औपनिवेशिक दौर का राजद्रोह कानून खत्म होना ही चाहिए : दीपंकर भट्टाचार्य - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 जुलाई 2021

औपनिवेशिक दौर का राजद्रोह कानून खत्म होना ही चाहिए : दीपंकर भट्टाचार्य

sedition-law-should-finish-dipankar-bhattacharya
पटना 16 जुलाई, माले महासचिव काॅ. दीपंकर भट्टाचार्य ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा औपनिवेशकालीन राजद्रोह कानून पर की गई टिप्पणी को बेहद प्रासंगिक बताया है. इस टिप्पणी में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि आजाद देश में औपनिवेशिक दौर के कानून की क्या जरूरत है? जिस कानून को गांधी व अन्य स्वतंत्रता संग्राम के नेताओं को दबाने के लिए लाया गया था, वह कानून अब तक क्यों चल रहा है? माले महासचिव ने कहा कि हमने देखा है कि हाल के दिनों में इस कानून का व्यापक दुरूपयोग किया गया है और सरकार के खिलाफ चल रहे आंदोलनों में कार्यकर्ताओं को राजद्रोह कानून के तहत प्रताड़ित होते हुए देखा है. इस साल हम 75 वां स्वतंत्रता दिवस मनायेंगे. इस अवसर पर ऐसे औपनिवेशिक कानूनों को खत्म कर 75 वें स्वतंत्रता दिवस का सेलिबे्रशन किया जाना चाहिए.

कोई टिप्पणी नहीं: