पेगासस मुद्दे की जेपीसी जांच जरूरी : माकपा - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

शुक्रवार, 23 जुलाई 2021

पेगासस मुद्दे की जेपीसी जांच जरूरी : माकपा

jpc-needed-in-pegasis-cpm
नयी दिल्ली, 23 जुलाई, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने शुक्रवार को पेगासस जासूसी विवाद की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराये जाने की मांग की। साथ ही, वाम दल ने सवाल किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 2017 की इजराइल यात्रा का क्या इस विषय से कोई लेनादेना था। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने एनएससी (राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद सचिवालय) के बजट में वृद्धि का उल्लेख करने वाली एक तस्वीर के साथ ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के बजट में 10 गुना वृद्धि 2017 में मोदी की इजराइल यात्रा के साथ-साथ हुई, जब वह भूमध्य सागर के तट पर नंगे पांव नेतन्याहू के साथ टहल रहे थे। 


भारतीयों की जासूसी के लिए पेगासस स्पाईवेयर का इस्तेमाल करने का क्या सौदा हुआ था?’’ उन्होंने मीडिया संस्थानों पर आयकर विभाग के छापों पर भी सवाल उठाए और आरोप लगाया कि जो सरकार को बेनकाब कर रहे हैं, उन पर मुकदमा किया जा रहा है। येचुरी ने कहा, ‘‘छल-कपट करने वाली सरकार है। मोदी का दुष्प्रचार तंत्र झूठ फैला कर महामारी से लड़ने में लोगों को निहत्था कर रहा है और उनकी आजीविका तबाह कर रहा है। जो लोग इसे बेनकाब कर रहे हैं, उनका भयादोहन किया जा रहा, उन पर मुकदमा किया जा रहा और गिरफ्तार किया जा रहा। ’’ पेगासस जासूसी विवाद को लेकर एक ओर जहां विपक्ष सरकार को घेरने की कोशिश कर रहा है, वहीं दूसरी ओर सरकार ने कहा है कि उसका इससे कोई लेना-देना नहीं है।

कोई टिप्पणी नहीं: