इंदौर पीथमपुर और महू के नेता भी सेंचुरी आंदोलन का समर्थन करने पहुंचे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 जुलाई 2021

इंदौर पीथमपुर और महू के नेता भी सेंचुरी आंदोलन का समर्थन करने पहुंचे

  • सेंचुरी के 800 से ज्यादा श्रमिकों और करीबन 30 कर्मचारियों ने VRS का प्रस्ताव ठुकराया, जबरिया खातों में डाले गए पैसों के हाथ ना लगाने का संकल्प दोहराया 

suport-century-protest
सेंचुरी (यार्न व डेनिम) टेक्सटाईल मिल्स के, मुंबई आगरा रोड पर ग्राम सत्राटी में स्थित कुमार मंगलम बिरला समूह की कंपनी के श्रमिक कर्मचारियों का  पिछले साढे 3 साल से ज्यादा समय से चल रहा आंदोलन लगातार जारी है cenchuri प्रबंधन अपनी मनमानी पर अड़ा हुआ है और उसने कल आंदोलन को अनदेखा करते हुए एक और अवैधानिक काम किया तथा वीआरएस को अनिवार्य सेवानिवृत्ति में बदलते हुए अधिकांश मजदूरों कर्मचारियों के खाते में ग्रेच्युटी और वीआरएस की आंशिक राशि डाल दी जिसका मजदूरों ने तीव्र विरोध किया और उस राशि को हाथ न लगाने का संकल्प व्यक्त किया सेंचुरी Mil के बाहर भूख हड़ताल पर बैठे कर्मचारियों और एनबीए की नेता मेधा पाटकर का अनशन लगातार जारी है। इसका समर्थन करने के लिए इंदौर से समाजवादी नेता रामस्वरूप मंत्री, आजादी बचाओ आंदोलन के नेता जयप्रकाश  गुुुुगरी ,  किसान संघर्ष समिति के सचिव और सोशलिस्ट पार्टी इंडिया की मध्यप्रदेश इकाई के महासचिव दिनेश सिंह कुशवाह, अंबेडकर जन्मभूमि संस्थान के मोहन राव  वाकोडे, अपने साथियों के साथ सेंचुरी आंदोलन स्थल पर पहुंचे और आंदोलन का पूर्ण रूप से समर्थन किया । आंदोलनकारियों को संबोधित करते हुए रामस्वरूप मंत्री ने कहा कि यह लड़ाई अंतिम चरण में है और मिल प्रबंधन वादाखिलाफी करते हुए मजदूरों को मिलना सौंपकर पूंजी पतियों को बेचना चाहती है तथा मजदूरों के खातों में अवैधानिक तरीके से पैसा ट्रांसफर कर अंतिम हथियार का इस्तेमाल करती कर रही है जो मजदूरों की इस लड़ाई को कमजोर करने की एक साजिश है लेकिन मजदूरों का संकल्प प्रबंधन के संकल्प से ज्यादा मजबूत है इसलिए अंततः अजीत मजदूरों की ही होगी मध्य प्रदेश के 75 से ज्यादा संगठनों के नेता और देश भर के जन संगठनों का साथ सेंचुरी के इस आंदोलन को है ।इसलिए हम कानून से भी जीतेंगे और सड़क की लड़ाई से भी । सभा को जयप्रकाश  गुुुुगरी ,  मोहन राव  वाकोडे सहिित कई  लोगों ने संबोधित किया । इन नेताओं ने सेंचुरी के मजदूर कर्मचारियों को भरोसा दिलाया कि आपके इस आंदोलन में पूरे देश के अमर जोर और किसान साथ में है और अंततः जीत आपकी ही होगी श्रमिक जनता संघ के सदस्य रहे श्रमिक अपनी अभूत एकजुटता बरकरार रखे हैं सेंचुरी के श्रमिकों में से मात्र कुछ प्रतिशत श्रमिकों ने, मैनेजमेंट ने  धमकी वजा नोटिस के द्वारा प्रस्तुत किया हुआ VRS स्वीकारने की खबर है। सेंचुरी के कर्मचारियों में से करीबन 30 कर्मचारी, जो विविध विभागों में सुपरवायझरी स्तर पर कार्यरत रहे, उन्होंने 'रोजगार' के ही हक में VRS नगद राशि लेकर, किसी दबाव में न आते हुए संघर्ष में शामिल रहे हैं। मध्य प्रदेश के 70 जन संगठनों ने सेंचुरी सत्याग्रह को समर्थन दिया ही है।  संगठनों और मजदूर संगठनों के साथी हर दिन सेंचुरी सत्याग्रह स्थल पर पहुंच रहे हैं । जय आदिवासी संगठन, समाजवादी समागम , किसान संघर्ष समिति, आजादी बचाओ आंदोलन , बाबा साहब अंबेडकर  जन्मभूमि संस्थान,  भीम आर्मी  सहित विभिन्न संगठनों के  नेता और कार्यकर्ता  साथी पीथमपुर से सैकड़ों मजदूर भी आंदोलन का समर्थन करने सत्याग्रह स्थल पर अब तक पहुंच चुके हैं।  इन सभी संगठनों के नेताओं में कहा कि रोजगार को कुचलने की साजिश चलायी तो हम मध्य-रात्रि को भी आपके साथ खड़े होंगे, पूरी ताकत के साथ!

कोई टिप्पणी नहीं: