तेजस्वी मुझसे कई कदम आगे निकल चुके : लालू यादव - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 29 जुलाई 2021

तेजस्वी मुझसे कई कदम आगे निकल चुके : लालू यादव

tejaswi-ahead-then-me-lalu-yadav
पटना : बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने अपने छोटे लाल और बिहार के नेता विपक्ष तेजस्वी यादव को लेकर बड़ी बात कही है। लालू यादव ने कहा है कि तेजस्वी यादव उनसे कई कदम आगे निकल चुके हैं। दरअसल, राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव संसद भवन में कोरोना की वैक्सीन लेने पहुंचे थे। राजद सुप्रीमो ने कोविशिल्ड का पहला डोज लिया। इसके बाद उन्होंने अपने छोटे बेटे तेजस्वी यादव को लेकर कहा कि तेजस्वी यादव हमसे बहुत आगे निकल गए हैं। लालू प्रसाद यादव ने कहा कि कोई नेता किसी के बनाने से नहीं होता है, बल्कि खुद बन जाता है। 

जब मैं जेल के अंदर था तब तेजस्वी यादव को देश ने देखा। तेजस्वी यादव हमेशा बिहार और बिहार वासियों की हित की बात करते रहें हैं। यहीं चीज उनको नेता बनाती है।वहीं जातीय जनगणना के मुद्दे को लेकर लालू यादव ने कहा कि “जातीय जनगणना होनी चाहिए। इसके लिए मैंने लगातार संघर्ष किया है। जातीय जनगणना को लेकर कोई कोताही नहीं होनी चाहिए। वहीं पटना आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि “तबीयत पहले से ठीक है। एक-दो महीने में छुट्टी मिल जाएगी।इसके अलावा ममता बनर्जी ,शरद पावर और बिहार सरकार के मंत्री मुकेश सहनी की मुलाकात को लेकर लालू ने कहा कि लोग उनसे मिलने आते रहते हैं। मालूम हो कि बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव जिस तरह हाल के दिनों में सरकार पर लगातार हमला बोल रहे हैं, साथ ही सदन में भी हर एक मामले को लेकर गंभीरता से सरकार से सवाल कर रहे हैं। इस चीज का उनको बेहद फायदा मिल रहा है। तेजस्वी यादव ने कल भी बिहार विधानसभा में 23 मार्च को हुए विधायकों के साथ झड़प को लेकर कहा कि यदि विपक्ष के किसी नेता का इसमें हाथ है तो उसकी पूरी सजा मुझे मिले मैं इसके लिए तैयार हूं। बहरहाल, देखना यह है कि जब राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव बिहार आते हैं तो राजद संगठन के अंदर किस तरह का परिवर्तन देखने को मिलता है, क्योंकि इससे पहले भी इस बात की चर्चा तेज है कि राजद तेजस्वी यादव को अपना कार्यकारी अध्यक्ष बना सकता है।

कोई टिप्पणी नहीं: