सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 जून - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 21 जून 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 20 जून

टीकाकरण केन्द्रों पर बनाए गए सेल्फी पाईंट


21 जून से शुरु होने वाले  टीकाकरण महाअभियान के लिए जिले में बनाए गए टीकाकरण केंद्रों को सजाया गया है। वहीं कोविड का टीका लगवाने वाले व्यक्तियों को सेल्फी लेने के लिए लिए सेल्फी प्वाइंट भी बनाए गए हैं ताकि वो टीका लगवाने के पश्चात सोशल मीडिया पर पोस्ट कर अन्य लोगों से कोविड का टीका लगवाने के अपील कर सकें।


21 जून से मध्यप्रदेश में टीकाकरण का महा-अभियान

  • एक दिन में 10 लाख से अधिक व्यक्तियों को लगाया जाएगा कोरोना का टीका, कोरोना के खिलाफ सबसे प्रभावी अस्त्र है कोरोना वैक्सीन
  • स्वयं टीका लगवाइए और दूसरों को भी प्रेरित कीजिए, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जनता के नाम दिया संदेश और की अपील

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश की जनता के नाम अपने संदेश में कहा है कि वैक्सीन कोरोना महामारी के विरूद्ध सबसे प्रभावी अस्त्र है। जो व्यक्ति वैक्सीन के दोनों डोज़ लगवा लेते हैं या तो उन्हें कोरोना होगा ही नहीं और यदि हुआ भी तो जल्दी ठीक हो जाएगा। यह दुनियाभर के वैज्ञानिकों एवं विशेषज्ञों द्वारा प्रमाणित है। वैक्सीन को लेकर किसी प्रकार के भ्रम में न रहें तथा नियत समय अवधि में वैक्सीन के दोनों डोज़ लगवाएँ। स्वयं भी वैक्सीन लगवाएँ और दूसरों को भी वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 21 जून को प्रात: 10 बजे से प्रदेश में टीकाकरण का महाअभियान प्रारंभ किया जा रहा है। प्रदेश में टीकाकरण के लिए बनाए गए 7 हजार केन्द्रों पर पहले दिन ही 10 लाख से अधिक व्यक्तियों को वैक्सीन लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। जून महीने में 50 लाख से अधिक व्यक्तियों को कोरोना वैक्सीन लगायी जाएगी तथा इस साल के अंत तक प्रदेश के हर व्यक्ति को वैक्सीन लगवाकर सुरक्षित कर दिया जाएगा।


वैक्सीनेशन सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समाज के प्रबुद्धजनों, जन-प्रतिनिधियों, समाज-सेवकों, धर्मगुरूओं सहित समाज के सभी वर्गों से अपील की है कि वे लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित करें। वे टीकाकरण केन्द्र पर जाकर प्रेरक का काम करें। नौजवान घर-घर जाकर लोगों को वैक्सीन के लिए निमंत्रित करें तथा उन्हें टीकाकरण केन्द्रों पर लाने में सहायता करें। साथ ही, टीकाकरण केन्द्रों पर व्यवस्था बनाने में भी सहयोग दें।


लगभग समाप्त हो गई है प्रदेश में दूसरी लहर

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में कोरोना की दूसरी लहर लगभग समाप्त हो गई है। प्रदेश में प्रतिदिन 75 से 80 हजार टैस्ट किए जा रहे हैं, जिनमें लगभग 110 कोरोना पॉजीटिव प्रतिदिन निकल रहे हैं। प्रदेश की पॉजिटिविटी रेट 0.15% हो गई है और रिकवरी रेट 99% तक पहुंच गई है। एक्टिव प्रकरणों की संख्या 2400 रह गई है।


वायरस मौजूद है, संकट टला नहीं

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यद्यपि कोरोना संक्रमण लगभग समाप्त हो गया है, बाजार खुल गए हैं, जनजीवन सामान्य हो चला है और आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ रही हैं, परंतु वायरस अभी मौजूद है, संकट टला नहीं है। किसी भी स्थिति में निश्चिंत न रहें। दुनिया के कई देशों में तीसरी लहर और कहीं-कहीं तो चौथी लहर भी आ चुकी है। ऐसे में पूर्ण सतर्क रहने की आवश्यकता है।


प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का अभिनंदन

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन का कार्य अपने हाथों में लेने के लिए मैं प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का हृदय से अभिनंदन करता हूँ। भारत में वैक्सीनेशन का अभियान बिखर सा गया था। राज्य सरकारों द्वारा मांग किए जाने पर केन्द्र सरकार द्वारा वैक्सीनेशन अभियान अपने हाथों में लिया गया। अब पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन की उपलब्धता है और आगे भी वैक्सीन निरंतर उपलब्ध होता रहेगा।


कोरोना नियंत्रण के तीन उपाय

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना नियंत्रण के मुख्य रूप से तीन उपाय हैं। पहला सरकार द्वारा व्यवस्थाएँ किए जाना, दूसरा आप सभी के द्वारा कोरोना अनुकूल व्यवहार किए जाने और तीसरा वैक्सीन लगवाना। सरकार तीसरी लहर को रोकने और उससे लड़ने की सारी व्यवस्थाएँ कर रही है। अधिक से अधिक टेस्ट किए जा रहे हैं और जो पॉजिटिव आ रहे हैं उन्हें आयसोलेट कर उनका इलाज किया जा रहा है, कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग की जा रही है और जहाँ संक्रमण हैं वहाँ माइक्रो कंटेनमेंट क्षेत्र बनाए जा रहे हैं। अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जा रही है, ऑक्सीजन की व्यवस्था, दवाओं की व्यवस्था की जा रही है। स्वास्थ्य सेवाओं को अधिक से अधिक सुदृढ़ किया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि संक्रमण रोकने के लिए सभी के द्वारा कोरोना अनुकूल व्यवहार किया जाना परम आवश्यक है, मास्क लगाना, परस्पर दूरी रखना, बार-बार हाथ धोना जरूरी है। इसके साथ ही, अच्छी नींद लें, योग-व्यायाम करें, पौष्टिक आहार लें, खूब पानी पीएँ। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 18 से अधिक उम्र का हर पात्र व्यक्ति वैक्सीन के दोनों डोज़ नियत अंतराल से आवश्यक रूप से लगवाएँ।


'टीका भी और जीने का सलीका भी'

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यदि हर व्यक्ति कोरोना का टीका लगवा लेता है और कोविड अनुकूल व्यवहार कर लेता है, तो हम निश्चित रूप से कोरोना की तीसरी लहर से बच जाएंगे। हम 'टीका भी और जीने का सलीका भी' मंत्र को अपना लें। यदि आप सब पूरा सहयोग करते हैं तो सबकी जान भी बचेगी और जहान भी चलेगा।


महाअभियान में जन-भागीदारी जुटाने मुख्यमंत्री श्री चौहान के चौतरफा प्रयास

सहभागी बनने विभिन्न वर्ग आगे आये, जीवन सुरक्षा के इस अभियान को सफल बनाने की अपील की

कोरोना संक्रमण से प्रदेशवासियों को पूरी तरह से सुरक्षित करने के लिये मध्यप्रदेश में 21 जून को टीकाकरण महाअभियान चलाया जाएगा। अभियान के पहले दिन 10 लाख लोगों को वैक्सीनेट करने का लक्ष्य है। निर्धारित लक्ष्य प्राप्त करने के लिये प्रदेश के 52 जिलों में 7000 टीकाकरण केन्द्र बनाये गये हैं। प्रात: 10 बजे से शुरू होने वाले वैक्सीनेशन की सभी तैयारियाँ पूर्ण की जा चुकी हैं। सभी वैक्सीन केन्द्रों पर उत्सव जैसा माहौल निर्मित किया जाएगा, जिसमें टीका लगवाने आये व्यक्ति का तिलक लगाकर स्वागत करने के साथ उसकी बाइट को सोशल मीडिया में प्रचारित भी करेंगे, जिससे दूसरे लोग वैक्सीनेशन के लिये प्रोत्साहित हो सकें। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने टीकाकरण महाअभियान को सफल बनाने के लिये सभी वर्गों से अपील की है कि मानव जीवन की सुरक्षा के लिये सभी लोग स्व-प्रेरणा से आगे आये और महाअभियान में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री श्री चौहान की मार्मिक अपील से प्रदेश के सभी वर्ग एकजुट होकर आगे आये हैं। मुख्यमंत्री सहित मंत्रि-परिषद के सदस्य, सांसद, विधायक, शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्र के जन-प्रतिनिधियों सहित विभिन्न सामाजिक संस्थाओं के प्रमुखों, धर्मगुरूओं, साहित्यकारों, बुद्धिजीवियों और गणमान्य नागरिकों ने अपने-अपने क्षेत्रों में जनता से वैक्सीन लगवाने की अपील सोशल मीडिया पर करना शुरू कर दी है, जिससे आम जन प्रेरित हो रहे हैं। टीकाकरण महाअभियान को सफल बनाने के लिये मुख्यमंत्री श्री चौहान पिछले एक सप्ताह से विभिन्न वर्गों से लगातार वर्चुअल संवाद कर रहे हैं। साथ ही प्रशासनिक एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ वैक्सीनेशन की व्यवस्थाओं एवं प्रबंधों की समीक्षा भी कर रहे हैं। इसी क्रम में राज्य मंत्रि-परिषद के सदस्य भी अपने-अपने जिले में व्यवस्थाओं के साथ लोगों को प्रेरित करने का कार्य कर रहे हैं।


टीकाकरण महाअभियान के लिये बनाई प्रभावी रणनीति

अभियान के पहले दिन 7 हजार वैक्सीन सेंटर्स पर एक एक साथ वेक्सीनेशन प्रांरभ होगा। प्रत्येक केन्द्र पर प्रमुख व्यक्ति वैक्‍सीनेशन मोटिवेटर अर्थात टीकाकरण प्रेरक के रूप में मौजूद रहेंगे। टीकाकरण प्रेरक समाज के जाने-माने व्यक्ति होंगे। जैसे मंत्री, विधायक अन्य जन-प्रतिनिधि, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप के सदस्य, धर्मगुरु, समाजसेवी, कलाकार, खिलाड़ी, साहित्यकार, पत्रकार, विश्लेषक, पद्म पुरस्कार प्राप्त शिक्षक और अधिकारी टीकाकरण प्रेरक होंगे। महाअभियान में आमंत्रित वैक्‍सीनेशन मोटिवेटर दीप प्रज्‍जवलन कर वैक्सीनेशन का शुभारंभ करेंगे और वक्सीन लगवाने वाले व्यक्तियों के माथे पर तिलक लगाकर उनका स्वागत करेंगे। महाअभियान में सभी वर्गों की सहभागिता सुनिश्चित की जा रही है। जिन हस्तियों को वैक्सीन मोटिवेटर के रूप में आमंत्रित किया गया है। उनकी आम जनता के नाम अपील का वीडियो अभियान के एक दिन पूर्व सोशल मीडिया पर जारी किया जाएगा। टीकाकरण महाअभियान में जन-भागीदारी सुनिश्चित करने के लिये सभी मंत्री, सांसद, विधायक सहित नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों के जन-प्रतिनिधि, जिला, ब्लाक, ग्राम एवं वार्ड स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ, म.प्र. जन-अभियान परिषद, कोरोना वॉलेंटियर्स, धर्मगुरूओं सहित विभिन्न समाजिक संगठन एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं को जोड़ा गया है।


केन्द्रों में चाय-पानी के साथ सेल्फी लेने की व्यवस्था

टीकाकरण केंद्रों पर चाय-पानी और बैठक की व्यवस्थाएँ भी सुनिश्चित की गई हैं। केन्द्र पर टीका लगवाने आये व्‍यक्तियों के वैक्सीनेट होने के बाद उनकी वीडियो बाइट ली जाएगी और उसे सोशल मीडिया पर प्रसारित किया जाएगा। केन्द्रों में सेल्फी प्वांइट भी बनाये गये हैं। टीकाकरण महाअभियान में जन-जन को जोड़ने के लिये संचार के विभिन्न माध्यमों प्रिंट, इलेक्ट्रानिक और सोशल मीडिया से प्रचार-प्रसार निरंतर किया जा रहा है। प्रदेश के सभी 51 हजार गाँव में वैक्सीनेशन संबंधी प्रचार सामग्री भी उपलब्ध रहेगी।


प्रत्येक जिले में भी होगा कंट्रोल रूम

प्रत्येक जिले में एक कंट्रोल रूम बनाया गया है, जिसमें दिनभर चले वैक्‍सीनेशन कार्य की मॉनीटरिंग की जाएगी। टीकाकरण महाअभियान के लिये पोस्टर की टैग लाइन 'सबको वैक्सीन, फ्री वैक्सीन, मोदी जी का धन्यवाद' है। वैक्‍सीनेशन के प्रति लोगों को प्रेरित करने स्थानीय भाषा में गीत तैयार किये गये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में डोंडी पिटवाकर वैक्सीनेशन की सूचना दी जाएगी। मुख्यमंत्री जी की वैक्सीनेशन कराने की अपील का वॉइस मैसेज मोबाइल पर भेजा जाएगा।स्थानीय स्तर पर कार्यकर्ताओं की टोलियाँ लोगों के घरों में जाकर उन्हें वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करेंगी। टीकाकरण केन्द्रों पर उपस्थित हुए लोगों को स्वयं वैक्सीन लगवाने और अन्य लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करने की शपथ दिलाई जाएगी।


निरंतर जारी रहेगा अभियान

टीकाकरण महाअभियान 21 जून के बाद भी निरंतर चलेगा। जिन स्थानों पर वैक्सीनेशन पूरा हो जाएगा वहाँ से वैक्‍सीनेशन सेंटर अन्य स्थानों पर स्थानांतरित किया जाएगा। कोरोना के प्रति जन-जागरूकता पैदा करने के लिये पंजीबद्ध एक लाख से अधिक कोरोना वॉलेंटियर्स महाअभियान में सक्रिय भूमिका निभाएंगे। एक जुलाई को पुन: तीन दिवसीय वैक्सीनेशन अभियान चलेगा। इसमें आमजन को प्रेरित करने के लिए जागरूक यात्राएँ निकाली जाएगी।


रोज योग करें-स्वस्थ और प्रसन्न रहें : मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • योग दिवस पर प्रतिदिन योग करने का संकल्प लें, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर किया प्रदेश-वासियों को संबोधित

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि 'शरीरम् माध्यम् खलुधर्म् साधनम्'  शरीर सब धर्मों का पालन करने का माध्यम है। पहला सुख निरोगी काया है। शरीर का स्वस्थ रहना, निरोग रहना, हर लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए आवश्यक है। शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अगर कोई रामबाण है तो वह है योग। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर वैलनेस और स्पीरिचुअल टूरिज्म  विषय पर प्रदेशवासियों के नाम जारी संदेश में यह बात कही।  


हजारों साल पुरानी विधा है योग

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि अगर हम योग और प्राणायाम लगातार करते हैं तो शरीर निरोगी बनता है, बुद्धि प्रखर होती है और हम क्षमतावान होते चले जाते हैं। योग हजारों साल पुरानी विधा है। यम,नियम,आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, ध्यान, धारणा, समाधि इसके अंग हैं। हम आष्टांग योग की बात न भी करें तो कम से कम रोज योगासन और प्राणायाम अवश्य करें।


प्रधानमंत्री श्री मोदी की पहल से दुनिया उठा रही है योग का लाभ

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की पहल के कारण अब दुनिया योग का लाभ उठा रही है। 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस है। योग दिवस पर तो योग करना ही है, साथ ही संकल्प लेना है कि हम प्रतिदिन योग करेंगे।


मुझे कोरोना हुआ पर छूकर निकल गया क्योंकि मैं प्राणायाम और योग करता था

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं रोज योग, प्राणायाम, योगासन और सूर्य-नमस्कार करता हूँ। इसलिए 24 में से 18-18 घंटे काम कर लेता हूँ। मुझे कोरोना हुआ पर छूकर निकल गया। क्योंकि मैं प्राणायाम और योग करता था। योग, प्राणायाम से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। अत: गंभीर संक्रमण नहीं हुआ। क्या आप योग के माध्यम से अपने शरीर को निरोगी नहीं करना चाहेंगे?


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश-वासियों से की प्रतिदिन योग करने की अपील

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने प्रदेश-वासियों से अपील की कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर तो योग करें हीं, साथ ही प्रतिदिन अपने जीवन में योग को सम्मिलित करके शरीर को स्वस्थ, निरोगी और प्रसन्न बनायें। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमारा यह शरीर अनन्त शक्तियों का भण्डार है। इन शक्तियों को सहेजने और सही दिशा में ले जाने की जरूरत है। योग इसका सबसे प्रभावी माध्यम है। रोज योग कीजिये,निरोगी रहिये, स्वस्थ और प्रसन्न रहिये।


आंगनवाडी कार्यकर्ताओं द्वारा पीले चावल देकर किया जा रहा है लोगों को आमंत्रित


sehore news
21 जून को कोविड वैक्सीनेशन के महाअभियान सफल बनाने के लिए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देश अनुसार जिले में विभिन्न प्रकार के आयोजनों से लोगों को जागरुक किया जा रहा है। जिले में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं सहायिकाओं द्वारा घर-घर जाकर पीले चावल देकर आमंत्रित किया जा रहा है। साथ ही ग्रामीणों को जानकारी दी जा रही है कि कोविड वैक्सीनेशन अवश्य लगवाएं। लोगों को बताया जा रहा है कि कोविड का टीका पूरी तरह सुरक्षित है और कोरोना संक्रमण से बचने का महत्वपूर्ण उपाय है।


जिले में अब तक 134.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 3.4 मिलीमीटर औसत वर्षा


जिले में 01 जून से 20 जून 2021 तक 134.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई है जो कि गत वर्ष इसी अवधि में हुई औसत वर्षा से 83.8 मिलीमीटर कम है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है।  अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 20 जून 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 157.4 मिलीमीटर, श्यामपुर में 124, आष्टा में 67, जावर में 42, इछावर में 153, नसरुल्लागंज में 188, बुधनी में 235, रेहटी में 113 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


बीते 24 घंटे में 8.1 मिलीमीटर औसत वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में 20 जून 2021 को प्रातः 08 बजे तक 3.4 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। इस दौरान वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 03 मिलीमीटर, श्यामपुर में 09, आष्टा में 02, जावर में 04, नसरुल्लागंज में 09 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है। जबकि इछावर, बुधनी एवं रेहटी में वर्षा की स्थिति शून्य रही।


21 जून को मनाया जाएगा अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस, बी विथ योगा-बी एट होम" थीम के साथ मनेगा अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस


7 वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को "बी विथ योगा- बी एट होम" थीम के साथ योगाभ्यास आयोजित होगा। वर्तमान में कोविड-19 संक्रमण के दौरान विगत वर्ष की भॉति घर पर ही रहकर विश्व योग दिवस पर योगाभ्यास किया जायेगा। योग से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये और योग को आम जनता की दिनचर्या में शामिल करने के उद्देश्य से विश्व योग दिवस में अपने-अपने घरों से सामूहिक योगाभ्यास किया जायेगा। कोविड-19 और अन्य बीमारी के संक्रमण से बचाव के लिये तथा रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में योग की विशेष भूमिका है। लॉकडाउन के चलते जब सभी लोग घरों में सीमित रह गये और शारीरिक क्रिया-कलाप कम हो गये, जिसका प्रतिकूल प्रभाव शारीरिक और मानसिक स्तर पर पड़ा। साथ ही, जो लोग संक्रमित हो गये थे, उन्हें संक्रमण से और संक्रमण के बाद होने वाले अन्य प्रतिकूल प्रभाव से बचाव में आयुष विभाग द्वारा श्योग से निरोगश् कार्यक्रम होम आइसोलेटेड मरीजों के लिये शुरू किया, जिसके सार्थक परिणाम रहे हैं। इसी क्रम में श्योग से निरोगश् कार्यक्रम से पोस्ट कोविड और अन्य रोगियों को भी जोड़े जाने के लिये कार्यक्रम को निरंतर लागू किया जा रहा है। सोमवर 21 जून को मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान, नई दिल्ली द्वारा निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार विश्व योग दिवस में अपने-अपने घरों में सामूहिक योगाभ्यास किया जायेगा। आयुष विभाग भारत सरकार द्वारा जारी योग प्रोटोकॉल अनुसार सभी विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी, इण्डियन योग एसोसिएशन, पतंजलि योगपीठ एवं आर्ट ऑफ लिविंग के सदस्य अपने घर से ही योगाभ्यास करेंगे। इसका प्रसारण वेबएक्स एप, यू-ट्यूब, ट्वीटर के माध्यम से किया जायेगा। विश्व योग दिवस के दिन सुबह 7 बजे से 7.45 बजे तक उचित आसन और प्राणायाम कर विश्व योग दिवस को सफल बनाने की अपील की गई है।


मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्रियान्वयन के संबंध में निर्देश जारी


कोविड-19 के संक्रमण से उत्पन्न परिस्थितियों में राज्य की सेवा में कार्यरत कर्मियों की आकस्मिक मृत्यु होने पर उनके परिवार को तात्कालिक आर्थिक सहायता उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना लागू की गई है। योजना के प्रभावी क्रियान्वयन के लिये यह निर्णय लिया गया है कि समस्त आवेदन एम पी सर्विस पर लिंक https://services.mp.gov.inके माध्यम से केवल ऑनलाइन ही मान्य किए जाएंगे। संबंधित कार्यालय द्वारा आवेदनों के निराकरण और प्रगति की स्थिति भी ऑनलाइन पोर्टल पर अनिवार्यत: दर्ज की जाएगी। वित्त विभाग द्वारा सभी विभागों, संभागायुक्त और कलेक्टर्स को पत्र जारी किया गया है। जिसमें कहा गया है संबंधित आवेदकों द्वारा इस पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत किये जाने के उपरांत योजना के प्रावधानों के अनुरूप संबंधित कार्यालय द्वारा आवेदन के निराकरण की स्थिति दर्ज किए जाने का प्रावधान है। पोर्टल में विभागीय लॉग-इन के लिये मैप आई टी द्वारा संबंधित विभागों, कार्यालयों को यूजर आईडी एवं पासवर्ड पृथक से प्रदाय किये जाएंगे। योजना अंतर्गत केवल ऑनलाइन माध्यम से आवेदन प्राप्त करने और आवेदनों के निराकरण की स्थिति पोर्टल में दर्ज करने के निर्देश दिये गये है। 


बचाव के उपाय से एक भी व्यक्ति न चूके मास्क उतरा, सुरक्षा का घेरा टूटा "कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान"

  • 21 जून को प्रात: 10 बजे आरंभ होगा अभियान, एक दिन में 10 लाख से अधिक व्यक्तियों को वैक्सीन लगाने का लक्ष्य, सोशल मीडिया के लिए "एम.पी. वैक्सीनेशन महाअभियान" होगा हैशटैग, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने धर्मगुरूओं सहित सभी गणमान्य नागरिकों से की सहयोग की अपील

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में 21 जून को कोविड-19 वैक्सीनेशन महाअभियान आयोजित किया जा रहा है। अभियान के अतर्गत प्रदेश में 7 हजार वैक्सीनेशन सेंटर पर वैक्सीनेशन की व्यवस्था की जायेगी। हमारा प्रयास है कि वैक्सीनेशन महाअभियान में एक दिन में 10 लाख से अधिक व्यक्ति वैक्सीनेशन करायें। यह अभियान धर्मगुरूओं, स्वयंसेवी संस्थाओं, सामाजिक कार्यकर्ता, राजनैतिक दलों, सांसदों, मंत्रियों, विधायकों, जन-प्रतिनिधियों के सहयोग से ही संभव होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए वातावरण निर्माण में सभी से सहयोग की अपील की। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निवास से प्रदेश के सभी जिलों के गणमान्य नागरिकों को वर्चुअली संबोधित किया। इस अवसर पर चिकित्सा शिक्षा मंत्री श्री विश्वास सारंग, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान तथा अन्य अधिकारी उपस्थित थे।


कोरोना की दूसरी लहर में बहुत नुकसान उठाया है - मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर पहली से बहुत अधिक घातक थी, वायरस ज्यादा संक्रामक था। परिणाम स्वरूप हमने बहुत नुकसान उठाया। संक्रमण की तीव्रता के सात दिनों की भयावहता आज भी मन-मस्तिष्क पर बनी रहती है। हमने दिन रात कोशिश कर जनता के इलाज की व्यवस्था के लिए ऑक्सीजन, दवाइयों, इंजेक्शन्स आदि की उपलब्धता एवं व्यवस्था की। आपके आशीर्वाद और सहयोग तथा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्नेह पूर्ण मार्गदर्शन और सहयोग से हम स्थिति का सामना करने में सक्षम हुए। प्रधानमंत्री श्री मोदी के प्रयासों से प्रदेश में ऑक्सीजन आपूर्ति के लिए एयर फोर्स के विमान और रेलों का उपयोग किया गया। रेमडेसिविर इंजेक्शन, दवाइयाँ और अन्य व्यवस्थाएँ बनाने में दिन-रात एक किया। परिणामस्वरूप अब प्रदेश में संक्रमण नियंत्रण में है। कल पूरे प्रदेश में मात्र 110 केस आए। इंदौर और भोपाल में भी संक्रमण नियंत्रण में है। कई जगह प्रकरण शून्य हैं। कुछ जिलों में प्रकरणों की संख्या एक-दो है।


वायरस अभी गया नहीं है - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वायरस अभी गया नहीं है। इंग्लैंड में 90 दिन के लॉकडाउन के बाद पुन: कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ना शुरू हो गई। परिणामस्वरूप वहाँ अब लॉकडाउन पूरी तरह से नहीं खोल रहे हैं अर्थात वायरस अभी मौजूद है। मैं यह तथ्य आप की जानकारी में लाना चाहता हूँ, जैसे ही अनलॉक होता है, मिलना-जुलना शुरू होता है वैसे ही वायरस फिर से फैलना शुरू कर देता है।


बार-बार लॉकडाउन संभव नहीं - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तीसरी लहर की संभावना व्यक्त की जा रही है, फिर पॉजिटिव प्रकरणों की संख्या बढ़ सकती है, पर हम बार-बार लॉकडाउन नहीं कर सकते। व्यापार और रोजगार को कब तक बंद करेंगे। गरीब चौपट हो जाता है, व्यापार नष्ट हो जाता है, उद्योगों को नुकसान होता है। अत: ऐसा तरीका ढूंढ़ना होगा जिससे दुनिया भी चलती रहे और कोविड के संक्रमण को नियंत्रित भी किया जा सके। उद्योग, दुकान, व्यापार, आर्थिक गतिविधियाँ और सामाजिक काम-काज चलाते हुए हम कोविड के संक्रमण पर नियंत्रण करेंगे। यह काम सरकार अकेले नहीं कर सकती। इसमें समाज की प्रमुख हस्तियों, धर्मगुरूओं, स्वयंसेवी संस्थाओं का सहयोग चाहिए। आपका समाज में प्रभाव है, लोग आपकी बात मानते हैं, इसलिए यदि आप जुटेंगे तो हम संक्रमण को पूरी तरह थाम कर प्रदेश को चलाते रहेंगे।


टेस्टिंग, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट और माइक्रो कन्टेनमेंट से रखेंगे संक्रमण पर नियंत्रण- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो रणनीति बनाई है उसमें हम आपको भागीदार बनाना चाहते हैं और आपका सहयोग चाहते हैं। रणनीति के अंतर्गत हम टेस्ट बड़ी संख्या में करेंगे। प्रतिदिन 75 से 80 हजार टेस्ट होंगे। समस्या यह है कि लोगों को लगता है कि जब बीमार नहीं हैं तो टेस्ट किस बात का, टेस्ट हम क्यों करवाएँ। टेस्ट में समस्या आ रही है। मैं अपील करता हूँ कि आप भी लोगों से कहें कि टेस्ट कराने में क्या परेशानी है। लोग सेम्पल दें यदि कुछ नहीं होगा तो निगेटिव आ जायेंगे। इससे फायदा यह होगा कि यदि कोई पॉजिटिव निकला तो तुरंत पता चल जाएगा। ऐसे व्यक्ति को घर में आइसोलेट किया जा सकेगा और वह जिन जिन के संपर्क में आया है उन सब की भी कांटेक्ट ट्रेसिंग करेंगे। सभी के सेम्पल लेकर टेस्ट किये जायेंगे। इसका फायदा यह होगा कि वह स्प्रेडर बन कर नहीं घूमेगा और संक्रमण नहीं फैला पायेगा। यदि हम यह टेस्ट नहीं करेंगे तो एक से दस, दस से सौ में संक्रमण फैलने की संभावना रहेगी। अत: टेस्ट, कान्टेक्ट ट्रेसिंग, आइसोलेशन किया जाएगा। जहाँ दो-तीन घरों में संक्रमण है वहाँ माइक्रो कंटेन्मेंट एरिया बनाया जायेगा। इसके साथ ही किल कोरोना अभियान भी जारी रहेगा। घर-घर जाकर सर्वे किया जायेगा, इससे संक्रमितों का पता चलेगा। बीमारी को प्रारंभ में ही नियंत्रित कर पायेंगे। इन सभी गतिविधियों में आपका सहयोग चाहिए, आप लोगों को टेस्ट कराने के लिए प्रेरित करें और बताये कि टेस्ट कराने में कोई बुराई नहीं है। जिला कलेक्टरों को भी निर्देश दिये गये हैं कि अधिक से अधिक टेस्ट किये जाएँ।


सावधानी से ही रूकेगा कोविड संक्रमण - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड के संक्रमण को रोकने के अनुकूल व्यवहार का लोगों से पालन कराने में भी आप का सहयोग चाहिए। मास्क लगाने, दूरी बनाए रखने और इसके साथ हाथ साफ करते रहने के लिए लोगों को प्रेरित करना होगा। संक्रमण रोकने के अनुकूल व्यवहार के लिए कुछ नियम बनाना होंगे। जैसे दुकानदार अपनी दुकान के आगे गोले बनाएँ, यह सुनिश्चित करना होगा कि जब ग्राहक ज्यादा आयें तो वे गोलों में खड़े हों, ग्राहक भी मास्क लगायें, सेनेटाइजर की व्यवस्था हो। वाहनों के संबंध में यह तय करना होगा कि टू-व्हीलर पर कितने लोग बैठें, वे मास्क लगाकर बैठें, सड़क पर चलने वालों, वाहन की सवारियों के संबंध में कोविड से बचाव के व्यवहार के अनुसार व्यवस्था बनानी होगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोविड से बचाव के लिए कोरोना अनुकूल व्यवहार का पालन करने के संबंध में समाज के गणमान्य नागरिकों की ओर से अपील किया जाना आवश्यक है। समाज को सचेत रखने में आप सबका सहयोग आवश्यक है। यदि हम सावधान नहीं रहे तो पुन: तेजी से संक्रमितों की संख्या बढ़ सकती है।


अस्पतालों की क्षमता बढ़ाई जा रही है - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन अस्पतालों की व्यवस्थाएँ बढ़ाने के लिए निरंतर प्रयासरत है। अस्पतालों में बेड, आइसोलेशन बेड, ऑक्सीजन बेड, आईसीयू बेड, बच्चों के वार्ड, दवाई की व्यवस्था और ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं ताकि यदि और कोई संकट आए तो हम उसका मुकाबला कर सकें। हम हर शहर और हर जिलें में पर्याप्त व्यवस्थाएँ स्थापित कर रहे हैं।


वैक्सीनेशन ही हमें बचाएगा - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन ही है जो संक्रमण की स्थिति में भी हमें बचाएगा। वैक्सीनेशन का कार्य बहुत महत्वपूर्ण है। जितने वैज्ञानि‍क और विशेषज्ञ हैं वे यह कहते हैं कि वैक्सीन सुरक्षा चक्र प्रदान करता है। यदि हमें दोनों डोज लग गए तो कोरोना संक्रमण फैलने पर भी या तो कोरोना होगा ही नहीं और यदि हुआ तो वह घातक नहीं होगा। हो सकता है कि अस्पताल जाने की नौबत ही न आए। शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता इतनी बढ़ जाती है कि वह वायरस का मुकाबला कर सकता है। भारत ही नहीं पूरी दुनिया के वैज्ञानिक यही कह रहे हैं। दुनिया भर के देश अपने नागरिकों को बचाने के लिए वैक्सीनेशन का सुरक्षा चक्र दे रहे हैं। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी का आभार है कि उन्होंने यह तय किया कि सभी के लिए वैक्सीन भारत सरकार नि:शुल्क प्रदान करेगी। वैक्सीन 21 जून से मिलना आरंभ होगी। अत: यह निर्णय लिया गया है कि 21 जून से वैक्सीनेशन का महाअभियान शुरू किया जायेगा।


जल्द से जल्द प्रदेश के अधिकांश लोगों का वैक्सीनेशन करना है - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि यह महाअभियान साधारण नहीं होगा। यह लोगों की जिंदगी बचाने का अभियान है। यह लोगों को कोरोना से सुरक्षा प्रदान करने का अभियान है। मुख्यमंत्री होने के नाते मैं यह महसूस करता हूँ कि इस समय इससे पवित्र कोई और कार्य नहीं हो सकता है। मेरी अंतरात्मा की आवाज है कि अभियान में जी-जान से जुट जाया जाए, ताकि सितम्बर-अक्टूबर तक जब तीसरी लहर आये, तब तक हम प्रदेश के अधिकांश लोगों को वैक्सीन लगा चुके हों। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इस अभियान में मैं अकेला नहीं जुटूंगा। पूरी सरकार जुटेगी, मंत्री, विधायक और सांसद सबसे मैंने बात की है, वे सब अभियान में जुटेंगे साथ ही समाज को जुटना होगा।


वैक्सीनेशन से संबंधित भ्रमों को दूर करना जरूरी - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर कई तरह के भ्रम फैल रहे हैं, इन भ्रमों को दूर करना होगा। इसके लिये हमें आगे आना होगा। धर्मगुरूओं को अपने अनुयायियों से कहना होगा कि वैक्सीन हमारी जिंदगी बचाएगी सुरक्षा प्रदान करेगी। धर्मगुरू, समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं के प्रमुख, समाजों के प्रमुख, चिंतक, लेखक, पत्रकार, साहित्यकार,कलाकार जिनका अपना वजूद है वह समाज को पूरी ताकत के साथ कहें कि लगवाओ वैक्सीन। हमने वैक्सीन लगवाई है, आप भी लगवाएँ, वैक्सीन में ही सुरक्षा है। इससे लोगों के मन में यह भाव पैदा होगा कि सभी तो वैक्सीन के लिए कह रहे हैं, इससे लोगों में वैक्सीन के प्रति विश्वास बढ़ेगा।


बहुत कष्ट झेला है, अब तीसरी बार नहीं झेल सकते - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मैं आपके साथ मिलकर यह तय करना चाहता हूँ कि अक्टूबर तक हम अधिकतम लोगों को वैक्सीन लगा दें ताकि कोरोना की लहर आये भी तो हम उसका मुकाबला कर सकें। हम अपने लोगों को मरता हुआ नहीं देख सकते। दूसरी लहर में हमने बहुत कष्ट झेला है, अब तीसरी बार नहीं झेल सकते। इसके अनुकूल हमें व्यवस्थाएँ बनानी होगी और वैक्सीन भी लगानी होगी। इसमें आप सबका सहयोग चाहिए।


यह जिंदगी बचाने का अभियान - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि 21 जून को प्रात: 10 बजे वैक्सीनेशन महाअभियान आरंभ होगा। लगभग 7 हजार वैक्सीनेशन सेंटर बनेंगे। एक दिन में 10 लाख से अधिक वैक्सीन लगाने का लक्ष्य है। आप से अपील है कि वैक्सीनेशन के लिए लोगों को प्रेरित करने के लिए आप वैक्सीनेशन सेंटर पर जायें। यह जिंदगी बचाने का अभियान है। अभियान को उत्सव के रूप में और आनंद के वातावरण में आयोजित किया जाये। आपसे मेरी प्रार्थना है कि आप प्रेरक के रूप में अपने आपको प्रस्तुत करें। प्रत्येक जिले में इन गतिविधियों का समन्वय जिला कलेक्टरों द्वारा किया जायेगा।


वैक्सीन ही सुरक्षा है, मैंने लगवाई है आप भी लगवाएँ - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आप सभी ''वैक्सीन ही सुरक्षा है'' के संदेश के साथ अपना वीडियो अपलोड करें। लोगों के छोटे-छोटे समूहों में बात करके, एसएमएस कर वैक्सीनेशन के लिए वातावरण बनाएँ। आप वैक्सीनेशन की प्रेरणा के स्रोत बनें। प्रदेश के 7 हजार वैक्सीनेशन केन्द्रों पर 7 हजार प्रेरक रहेंगे, जिनमें आप सम्मिलित हैं। आप सेंटर पर पहुँचकर दीप प्रज्जवलित कर वैक्सीनेशन कार्य का शुभारंभ करेंगे। आप वैक्सीनेशन केंद्र पर एक संकल्प दिलाएंगे, जिसमें यह संदेश होगा कि वैक्सीन ही सुरक्षा है, मैंने वैक्सीन लगवाई है आप भी वैक्सीन लगवाइए। संकल्प में दूसरों को वैक्सीन लगवाने का भाव भी होगा।


वैक्सीनेशन केन्द्रों पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन केंद्रों पर भीड़ नहीं होगी। कोविड प्रोटोकॉल का पालन किया जायेगा। वर्षा ऋतु को देखते हुए आवश्यक व्यवस्था की जा रही है। वैक्सीन लगवाने के बाद आधा घंटा बैठने के लिए उचित व्यवस्था होगी। राजनैतिक और समाज सेवी कार्यकर्ताओं द्वारा चाय, पानी आदि की व्यवस्था की जायेगी। बुजुर्गों को लाने - ले जाने के लिए वाहन की व्यवस्था की जायेगी। ऐसे बुजुर्ग जो वैक्सीनेशन सेंटर पर नहीं आ सकते हैं उन्हें टीम घर जाकर टीका लगाएगी। यह सावधानी आवश्य रखी जाये कि वैक्सीन के डोज बेकार नहीं जाये। यह जिंदगी का डोज है, एक भी डोज बेकार नहीं जाना चाहिए।


कहीं पीले चावल और कहीं डोंडी से हो रहा वातावरण निर्माण - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वैक्सीनेशन के लिए वातावरण निर्मित करने के उद्देश्य से अपने-अपने क्षेत्र में लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करें। क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियाँ, मैदानी अमला भी गाँव-गाँव में प्रचार करेगा। वातावरण निर्माण के लिए प्रदेश में अलग-अलग तरह की पहल हो रही है, कुछ गाँवों में वैक्सीनेशन के लिए पीले चावल दिये जा रहे हैं। कहीं चौकीदार डोंडी पीट रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं भी वैक्सीन के लिए लोगों को प्रेरित करेंगे। हम सब यदि जुटेंगे तो समाज में वैक्सीनेशन के लिए वातावरण बनेगा।


स्वच्छता की रैंकिंग की तरह होगी वैक्सीनेशन की रैंकिंग- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जो गाँव पूर्ण वैक्सीनेटेड होंगे उनकी रैंकिंग भी की जायेगी। जैसे स्वच्छता की रैंकिंग की है वैसे ही वैक्सीनेशन में भी गाँव, पंचायत सहित सभी स्तर पर रैंकिंग की जायेगी। इससे प्रतिस्पर्धा का भाव निर्मित होगा।


ऐसा वातावरण बने कि वैक्सीनेशन के लिए होड़ लगे- मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हमें 21 जून को ही ऐसा वातावरण बनाना है कि वैक्सीन लगवाने की होड़ लग जाए। हमारी कोशिश होनी चाहिए कि अक्टूबर-नवम्बर तक अधिकतम जनसंख्या को वैक्सीनेट करके सुरक्षित कर दिया जाए। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि इसलिए मेरी विनम्र प्रार्थना है कि इस अभियान में आप पूरा सहयोग दें। वरिष्ठों का पूरा आशीर्वाद हमें चाहिए। आप अपने अपने ढंग से प्रचार-प्रसार का अभियान चलायें। सभी धर्मगुरूओं से प्रार्थना है कि सोशल मीडिया पर भी वे वैक्सीनेशन करवाने की अपील करें। इसका गहरा असर होगा। सोशल मीडिया के लिए एम.पी. वैक्सीनेशन महाअभियान हैशटैग बनाया गया है। इस पर आपकी अपील आयेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने धर्मगुरूओं से निवेदन किया कि पूरी क्षमता से पीड़ित मानवता की सेवा में जुट जाएँ। वैक्सीनेशन कार्यक्रम को अपना काम और जनता की जिंदगी बचाने का काम समझकर जी जान से पूरा करवायें। आज के इस दौर में इससे पवित्र और पुण्य का काम कोई और नहीं है। किसी भी धर्म में दूसरों का हित करने से बड़ा धर्म कोई नहीं है। दुनिया के उदाहरण हमारे सामने हैं, तीसरे संकट का सामना करने की तैयारी हमें करनी होगी।


मध्यप्रदेश प्रस्तुत करेगा वैक्सीनेशन का विशेष मॉडल - मुख्यमंत्री श्री चौहान ने सभी जिला कलेक्टरों को सम्पूर्ण अभियान का बेहतर समन्वय सुनिश्चित करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि धर्मगुरूओं को पूरे सम्मान के साथ वैक्सीनेशन सेंटरों पर ले जाया जाए तथा उनकी बाइट तथा सोशल मीडिया पर अपील भी प्रभावी तरीके से जारी हो। हमारा प्रयास हो कि वातावरण निर्माण इस प्रकार का हो जिससे लोग स्वयं ही 21 जून को वैक्सीनेशन के लिए केंद्रों पर पहुँचे। वैक्सीनेशन का यह अभियान 21 जून से लगातार जारी रहेगा। एक से तीन जुलाई को पुन: वैक्सीनेशन महाअभियान चलाया जायेगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वे स्वयं भी इस महाअभियान में शामिल होंगे। मंत्री, राजनैतिक दल, सामाजिक कार्यकर्ता, धर्मगुरू सभी इस महाअभियान में पुन: शामिल होंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मुझे विश्वास है कि आप सबके सहयोग से वैक्सीनेशन महाअभियान का एक अलग मॉडल मध्यप्रदेश में विकसित होगा, जो अन्य राज्यों को भी दिशा देगा।


जिले में कोविड टीकाकरण महाअभियान आज से प्रारंभ, जिले में बनाए गए हैं 173 टीकाकरण केन्द्र, अभियान के पहले दिन 34300 लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य


कोरोना संक्रमण की रोकथाम हेतु शत-प्रतिशत लोगों का कोविड टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए प्रदेश के साथ ही सीहोर जिले में भी 21 जून से वैक्सीनेशन महाअभियान प्रारंभ हो रहा है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर ने बताया कि जिले में अधिक से अधिक लोगों का टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए व्यापक स्तर पर तैयारियां की गई हैं। जिले के ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्रों में कुल 173 वैक्सीनेशन सेंटर्स बनाए गए हैं, जिन पर 18 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को निःशुल्क कोविड वैक्सीन लगाई जाएगी। कलेक्टर श्री ठाकुर ने कहा कि जिले में सभी के समन्वित प्रयासों से कोरोना संक्रमण नियंत्रण में है, लेकिन अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है। हमारी थोड़ी सी लापरवाही से कोरोना संक्रमण फिर बढ़ सकता है। कोरोना संक्रमण से बचाव का वैक्सीनेशन ही सबसे कारगर उपाय है। जरूरी है कि सभी व्यक्तियों का कोविड वैक्सीनेशन किया जाए। उन्होंने कहा कि लोगों को कोविड वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने के लिए लगातार जागरूकता गतिविधियां आयोजित की जा रही है। हमारा प्रयास है कि शत-प्रतिशत वैक्सीनेशन करवा कर कोरोना संक्रमण से सुरक्षा प्रदान की जाए। इस महाअभियान के पहले दिन 21 जून को जिले में 34300 लोगों के वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा गया है।


महाअभियान के लिये जन-जागृति

कलेक्टर श्री ठाकुर ने बताया कि वैक्सीनेशन महाअभियान के लिए विभिन्न माध्यमों से आमजन को जागरूक किया जा रहा है। जिले के सभी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों में लाउडस्पीकर, मुनादी के माध्यम से लोगों को महाअभियान की जानकारी देने के साथ ही वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है। राजस्व, पुलिस, स्वास्थ्य सहित अन्य विभागों के अधिकारियों द्वारा भी ग्रामीण और नगरीय क्षेत्रों का भ्रमण कर लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त वालेंटियर्स, एएनएम, आंगनबाड़ी और आशा कार्यकर्ता, कोटवार सहित अन्य मैदानी अमले द्वारा घर-घर जाकर लोगों को वैक्सीनेशन की समझाईश दी जा रही है।


पीले चावल देकर किया जा रहा है आमंत्रित

शासकीय सेवकों, कोरोना वालेंटियर्स, जनप्रतिनिधियों, समाजसेवियों द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में घर-घर जाकर पीले चावल और आमंत्रण पत्र देकर टीका लगवाने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है। कहीं हाथ जोड़कर अभिवादन के साथ 21 जून को टीका लगवाने के लिये आमंत्रित किया जा रहा है।


कलेक्टर ने सभी वर्गों से की अपील

कलेक्टर श्री ठाकुर ने जिले में 21 जून से प्रारंभ हो रहे वैक्सीनेशन महाअभियान में सभी वर्गो से सक्रिय भागदारी निभाने की अपील की है। उन्होंने सभी धर्मगुरूओं, विभिन्न सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठन, समाजसेवी, सभी स्तर की क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटियों, कोरोना वालेंटियर्स, प्रस्फुटन समितियों सहित सभी वर्गो से वैक्सीनेशन महाअभियान में सक्रिय भूमिका निभाते हुए अधिक से अधिक लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सभी अपने परिवार, आस-पड़ोस और जान-पहचान के पात्र लोगों से पूछे कि क्या उन्होंने वैक्सीन लगवा ली है, अगर नहीं लगवाई है तो 21 जून को वैक्सीनेशन सेंटर पर जाकर वैक्सीन जरूर लगवाएं और कोरोना मुक्त जिला बनाने में अपनी भागीदारी निभाएं।


जिले में 173  टीकाकरण केन्द्र बनाए गए हैं

जिले में 21 जून से प्रारंभ होने वाले कोविड टीकाकरण महाअभियान के लिए 173 केन्द्र बनाए गए हैं। आष्टा में 39, बुधनी में 33, इछावर में 26, नसरुल्लागंज में 31, श्यामपुर में 33, सीहोर नगरीय क्षेत्र में 11 टीकाकरण केन्द्र बनाए गए हैं। एक टीकाकरण केंद्र में एएनएम, डाटा इंट्री ऑपरेटर सहित 5 लोगों की टीम पूरे टीकाकरण कार्य को संचालित करेगी। प्रत्येक केंद्र पर 18 प्लस के लिए अलग तथा 45 प्लस वाले लोगों के टीकाकरण के लिए अलग टीम होगी इन केन्द्रों में टीकाकरण के लिए आने वाले लोगों के लिये बैठने की व्यवस्था, पेयजल, आर्ब्जवेशन रूम सहित सभी जरूरी इंतजाम किए गए हैं।


सतत मॉनिटरिंग के लिए 34 सेक्टर आफिसर

टीकाकरण का कार्य सुचारू रूप से संचालित करने के लिए पूरे जिले में 34 सेक्टर आफिसर बनाये गये हैं, जो इस टीकाकरण की सतत मॉनिटरिंग करेंगे और कहीं कोई समस्या आती है तो उसका त्वरित निराकरण करेंगे।    


वृक्षाच्छादित चौपाल बनाने पंचायतों में किया जा रहा है वृक्षारोपण, कलेक्टर और सीईओ ने भी किया वृक्षारोपण


भोपाल संभागायुक्त कवींद्र कियावत के निर्देश पर जिले की ग्राम पंचायतों में चौपालों को व्यवस्थित करने की योजना पर कार्य किया जा रहा है। प्रत्येक गांव में वृक्ष आच्छादित चौपाल विकसित की जाएगी। ग्राम पंचायतों के पदाधिकारी एवं शासकीय अमले  द्वारा चौपाल बनाने के लिए वृक्षारोपण किया जा रहा है। कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर एवं जिला पंचायत सीईओ श्री हर्ष सिंह ने नसरुल्लागंज जनपद के ग्राम पीपलानी तथा सिराली में वृक्षारोपण किया। प्राचीन ग्रामीण संस्कृति एवं चौपाल न्यायिक व्यवस्था को पुनः जीवित करने के लिये जिले की सभी ग्राम पंचायतों में वृक्षारोपाण किया जा रहा है। वृक्ष आच्छादित चौपाल बनने से जहां एक ओर गांव की सामाजिक समरसता, सामूहिक निर्णय लेने की प्रथा, आपसी सद्भाव और सामंजस्य के साथ सांस्कृतिक आदान-प्रदान आदि की पुरातन व्यवस्था को सहजने का कार्य होगा। वहीं दूसरी ओर गांव में स्वास्थ्य, प्राण वायु का एक स्थाई क्षेत्र भी विकसित होगा। 


टीकाकरण के लिए आमंत्रित करने घर-घर पहुंचे एसडीएम-तहसीलदार


21 जून योग दिवस पर सरकार द्वारा शुरू किए जा रहे टीकाकरण महाअभियान को सफल बनाने के लिए कलेक्टर श्री चन्द्र मोहन ठाकुर के निर्देश पर जिले में अनेक जागरुक कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। एसडीएम श्री रवि वर्मा,  तहसीलदार श्री नरेंद्र सिंह तथा सीएमओ नगरपालिका श्री संदीप श्रीवास्तव ने अमले के साथ घर-घर पहुंच कर लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने वैक्सीन लगवाने के लिए वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचने का निमंत्रण देते हुए पीले चावल भी बांटे। शासन द्वारा नगर के प्रत्येक गली मोहल्ले में अनाउंसमेंट भी किया जा रहा है।


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान आज जिले के ग्राम पीपलानी आएंगे


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान 21 जून 2021 को जिले की नसरुल्लागंज तहसील अन्तर्गत ग्राम पीपलानी आएंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान 21 जून को दोपहर 01:45 बजे भोपाल से हेलीकाप्टर द्वारा प्रस्थान कर दोपहर 02:15 बजे ग्राम पीपलानी पहुंचेंगे। वे यहां स्थानीय कार्यक्रम में शामिल होंगे। इसके पश्चात श्री चौहान अपरान्ह 03:15 बजे ग्राम पीपलानी से हेलीकाप्टर द्वारा भोपाल के लिए रवाना होंगे।


कोरोना वालंटियर्स टीकाकरण महाअभियान के लिए घर-घर जाकर पीले चावल देकर कर रहे लोगों को आमंत्रित


म.प्र. जन अभियान परिषद की जिला समन्वयक श्रीमती पारुल उपाध्याय सहित कोरोना वालंटियर्स द्वारा जिले की ग्राम पंचायतों में 21 जून को टीकाकरण महाअभियान के लिए प्रेरित किया जा रहा है। कोरोना वालेंटियर्स द्वारा घर-घर पीले चावल देकर लोगों को वैक्सीनेशन सेंटर पर आने के लिए आमंत्रित किया जा रहा है।


जिले में आज 2 व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव  मिले

  • दो व्यक्ति रिकवर हुए, कुल रिकवर व्यक्ति की संख्या 9998, वर्तमान में कोरोना एक्टिव-पॉजिटिव की संख्या 11

पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में 02 भी व्यक्ति कोविड-19 पॉजिटिव मिले है। जो ग्राम बड़झिरी एवं मैना के रहने वाले हैं। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10126 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव 11 हैं। आज 02 व्यक्ति रिकवर हुए। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10000 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 115 है । आज 1025 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 240, श्यामपुर से 210, विकासखंड नसरुल्लागंज से 109, आष्टा से 254 एवं बुधनी से 70 तथा इछावर से 142 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 163339 हैं जिनमें से 151368 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। आज 1254 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1774 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर जिला कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर का मोबाइल नंबर 9425400273, 7987652577, 9425400453 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई-परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारंटाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारंटाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकोलॉजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं।


योग को अपनायें-निरोगी और सुरक्षित जीवन पायें- राज्य मंत्री श्री यादव


राज्य मंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी श्री बृजेन्द्र सिंह यादव ने सभी प्रदेशवासियों से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस में सहभागी बनने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा है कि हमारी आंतरिक शक्तियों को बनाये रखने के लिये योग सबसे उत्तम माध्यम है। राज्य मंत्री श्री यादव ने कहा है कि योग-प्राणायाम से हम स्वस्थ और निरोगी रहते हैंए इसलिये योग को हमें अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिये। उन्होंने कहा कि योग करने वाले व्यक्तियों में रोग-प्रतिरोधक क्षमता अधिक रहती हैए जो विभिन्न प्रकार के रोगों से उन्हें सुरक्षित रखती है।


वैक्सीनेशन करायें, स्वयं और परिवार को कोरोना से बचायें- मंत्री श्री डंग


पर्यावरण, नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा मंत्री श्री हरदीप सिंह डंग ने प्रदेश के नागरिकों से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर आरंभ हो रहे टीकाकरण महाअभियान का लाभ उठाने की अपील की है। श्री डंग ने कहा कि आप स्वयं और अपने परिवार का टीकाकरण करवायें और उन्हें कोरोना से सुरक्षित करें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन उपलब्ध कराया गया है। वैक्सीनेशन के लिये जाते समय भी मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखें। श्री डंग ने कहा कि टीकाकरण विशेष अभियान में प्रत्येक व्यक्ति जन-सहभागिता करें। उन्होंने जन-प्रतिनिधियों से कहा कि अपने-अपने गाँव, जिले और शहर में अधिक से अधिक लोगों को प्रेरित कर टीकाकरण सुनिश्चित करें। उन्होंने लोगों से अपील की कि भ्रामक अफवाहों पर विश्वास न करें। टीकाकरण करवाकर देश और प्रदेश को कोरोना महामारी से मुक्त कराने में योगदान दें।   

कोई टिप्पणी नहीं: