पंचायत वार्ड सचिवों पर पुलिस लाठीचार्ज नीतीश का तानाशाही कदम : राजद - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 29 जुलाई 2021

पंचायत वार्ड सचिवों पर पुलिस लाठीचार्ज नीतीश का तानाशाही कदम : राजद

rjd-condemn-nitish-lathicharge-on-panchayat-sachiv
पटना : गुरुवार को पटना के गांधी मैदान के निकट अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन करने वाले पंचायत वार्ड सचिवों पर किये गए पुलिस लाठीचार्ज को राष्ट्रीय जनता दल ने गलत ठहराया है। पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने लाठीचार्ज को लेकर कहा कि सरकार द्वारा “सात निश्चय कार्यक्रम ” को सही ढंग से कार्यरूप देने के लिए सभी ग्राम पंचायतों में वार्डसभा के माध्यम से सभी वार्डों मे वार्ड सचिवों का चयन किया गया था। नल जल योजना, गली-नली पक्कीकरण निश्चय योजना और स्ट्रीट लाइट योजना वगैरह का क्रियान्वयन के साथ हीं कोरोना काल में भी इनकी सेवा ली जा रही है। इसके एवज में इन्हें किसी प्रकार का कोई भत्ता, मानदेय या पारिश्रमिक नहीं दिया जा रहा है। आज इन्हीं सवालों को लेकर वे बिहार विधानसभा के सामने प्रदर्शन करने जा रहे थे। लेकिन पुलिस द्वारा गांधी मैदान के निकट हीं इन्हें बर्बरता पूर्वक पीटा गया। 


राजद प्रवक्ता ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में सबको अपनी बात सरकार के सामने रखने का अधिकार है। प्रदर्शन के माध्यम से अपनी बातों को सरकार तक पहुंचाने की लोकतांत्रिक परम्परा रही है। लेकिन, लोगों के लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकारों पर पाबंदी लगाने के लिए पुलिस बल का प्रयोग करना उसके तानाशाही मानसिकता की निशानी है। राजद पंचायत वार्ड सचिवों के मांगों का समर्थन करती है।उनकी जब सेवा ली गई है, तो उन्हें पारिश्रमिक मिलना चाहिए। काम करवा कर पारिश्रमिक नहीं देना नैसर्गिक न्याय और संवैधानिक प्रावधानों के खिलाफ और निन्दनीय है। विदित हो कि बिहार के 1,14,691 वार्ड सचिव बीते 4 साल के बकाये वेतन व उचित मानदेय को लेकर आज पटना में प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान वे लोग विधानसभा मार्च करने वाले थे, लेकिन पटना पुलिस ने उन्हें गांधी मैदान के पास ही रोक दिया। इस दौरान पुलिस ने प्रदर्शनकारियों पर जमकर लाठीचार्ज किया

कोई टिप्पणी नहीं: