मधुबनी : एसपी पर कोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी, ट्रेनिंग को भेजे सरकार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 जुलाई 2021

मधुबनी : एसपी पर कोर्ट की तल्ख़ टिप्पणी, ट्रेनिंग को भेजे सरकार

court-hard-coment-on-madhubani-sp
मधुबनी : झंझारपुर कोर्ट ने मधुबनी एसपी डॉ. सत्यप्रकाश को नकारा करार देते हुए बेहद सख्त टिप्पणी की है। एडीजे—1 अविनाश कुमार ने कहा कि मधुबनी एसपी को कानून और संबंधित मामलों में सुसंगत धारा लगाने की सही जानकारी नहीं है। लिहाजा उन्हें तत्कार आईपीएस ट्रेनिंग सेंटर हैदराबाद में प्रशिक्षण के लिए भेजा जाए। कोर्ट ने इस संबंध में अपनी टिप्पणियों के साथ केंद्र और राज्य सरकार को प्रत्र भेजा है। मामला मधुबनी के भैरवस्थान थाना क्षेत्र की एक लड़की के अपहरण का है। इस मामले में पुलिस की ओर से सही धारा नहीं लगाए जाने पर कोर्ट ने यह सख्त रुख अख्तियार किया है। झंझारपुर कोर्ट ने एडीजे—1 ने सुनवाई के दौरान मामले में एसपी, डीएसपी, थानाध्यक्ष के अलावा व्यवहार न्यायालय के एक न्यायिक अधिकारी की भूमिका पर भी सवाल खड़े किए और जवाब मांगे हैं।


एडीजे इन सभी से पूछा कि इस मामले में धारा 376, पॉस्को एवं बाल विवाह अधिनियम 2006 क्यों नहीं लगाई गई है। विदित हो कि भैरवस्थान की एक महिला ने अपनी बेटी के अपहरण की प्राथमिकी दर्ज कराई थी। इसमें बलवीर सदा और उसके पिता छोटू सदा व उसकी मां पर आरोप लगाए गए। अभियुक्त बलवीर 25 फरवरी 2021 से जेल में बंद है तथा उसपर पुलिस ने धारा 363, 366 A और 34 के तहत मामला दर्ज किया है। कोर्ट का मानना है कि इसमें पॉस्को, रेप, बाल विवाह अधिनियम की धारा सबसे पहले लगाई जानी चाहिए थी। अदालत में लड़की की उम्र 19 साल बताई गई थी, मगर मेडिकल रिपोर्ट में लड़की की उम्र 15 साल सामने आई थी। फिलहाल लड़के ने लड़की से शादी कर कोर्ट में सुलहनामा लगाया है। लेकिन कोर्ट ने इस पिटिशन को सुलह के लायक नहीं माना। अदालत का कहना है कि नाबालिग के साथ अपहरण और रेप के बाद सुलहनामा न्याय के विपरित है।

कोई टिप्पणी नहीं: