, जिससे कि महामारी के बचाव के प्रति किए जा रहे प्रयासों में कोई कमी न रहे एवं आने वाले दिनों में शतप्रतिशत वैक्सीनेशन का कार्य पूरा किया जा सके। उन्होने मांग की कि जिले में निवासरत ऐसे लोग जिनके पास आधार कार्ड अथवा अन्य कोई पहचान पत्र नहीं है, उनको भी वैक्सीनेशन केन्द्रो पर वैक्सीनेशन लगाये जाने के संबंध में निर्देश दिये जाये, जिससे कि कोरोना महामारी के संक्रमण को रोके जाने के प्रयासो को शतप्रतिशत सफलता प्राप्त हो सके। 


मुख्यमंत्री जी ने विद्यार्थियों से ऑनलाइन संवाद किया


vidisha news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से युवा शक्ति कोरोना मुक्ति अभियान कार्यक्रम का शुभांरभ वर्चुअल के माध्यम से किया है। अभियान में प्रदेश के समस्त महाविद्यालयों के साथ-साथ शासकीय कन्या अग्रणी स्नातकोत्तर महाविद्यालय विदिशा की छात्राएं भी शामिल हुई।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने महाविद्यालय के विद्याथियों से संवाद कर कोरोना के दौरान उन्होंनें किन समस्याओं का सामना किया है और टीकाकरण के लिए आमजनों को कैसे जागरूक कर  रहे है। संवाद के माध्यम से जाना है।  अग्रणी महाविद्यालय की प्राचार्या डॉ मंजू जैन व डा रामू विश्वकर्मा ने छात्राओं को कोविड गाइड लाइन की विस्तृत जानकारी देते हुए टीकाकरण कराने और मास्क का उपयोग व सोशल डिस्टेन्सिग का पालन सही तरीके से कैसे करे कि विधि बतलाई है। युवा शक्ति कोरोना मुक्ति अभियान से उच्च शिक्षा से जुडे युवाओं के माध्यम से कोविड की समस्या को समूल रूप से नष्ट कर आमजन कोरोना से जीते की भूमिका तैयार करने के आवश्यक प्रबंधो पर गहन प्रकाश डाला है इस अवसर पर शासकीय कन्या अग्रणी स्नातकोत्तर महाविद्यालय की डॉ नीता पांडे, डॉ रेखा श्रीवास्तव, डॉ विनीता प्रजापति, डॉ सीमा चक्रवर्ती के अलावा श्री अस्मुरारीनंदन मिश्र, श्री रवि रंजन सहित अन्य के द्वारा कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु आवश्यक प्रबंधनो के अलावा जानकारियां संकलन कर उपलब्ध कराई गई है। 


अटल उद्यान में कलेक्टर ने पौधरोपण किया

vidisha news

अहमदपुर रोड पर स्थित अटल उद्यान में आज प्रातः कलेक्टर डॉ पंकज जैन अपनी माता और पुत्री के साथ पहुंचे और यहां उन्होंने पौधरोपण कार्यक्रम में सहभागिता निभाई है। इस अवसर पर नगरपालिका का अमला भी साथ मौजूद रहा।  कलेक्टर डॉ जैन ने अपनी पुत्री पंखुडी के हाथो से रोपित पौधो पर मिट्टी डलवाई। उन्होंने कहा कि पौधो की देखभाल अपने बच्चो की तरह ताकि रोपित एक भी पौधा नष्ट ना हो। उन्होंने पौधे की महत्वता और उपयोगिता के संबंध में चर्चा की। 


टीकाकरण कराने की सूचना अन्य को प्रेरित कर रही है


vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने स्वंय अपने परिवारिक सदस्यों का कोरोना वायरस कोविड 19 टीकाकरण वैक्सीनेशन कराने के उपरांत आमजनों को इसकी सूचना बकायदा कलेक्टर बंगला पर फ्लैक्स चस्पा कर आमजनों को अवगत करा रहे है इसी प्रकार का आव्हान उन्होंने नगर के सभी गणमान्य नागरिको, व्यापारीबंधुओं व सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों से किया है। कलेक्टर डॉ जैन ने टीकाकरण कराने की सूचना अन्य को अभिप्रेरित करें के उद्धेश्य से व्यापारीबंधु अपने व्यावसायिक प्रतिष्ठानों पर भी जागरूकता के लिए इस प्रकार की जानकारियां प्रदर्शित करें।  गौरतलब हो कि नगर के मुख्य मार्ग से गुजरने वाले वाहन चालको व अन्य का अनायास कलेक्टर बंगला की ओर ध्यान आकर्षित कर रहे है। बंगला पर फ्लैक्स के माध्यम से प्रदर्शित है कि मेरा परिवार कोविड 19 वैक्सीनेटेड है।


भू-स्वामी एवं कालोनाइजर के विरूद्व एफआईआर दर्ज


विदिशा उपखण्ड अधिकारी श्री गोपाल सिंह वर्मा ने बताया कि विदिशा की राधाकृष्णपुरम कालोनी खिरिया के भू-स्वामी एवं कालोनाइजर के विरूद्व एफआईआर दर्ज कराई गई है आवेदकगण अखिलेश मालवीय एवं अन्य के द्वारा कलेक्टर डॉ पंकज जैन को शिकायती आवेदन प्रस्तुत किया गया था।  अनावेदकगण भू-स्वामी कन्हैयालाल बछेरिया एवं कालोनाइजर हिम्मत सिंह पुत्र मालविंसह यादव विदिशा द्वारा सांठगांठ कर खिरिया स्थित भूमि सर्वे क्रमांक 507 में स्थित भूमि में से कुछ लोगो का भूमि का विक्रय अनुबंध कराकर सर्वे क्रमांक 506 का विक्रय अनुबंध कराकर सर्वे क्रमांक 507 में कब्जा देकर जालसाजी करके लाखो रूपए प्राप्त कर लिए है।  जांच अधिकारी, तहसीलदार के द्वारा प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया जिसके आधार पर उपखण्ड अधिकारी विदिशा के द्वारा मंगलवार 15 जून को प्रकरण में आदेश पारित कर अनावेदकगण भू-स्वामी कन्हैयालाल बछेरिया एवं कालोनाइजर हिम्मत सिंह पुत्र मालम सिंह यादव विदिशा के विरूद्व राधाकृष्णपुरम कालोनी खिरिया स्थित भूमि क्रमांक 506 एवं 507 की भूमियें में आवेदकगणो से विक्रय अनुबंध कर लाखो रूपए हडपने, आने जाने का रास्ता बंद किए जाने के कारण एफआईआर दर्ज कराने हेतु थाना सिविल लाइन विदिशा को आदेशित किया गया है। जिसमें अनावेदकगणो को सूचित किया गया है कि वे थाना प्रभारी से सम्पर्क कर अनावेदकगण के विरूद्व उनके द्वारा की गई धोखाधडी की एफआईआर दर्ज कराएं थाना प्रभारी सिविल लाइन द्वारा एफआईआर दर्ज की जाकर प्रकरण कायम कर विवेचना प्रारंभ की गई है। यदि भविष्य में इस प्रकार की शिकायत कालोनाइजर एवं भू-स्वामियों के विरूद्व प्राप्त होती है तो उन पर भी एफआईआर की कार्यवाही की जाएगी।


उपार्जन केन्द्र  का जायजा 


vidisha news
कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने विदिशा के ग्राम नागपिपरिया में संचालित उपार्जन केन्द्र की व्यवस्थाओं का जायजा लिया। गौरतलब हो कि ग्रीष्मकालीन मूंग का समर्थन मूल्य पर क्रय कार्य जारी हैं।  किसान कल्याण तथा कृषि विकास विभाग के उप संचालक श्री पीके चौकसे ने बताया कि जिले में 405 किसानो के द्वारा समर्थन मूल्य पर मूंग विक्रय हेतु पंजीयन कराया गया है। समर्थन मूल्य पर खरीदी कार्य के लिए प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक उपार्जन केन्द्र संचालित हो रहा है। शासन द्वारा मूंग का समर्थन मूल्य 7196 रूपए प्रति कि्ंवटल घोषित की गई है। निरीक्षण के दौरान विभाग के उप संचालक श्री चौकसे के अलावा संचालक श्री महेन्द्र सिंह तथा अन्य अधिकारी मौजूद रहें। प्रत्येक विकासखण्ड में एक-एक उपार्जन केन्द्र संचालित हो रहे है।


आफसेट प्राईज से अधिक का राजस्व प्राप्त हुआ


विदिशा जिले में अवैध मदिरा के परिवहन दौरान जप्त राजसात वाहनो की नीलामी गत दिवस सम्पन्न हुई है जिसमें आफसेट प्राइज निर्धारित मूल्य से 47 प्रतिशत अधिक राशि प्राप्त हुई है।  जिला आबकारी श्री शैलेष जैन ने बताया कि कलेक्टर द्वारा मनोनीत संयुक्त कलेक्टर श्री रोशन राय की अध्यक्षता में 74 वाहनो को ट्रेडर प्रक्रिया के माध्यम से नीलामी की जानी थी जिसमें से 67 वाहनो की पर ही टेंडर प्राप्त हुए है उसमें एक शासकीय कण्डम घोषित वाहन भी सम्मिलित है। वाहनो के विक्रय हेतु 170 टेण्डर फार्म विक्रय किए गए थे जिसमें से शासन को 74 हजार रूपए की आय हुई है वही 66 वाहनो का आफसेट प्राइज दस लाख 96 हजार 550 निर्धारित था के विरूद्व 16 लाख 12 हजार 296 रूपए का राजस्व प्राप्त हुआ है जो निर्धारित मूल्य का 47 प्रतिशत अधिक है। 


कोविड-19 की दूसरी लहर पर काबू के बाद अब शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन का लक्ष्य


मध्यप्रदेश में जन-भागीदारी के साथ कोरोना संक्रमण के नियंत्रण के लिये अपनाई गई रणनीति के काफी सकारात्मक परिणाम मिले हैं। प्रदेश में आज की स्थिति में कोरोना पूरी तरह से काबू में है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के भागीरथी प्रयासों और प्रदेश की जनता द्वारा संक्रमण नियंत्रण में की गई भागीदारी से कोरोना संक्रमण लगभग शून्य पर आ गया है। कोरोना की संभावित तीसरी लहर से प्रदेशवासियों को बचाने के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी पुख्ता इंतजामों के साथ वैक्सीनेशन के लिये महाभियान चलाने का निर्णय लिया है। प्रदेश में 21 जून से वैक्सीनेशन के लिये जन-जागरण अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 21 जून से प्रांरभ होने वाले वैक्सीनेशन जन-जागरण अभियान में सभी वर्गों की भागीदारी के लिये अपील की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन जन-जागरण अभियान में सभी मंत्री, सांसद, विधायक सहित नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों के प्रतिनिधि, जिला, ब्लाक, ग्राम एवं वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ, म.प्र. जन-अभियान परिषद, कोरोना वॉलेंटियर्स सहित विभिन्न समाजिक संगठन एवं सामाजिक कार्यकर्ता सक्रिय भूमिका निभाएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारा लक्ष्य है कि प्रदेश के लक्षित समूह का शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन करवा कर लोगों को कोरोना से सुरक्षा प्रदान की जाए।


तीन स्तर के क्राइसिस मैनेजमेंट समूहों से संवाद

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिये जिस प्रकार से जन-भागीदारी का उदाहरण मध्यप्रदेश ने पूरे देश में प्रस्तुत किया है, उसी तर्ज पर अब वैक्सीनेशन के लिये भी जन-भागीदारी जुटाई जा रही है। इसी क्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जन-जागरण अभियान के पूर्व 17 जून को वैक्सीनेशन के संबंध में जिला, विकासखण्ड और ग्राम स्तरीय क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स के सदस्यों को वर्चुअली संबोधित किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपने संबोधन में सभी सदस्यों को वैक्सीनेशन अभियान में सक्रिय भूमिका के लिये प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि जिस तरह से कोरोना संक्रमण को रोकने में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप्स ने सहभागिता की, उसके सुखद परिणाम आज पूरा राष्ट्र देख रहा है। अब समय है कि प्रदेशवासियों को भविष्य के लिये सुरक्षा कवच प्रदान करने का। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेशवासियों के हित में शुरू किये जा रहे वैक्सीनेशन अभियान में सभी वर्ग जुड़ कर पुन: उदाहरण प्रस्तुत करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में वैक्सीनेशन का कार्य जारी है। कई जिलों में वैक्सीनेशन के लिये नवाचार भी किये गये हैं। भोपाल जिले सहित अनेक जिलों में ड्राइव-इन के माध्यम से भी लोगों को वैक्सीन लगाई गई है। नि:शक्त जनों को वैक्सीन लगाने के लिये भी पृथक से व्यवस्था की गई। ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वॉलेंटियर्स द्वारा ग्रामीणों को न केवल वैक्सीन लगवाई गई बल्कि वैक्सीन के संबंध में फैली अफवाहों को भी दूर कर ग्रामवासियों को वैक्सीन लगावाने के लिये सहमतन किया गया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश में वैक्सीन की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित की जा रही है। केन्द्र सरकार का भी इसमें पूर्ण सहयोग मिल रहा है।


सात हजार वैक्सीन केन्द्र

वैक्सीनेशन महा अभियान के लिये प्रदेश में 7 हजार केन्द्र बनाये गये है। केन्द्रों का चयन एप्रोचेबल और नागरिकों की सुविधा को ध्यान में रख कर किया गया है। सभी केन्रों क पर समाज के प्रबुद्ध व्यक्तियों द्वारा  किया जाएगा। महा अभियान के प्रांरभ दिवस पर मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान कुछ जिले से अभियान का शुभारंभ करेंगे। इसके साथ ही अन्य जिलों में साहित्यकार, धर्मगुरू, धार्मिक एवं सामाजिक संगठनों के प्रमुख व्यक्ति, शिक्षाविद और मीडिया जगत के प्रबुद्ध जन सहित जिले के प्रबुद्ध नागरिक अपने-अपने क्षेत्र में अभियान की शुरूआत कर लोगों को प्रेरित करेंगे। वैक्सीनेशन सेंटर पर आये लोगों का टीकाकरण के साथ तिलक लगाकर स्वागत और कोविड अनुकूल व्यवहार एवं सावधानियों के प्रति सजग भी किया जाएगा।


अभियान में जन-भागीदारी की हो चुकी शुरूआत

कोविड-19 के संक्रमण से सुरक्षा कवच प्रदान करने वाली वैक्सीन के लिये प्रदेश के जिलों में जन-भागीदारी को बढ़ाने का काम शुरू हो चुका है। मुरैना जिले की ग्राम पंचायत धनेला, खड़गपुर, गुलेंद्रा और चुरहेला में जन-जागरूकता शिविर आयोजित किये गये। शिविर में अधिकारियों ने घर-घर जाकर ग्रामीणों को पीले चावल देकर वैक्सीनेशन कराने का आमंत्रण दिया और अपील की कि महा अभियान वाले दिन वैक्सीनेशन सेन्टर पर आकर वैक्सीनेशन जरूर करायें। पीले चावल पाकर ग्रामीण जन  प्रफुल्लित हो उठे, उनका कहना था कि अभी तक शादी-ब्याह में ही पीले चावल देकर आमंत्रण दिया जाता था, जो शुभ संदेश भी माना जाता है। ग्रामीणों ने जिला प्रशासन के इस अनूठे आमंत्रण को सहज स्वीकारते हुए वैक्सीन लगाने की सहमति भी दी।


महा अभियान के लिये जन-जागृति

वैक्सीनेशन महा अभियान के लिये आमजन में जागृति लाने विभिन्न प्रचार माध्यमों का उपयोग किया जा रहा है। इन प्रचार माध्यमों में पारम्परिक दीवार लेखन के साथ आधुनिक सोशल एवं डिजिटल मीडिया को भी शामिल किया गया है। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में संवाद के माध्यम से भी वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक किया जा रहा है। महा अभियान के दिन जिन लोगों का वैक्सीनेशन होगा, प्रेरणा स्वरूप उनके फोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड भी किये जाएंगे। राज्य सरकार का लक्ष्य है कि वैक्सीनेशन महा अभियान के दिन 10 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी।


पर्यवेक्षण

वैक्सीनेशन महा अभियान के प्रारंभ दिवस की समस्त गतिविधियों के पर्यवेक्षण के लिये राज्य एवं जिला स्तर पर कन्ट्रोल रूम की स्थापना की जायेगी, जिसमें पर्याप्त संख्या में मानव संसाधन एवं संचार माध्यमों की व्यवस्था होगी। प्रत्येक चार से पाँच वैक्सीनेशन केन्द्रों के ऊपर एक वाहनयुक्त जोनल अधिकारी नियुक्त किया जायेगा जो वैक्सीनेशन महा अभियान की समस्त गतिविधियों का पर्यवेक्षण अपने प्रभार के केन्द्रों पर निरंतर भ्रमण कर करेगा। पर्यवेक्षण के लिये नियुक्त जोनल अधिकारी निरंतर जिला स्तरीय कन्ट्रोल रूम के संपर्क में रहेंगे और प्रत्येक घंटे की रिपोर्ट देंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: