मैरीकॉम और मनप्रीत ने भारतीय दल का नेतृत्व किया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 24 जुलाई 2021

मैरीकॉम और मनप्रीत ने भारतीय दल का नेतृत्व किया

marry-com-manpreet-lead-india-in-tokyo
टोक्यो, 23 जुलाई, छह बार की विश्व चैंपियन महिला मुक्केबाज एमसी मैरीकॉम और पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने शुक्रवार को टोक्यो ओलम्पिक के उद्घाटन समारोह में मार्च पास्ट में अपने हाथों में तिरंगा लेकर भारतीय दल का नेतृत्व किया।भारत मार्च पास्ट में 21 वें स्थान पर उतरा। भारत ने इन खेलों में अपना सबसे बड़ा 127 सदस्यीय दल उतारा है जिसमें 56 महिलाएं शामिल हैं। उद्घाटन समारोह में लेकिन भारत की तरफ से 19 एथलीटों और छह अधिकारियों के दल ने हिस्सा लिया। मार्च पास्ट में हिस्सा लेने वाले छह अधिकारियों में दल प्रमुख बीरेंद्र प्रसाद बैश्य, उप दल प्रमुख डॉ प्रेम वर्मा, टीम डॉक्टर डॉ अरुण बासिल मैथ्यू, टेबल टेनिस टीम के मैनेजर एमपी सिंह, मुक्केबाजी कोच मोहम्मद अली कमर और जिम्नास्टिक कोच लखन शर्मा शामिल हैं। ब्रिटेन के मोहम्मद सबीही ओलम्पिक खेलों के इतिहास में ब्रिटेन के पहले मुस्लिम ध्वजवाहक बने। मार्च परेड का एक अन्य आकर्षण 12 वर्षीय टेबल टेनिस खिलाड़ी हेंड जारा थे जो सबसे युवा ध्वजवाहक बने। जारा ने अहमद साबेर हमचो के साथ सीरिया के ध्वजवाहक की भूमिका निभायी। जमैका के दल का नेतृत्व यहां ब्लैक ने किया जबकि टीम में आमतौर पर रहने वाले फर्राटा लीजेंड यूसैन बोल्ट इस बार नदारद थे।


चीन ने 400 लोगों से ज्यादा का अपना दल भेजा है जबकि कुवैत ने ओलम्पिक आंदोलन में वापसी की है। कुवैत को राजनीतिक हस्तक्षेप के कारण 2015 में निलंबित कर दिया गया था। इटली का बड़ा दल अपने धवज के साथ बाहर निकला। इटली की टीम में एक समान पुरुष और महिला खिलाड़ी हैं और वे 20 खेलों में हिस्सा लेंगे। ईरान का दल एक पुरुष और महिला ध्वजवाहक के साथ निकला। ईरान के दल में एक ही महिला एथलीट है। ओलम्पिक खेलों के सबसे पहले मेजबान यूनान ने मार्च पास्ट की शुरुआत की। उनके बाद शरणार्थियों का दल था। तीसरे नंबर पर आइसलैंड मौजूद था। अंतर्राष्ट्रीय ओलम्पिक समिति (आईओसी) के प्रमुख थॉमस बाक ने दलों की तरफ हाथ हिलाते हुए उनका अभिवादन किया । आयरलैंड के बाद अज़रबैजान और अफगानिस्तान निकले। अफगानिस्तान के दल में सिर्फ एक महिला एथलीट है। समूचे आयरिश दल ने जापान के शाह नारुहितो के समक्ष पूरी तरह झुकते हुए उनका अभिवादन किया । वह एकमात्र ऐसा दल था जिसने जापानी समाज में फैले रीति रिवाज का पालन किया जिसमें बड़ों के सामने आदर के तौर पर झुका जाता है। कोरोना के कारण एक वर्ष विलम्ब से शुरू हुए टोक्यो ओलम्पिक का आज टोक्यो के नेशनल स्टेडियम में विधिवत उद्घाटन हो गया । हालांकि स्टेडियम में कोरोना के चलते एक भी दर्शक मौजूद नहीं था। उद्घाटन समारोह की शुरुआत आकर्षक लाइट और साउंड प्रदर्शन से हुई जिसके बाद जापान के शाह नारुहितो और आईओसी अध्यक्ष थॉमस बाक जापान के राष्ट्रीय गान के लिए खड़े हो गए। जापान के राष्ट्रीय गान को शिरो सागिसु ने गाया। इससे पहले कोरोना से मरने वालों के लिए एक मिनट का मौन रखा गया। 68 हजार लोगों की क्षमता वाले नेशनल स्टेडियम में कोई दर्शक नहीं थे और केवल 1000 हस्तियां उद्घाटन समारोह को देखने के लिए मौजूद थीं । 

कोई टिप्पणी नहीं: