समस्तीपुर माॅब लिंचिंग की पीड़ितों ने बिहार के गृह सचिव से न्याय की लगाई गुहार - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 13 जुलाई 2021

समस्तीपुर माॅब लिंचिंग की पीड़ितों ने बिहार के गृह सचिव से न्याय की लगाई गुहार

  • अभी तक मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हुई, मुआवजा व सरकारी नौकरी की मांग,   ऐपवा के बैनर से आज पटना में पीड़ितों ने बयां किया अपना दर्द.

cpi-ml-demand-justice-for-samastipur-mob-lyinching
पटना 13 जुलाई, समस्तीपुर के आधारपुर में बर्बर माॅब लिंचिंग की शिकार हुई अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों ने आज पटना में एक संवाददाता सम्मेलन के जरिए बिहार के गृह सचिव से न्याय की गुहार लगाई. यह संवाददाता सम्मेलन ऐपवा के बैनर से आयोजित की गई थी, जिसमें ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी व राज्य सचिव शशि यादव भी शामिल हुईं. ऐपवा की महासचिव मीना तिवारी ने कहा कि समस्तीपुर में बर्बर माॅब लिंचिंग की घटना पर सरकार व प्रशासन ने अव्वल दर्जे की चुप्पी साध रखी है. अभी तक मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी भी नहीं हो सकी है. माॅब लिंचिंग की शिकार हुई सनोवर खातून की तीनों बेटियां भय के माहौल में जी रही हैं. उनका पूरा भविष्य अंधकारमय हो चुका है. सरकार को इस मामले में अविलंब कार्रवाई करनी चाहिए. संवाददाता सम्मेलन में माॅब लिंचिंग की शिकार हुई सनोवर खातून की तीनों बेटियां नुसरत प्रवीण, इबरत प्रवीण व चाहत प्रवीण उपस्थित हुईं. मौके पर ऐपवा की अन्य नेतागण भी उपस्थित थे.


ऐपवा नेताओं ने कहा कि कानून व्यवस्था को तोड़ने व भीड़ हिंसा के लिए उकसाने वाले भाजपा-संघ व हिंदु पुत्र के सभी लोगों के नाम एफआईआर दर्ज होना चाहिए व भीड़ को हिंसा के लिए छूट देने वाले स्थानीय थाना प्रभारी की बर्खास्तगी और महिलाओं पर हिंसा रोकने में असफल जिले के डीएम व एसपी को जबावदेह ठहराते हुए कार्रवाई होनी चाहिए. बाद में ऐपवा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने बिहार के गृह सचिव से मुलाकात की. इस प्रतिनिधिमंडल में माले विधायक मनोज मंजिल भी शामिल थे. नुसरत प्रवीण ने कहा कि समस्तीपुर जिलान्तर्गत मुफस्सिल थाना के आधारपुर गांव में विगत 21 जून 2021 को श्रवण यादव की हत्या का शोर मचाते हुए पुलिस बल की मौजूदगी में सैंकड़ों की भीड़ ने मेरे मकान को घेर लिया और घर से पहले मेरी शिक्षिका मां सनोवर खातून को खींचकर कपड़ा फाड़ते व पीटते हुए बाहर ले गई. उसके बाद मेरी दोनों बहनों को खींचकर निकाला और उन्हें भी पीटते हुए बाहर ले गई. मेरी मां एवं चचेरे भाई मो. अनवर की श्रवण यादव के घर के पास  पीट-पीट कर हत्या कर दी गई. मेरी दो बहनों को भी अन्यत्र ले जाकर मरनासन्न स्थिति में पहुंचाकर पानी के गड्ढे में फेंक दिया गया. बाद में पड़ोसियों ने उनकी जान बचाई. उसके बाद भीड़ ने मेरे व मेरे चाचा के मकान एवं ग्राहक सेवा केंद्र से नकद राशि, गहने, कीमती सामान आदि लूट लिया और फिर मकान, कार, ग्राहक सेवा केंद्र में आग लगाकर पूरी तरह उसे जला दिया गया. इससे संबंधित मुफस्सिल थाना कांड संख्या - 282/21 दर्ज किया गया है. इस मामले में पुलिस भी सक्रियता नहीं दिखला रही है.


उन्होंने प्रेस के माध्यम से बिहार सरकार से मांग की है कि

1. उक्त कांड के सारे आरोपियों की अविलंब गिरफ्तारी की जाए.

2. मृतक सनोवर खातून एवं मो. अनवर के परिजन को सरकारी नौकरी प्रदान की जाए.

3. लूट ली गई नकद राशि, गहने, जलाए गए मकान, कार, ग्राहक सेवा केंद्र समेत सभी सामानों का उचित मुआवजा प्रदान किया जाए.

4. परिजनों की सुरक्षा की गारंटी की जाए.

5. मौके पर मूकदर्शक बनी पुलिस पर कार्रवाई की जाए.

कोई टिप्पणी नहीं: