बिहार : 27 साल की नौकरी में 21 बार ट्रांसफर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 24 जून 2021

बिहार : 27 साल की नौकरी में 21 बार ट्रांसफर

bihar-honest-police-officer
मुंगेर. बिहार में भी मुंगेर रेंज के डीआईजी रहे मोहम्मद शफीउल हक को 27 साल की नौकरी में 21 बार ट्रांसफर हो चुका है.यहां पर एनडीए सरकार है.मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हैं.कुल मिलाकर सत्ताधारी सरकार से परेशान हैं अफसर.  27 साल की नौकरी में 21 बार ट्रांसफर बिहार में जब मुंगेर रेंज के डीआईजी रहे मोहम्मद शफीउल हक ने तबादला किए जाने के बाद अपने विदाई समारोह में भावुक होते हुए अपनी पीड़ा का इजहार किया. नम आंखों से अपना दर्द बयां करते हुए उन्होंने कहा कि 27 साल की नौकरी में 21 बार ट्रांसफर हो चुका है क्योंकि उनका कोई गॉडफादर नहीं है. अपने सम्मान में सोमवार को आयोजित विदाई समारोह में बोलते हुए उन्होंने बार-बार ट्रांसफर होने पर नाराजगी जाहिर की. अपने  संबोधन में  मोहम्मद शफीउल हक ने कहा कि वे अच्छे मूड में नहीं जा रहे. उन्होंने भावुक होते हुए कहा,  मेरा कोई वाया नहीं है, मेरा कोई रिलेशन नहीं है. मेरा कोई गॉडफादर नहीं है. 27 साल की नौकरी में 21 बार तबादला हो चुका है. हमलोग जनता के नौकर हैं और जनता की सेवा  करना हमारा काम है. मेरा कोई गॉडफादर नहीं है. मैं जहां भी जाता हूं काम करने के लिए जाता हूं. पुलिस विभाग की ओर से आयोजित विदाई समारोह में डीआइजी ने कहा कि ट्रांसफर-पोस्टिंग तो नौकरी में लगी ही रहती है, लेकिन काम करने का मौका मिलना चाहिए. काफी कम समय में उन्होंने मुंगेर में अनेक मामलों में लोगों को न्याय दिलाने का काम किया. वास्तव में एक पुलिस पदाधिकारी की नजर शेर की तरह होनी चाहिए. जो दिख जाय उसे छोड़ा नहीं जाय. पुलिस जनता के लिए काम करती है जनता का नौकर है.

कोई टिप्पणी नहीं: