बेस्टसेलर लेखक दिव्य प्रकाश दुबे की इब्नेबतूती अब स्टोरीटेल पर - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

रविवार, 11 जुलाई 2021

बेस्टसेलर लेखक दिव्य प्रकाश दुबे की इब्नेबतूती अब स्टोरीटेल पर

  • • एक ऐसे बेटे की कहानी जो अपनी अकेली माँ के लिए प्रेमी या पति तलाशने ने की कोशिश करता है।
  • • लेखक  ने कहा, ऑडियोबुक एक बड़ा अवसर है और इसके प्रति  हम लोगों के व्यवहार में बदलाव देख रहे हैं।
  • •  दिव्य प्रकाश दुबे हिंदी बेस्टसेलर लेखकों में से एक हैं जिनकी किताबें लगातार नीलसन जागरण बेस्टसेलर हिंदी सूचियों में शामिल रहती हैं।

ibnebatuti-divya-prakash
नई दिल्ली : बेस्टसेलर लेखक दिव्य प्रकाश दुबे की ऑडियोबुक इब्नेबतूती एक ऐसे बेटे की कहानी है जो अपनी सिंगल मां के लिए एक प्रेमी या पति खोजने की कोशिश करता है। बेटा राघव को इस खोज में यह आभास होता है  कि यह काम उतना आसान नहीं है जितना आसान दिखता  है। लेखक  दिव्य प्रकाश दुबे द्वारा स्टोरीटेल पर खुद अपनी आवाज में  सुनाई गई यह एक गुमशुदा रिश्ते की कहानी है,जिसमें सारी अधूरी बातें, चिट्ठियां, मुलाकातें, भावनाएं, विचार और लोग हैं। लेखक ने स्टोरीटेल पर लाइव कार्यक्रम में कहा कि इब्नेबतूती की कहानी अपने प्रारंभिक चरण में एक पिता और बेटी के बारे में थी, लेकिन बाद में इसे एक माँ और पुत्र पर केंद्रित कर दिया गया। लेखक ने कहा कि हमारे समाज में एक पुरुष की दो-तीन  शादी करने की ज्यादा चर्चा नहीं होती है, लेकिन हमारे समाज में दो बार शादी करने वाली महिला चर्चा का केंद्र बंद जाती है। तो यही कारण था कि कहानी में थोड़ा बदलावा हुआ। स्टोरीटेल के लिए अपने आवाज देने के अनुभव पर बोलते हुए, दिव्य प्रकाश दुबे  ने कहा कि यह उतना आसान नहीं है जितना लोग सोचते हैं। एक रिकॉर्डिंग स्टूडियो के माइक में हर ध्वनि को कैद कर लिया जाता है, और इसलिए एक कथाकार को रिकॉर्डिंग करते समय सही भावना, उच्चारण और स्पष्टता देने की आवश्यकता होती है। अपने जीवन में ऑडियोबुक के स्थान के बारे में उन्होंने ऑडियोबुक के लाभों का हवाला देते हुए कहा कि यह सीखने का एक बड़ा स्रोत है; वास्तव में, हर बार जब वे  ट्रैफिक में फंस जाते हैं, तो वह ऑडियोबुक के रूप में कुछ सुनने में समय बिताने की कोशिश करते हैं। आगे उन्होंने कहा कि ऑडियोबुक एक बड़ा अवसर है और हम लोगों के  व्यवहार में परिवर्तन देख रहे हैं, जो आने वाले भविष्य में और अधिक दिखाई देगा, कि लोग ज्ञान और जानकारी का उपभोग कैसे करते हैं। साथ ही, मोबाइल फोन और इसी तरह के अन्य उपकरणों के लत स्वभाव के कारण, लोग उन पर अधिक से अधिक समय बिताते हैं जिसके परिणामस्वरूप आंखों में थकान होती है; और यहाँ ऑडियोबुक  बचाव का एक प्रमुख साधन है । लेखक अपने निजी जीवन से एक उदाहरण देते हुए, अपनी माँ के बारे में बताते हैं जिनकी दृष्टि उतनी अच्छी नहीं है, इसलिए दिव्य की बहन ने उन्हें इब्नेबतूती का ऑडियोबुक सुनाया, जिसे उसने केवल दो दिनों में पूरा किया। तो, यह दिव्य की पहली किताब बन गई जिसे उनकी मां ने पूरा किया और वह भी एक ऑडियोबुक के माध्यम से।


ऑडियोबुक के बारे में जानकारी MORE INFORMATION ABOUT THE AUDIOBOOK:

भाषा : हिंदी

केटेगरी : फिक्शन

प्रकाशक : स्टोरीसाइड इन

प्रकाशित : 2021-05-09

अवधि : 3 घंटे  51मिनट

दिव्य प्रकाश दुबे के दो और ऑडियोबुक ‘अक्टूबर जंक्शन’ और ‘तुम्हारा मैं’ भी नीचे दिए लिंक पर सुने जा सकते हैं :

कोई टिप्पणी नहीं: