बिहार : रक्तदान समूह बेतिया के सदस्यों के साथ मिलकर वर्षगांठ मनाएं - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 15 जून 2021

बिहार : रक्तदान समूह बेतिया के सदस्यों के साथ मिलकर वर्षगांठ मनाएं

blood-doner-celebrate-anniversiry
बेतिया. आज 'रक्तदान समूह बेतिया' के सदस्यों ने जश्न मनाया. जब  दुनियाभर में 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जा रहा था.तो बेतिया के युवाओं ने  'रक्तदान समूह बेतिया' गठन कर डाला.आज 'रक्तदान समूह'  की द्वितीय वर्षगांठ है.समूह के संचालक आशीष उदयपुरिया ने केक काटकर सदस्यों के साथ मिलकर वर्षगांठ मनाएं. रक्तदान समूह के संचालक आशीष उदयपुरिया ने कहा कि दुनियाभर में 14 जून को विश्व रक्तदाता दिवस मनाया जाता है.पहली बार इसे साल 2005 में मनाने की शुरूआत की गयी थी.इस दिवस का मुख्य उद्देश्य है खून की कमी से लोगों की जान न जाए. सभी रक्तदाताओं की सराहना करना और रक्तदान के लिए प्रेरित करना.उन्होंने कहा कि इस उद्देश्य से प्रभावित होकर इसी दिन युवाओं ने मिलकर पश्चिम चम्पारण जिले बेतिया में 'रक्तदान समूह बेतिया 'गठित कर दिया. उन्होंने कहा कि वर्ष 2020 में विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा विश्व रक्तदाता दिवस के लिए एक खास थीम तय की गयी थी जिसका टैग था सुरक्षित रक्तदान बचाए लोगों की जान (Safe Blood Saves Lives).  इस बार यानी 2021 में 'रक्तदान करके दुनिया को हराते रहो' (Give Blood And Keep The World Beating) थीम के साथ मनाया जा रहा है. जिसका अर्थ है कोरोना जैसी महामारी, जिसने दुनियाभर में तबाही मचायी है उसे हराया तब ही जा सकता है जब लोग बढ़ चढ़कर रक्तदान करें, इस अभियान का हिस्सा बनें. रक्तदान समूह बेतिया की सदस्या सुश्री स्वाति कुमारी श्रीवास्तव ने कहा कि रक्तदान समूह बेतिया के सदस्यों ने इन 2 वर्षों में 321 रक्तदान पूरी कर ली गयी है.रक्तदान समूह बेतिया के संचालक हैं आशीष उदयपुरिया. उनके सहयोगी हैं सुमित कुमार और नवनीत कुमार.सदस्यगण हैं स्वाति कुमारी श्रीवास्तव , लक्ष्मी सर्राफ, नीरज कुमार, जितेंद्र कुमार, मनीष कुमार आदि. उन्होंने कहा कि इन सभी सदस्यों के सहयोग से रक्तदान समूह बेतिया की अपनी एक नई पहचान बन गयी है.अपने समूह की पहचान कायम रखते हुए रक्तदान समूह बेतिया ने 2 वर्ष की जयंती पूरी की तथा केक काटा और खुशी जाहिर की साथ ही अपने ग्रुप के साथ जुड़कर काम करने के लिए युवा पीढ़ी को आमंत्रण दिया. बताया गया कि कुछ लोगों ने मिलकर रक्तदान करने की शपथ ली. 14 जून विश्व रक्तदाता दिवस के दिन रक्तदाता बनने का प्रण लेते हुए हमारी समूह के साथ कुछ और नए चेहरों ने अपना नाम दर्ज कराया. इसमें युवक-युवतियां शामिल हैं.नेहा कुमारी, आफरीन, कनकराज, श्वेता कुमारी, अभी आर्य ,आरू आर्य, विवेक कुमार आदि शामिल होकर प्रण लिया कि जब किसी को भी रक्त की आवश्यकता होगी. उन्हें रक्तदान करेंगे और इस कार्य के लिए सदैव तत्पर रहेंगे.हमेशा रक्तदान समूह बेतिया के साथ जुड़े रहेंगे. हमलोगों ने सभी नवान्तुक रक्तदान समूह के सदस्यों को साथ में जुड़ने के लिए बधाई देते हुए तथा इनके इस रक्तदाता दिवस के उपलक्ष में दिए गए प्रण के लिए धन्यवाद दिये.

कोई टिप्पणी नहीं: