कोरोना काल में दृढ़ विश्वास और प्रोत्साहनों के जरिए किये गये सुधार : मोदी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 23 जून 2021

कोरोना काल में दृढ़ विश्वास और प्रोत्साहनों के जरिए किये गये सुधार : मोदी

comitment-in-covid-pendemic-modi
नयी दिल्ली 22 जून, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कोरोना काल के दौरान केन्द्र और राज्यों ने रचनात्मक भागीदारी के आधार पर सुधारों के जरिये कोरोना महामारी की चुनौतियों से निपटने का प्रयास किया। श्री मोदी ने मंगलवार को अपना एक ब्लॉग पोस्ट लिंक्डिन प्लेटफार्म पर साझा करते हुए यह बात कही। अपनी इस पोस्ट में उन्होंने कोविड काल में सुधारों, केन्द्र - राज्य भागीदारी, रचनात्मक नीति - निर्माण के बारे में विस्तार से उल्लेख किया है। उन्होंने खुद एक ट्वीट में इस बारे में जानकारी देते हुए कहा, “दृढ़ विश्वास और प्रोत्साहनों के जरिए सुधार- कोविड-19 के काल में केन्द्र - राज्य भागीदारी की भावना से संचालित रचनात्मक नीति - निर्माण के बारे में मेरी लिंक्डिन पर पोस्ट।” प्रधानमंत्री ने पोस्ट में लिखा है कि केन्द्र और राज्यों ने सहकारी संघवाद का बेहतर उदाहरण पेश करते हुए रचनात्मक भागीदारी निभाते हुए कोरोना संकट से उत्पन्न चुनौतियों का सामना किया। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत राज्यों को अतिरिक्त उधार लेने की अनुमति दी गयी और राज्यों ने इसका फायदा उठाते हुए एक लाख करोड़ रूपये से अधिक का उधार लिया और जिससे संसाधनों मे अपेक्षाकृत बढोतरी हुई। उन्होंने कहा है कि कोरोना महामारी दुनिया भर के लिए नयी चुनौती लेकर आयी और भारत भी कोई अपवाद नहीं था। उन्होंने कहा कि इस दौरान संसाधन जुटाना सबसे बड़ी चुनौती थी लेकिन देश में केन्द्र और राज्यों की भागीदारी से इस चुनौती का सामना किया गया। कोरोना के खिलाफ अभियान में चार प्रमुख सुधारों का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि ये गरीब , पिछडे और मध्यम वर्ग के जीवन में सुधार पर आधारित थे साथ ही इनसे राजकोषीय स्थिरता को भी मजबूती मिली। पहले सुधार एक देश एक राशन कार्ड से प्रवासियों को बहुत फायदा हुआ और उन्हें कहीं से भी राशन लेने की सुविधा मिली। दूसरे सुधार के तहत व्यापार सुगमता को बढाया गया, तीसरे सुधार के तहत संपत्ति कर और जल तथा सीवर प्रभार से संबंधित दरों को अधिसूचित किया गया । इसके तहत शहरी क्षेत्रों में संपत्ति लेन देन और स्टांप शुल्क दिशा निर्देशों को अधिसूचित करने का प्रावधान किया गया। चौथे सुधार में किसानों को मुफ्त बिजली आपूर्ति के प्रत्यक्ष लाभ स्थानांतरण योजना में शामिल किया जाना था। इन सभी सुधारों के अच्छे परिणाम मिले और इसमें कई राज्यों ने अच्छा काम किया। 

कोई टिप्पणी नहीं: