त्रिपुरा भाजपा में संकट, गठबंधन सहयोगी दिल्ली रवाना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 23 जून 2021

त्रिपुरा भाजपा में संकट, गठबंधन सहयोगी दिल्ली रवाना

tripura-government-in-trouble
अगरतला 22 जून, त्रिपुरा सरकार में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सहयोगी दल के महासचिव एवं राज्य के आदिम जाति कल्याण मंत्री मेवार जमातिया के नेतृत्व में चार सदस्यीय दल मुख्यमंत्री विप्लव कुमार देव के नेतृत्व वाली राज्य सरकार में जारी संकट के समाधान के भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के आह्वान पर मंगलवार सुबह दिल्ली के लिए रवाना हुआ। श्री देव के नेतृत्व वाली भाजपा-आईपीएफटी सरकार मुख्यमंत्री की कथित बदले की राजनीति और व्यवस्थागत भ्रष्टाचार में लिप्त होने के आरोपों के बाद पिछले डेढ़ साल से बड़े पैमाने पर असंतोष का सामना कर रही है। कथित तौर पर, पार्टी की गतिविधियों में उनके अनपेक्षित हस्तक्षेप ने भाजपा और आईपीएफटी दोनों के संगठन पर सबसे बड़ा असर डाला है। इसके अलावा, 15 असंतुष्ट भाजपा विधायक, सभी 10 आदिवासी विधायक और सांसद रेवती त्रिपुरा और आईपीएफटी के अधिकतर विधायक एडीसी चुनाव के दौरान अपने निरंकुश फैसले के श्री देव के खिलाफ हो गये थे, जिसके परिणामस्वरूप भाजपा-आईपीएफटी की भारी हार हुई। भाजपा के आदिवासी विधायक उस समय और नाराज हो गये जब श्री देव ने अपने खिलाफ केंद्रीय भाजपा नेतृत्व के समक्ष आवाज उठाने के लिए उन पर निशाना साधा। रिपोर्ट के मुताबिक श्री देव ने यहां सांसद रेवती त्रिपुरा के घर से सुरक्षा वापस ले ली है। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव बी एल संतोष के दौरे के दौरान विधायकों, सांसदों और वरिष्ठ नेताओं ने मुख्यमंत्री को हटाने की मांग की थी। राज्य भाजपा में संकट के समाधान के लिए आईपीएफटी नेताओं के साथ चर्चा के तुरंत बाद श्री नड्डा के असंतुष्ट भाजपा विधायकों के साथ एक अलग बैठक करने की संभावना है। इस बीच, पश्चिम बंगाल में जीत के बाद तृणमूल कांग्रेस ने राज्य भाजपा के अंतर्कलह और मुख्यमंत्री के खिलाफ असंतोष को भुनाने के लिए त्रिपुरा पर नजरें गड़ा दी हैं और विपक्षी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के साथ मिलकर भाजपा को सत्ता से उखाड़ फेंकने का प्रयास शुरू कर दिया है। 

कोई टिप्पणी नहीं: