सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 16 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 16 जुलाई 2021

सीहोर (मध्यप्रदेश) की खबर 16 जुलाई

जिले में अब तक 285.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज, बीते 24 घंटे में 1.9 मिलीमीटर औसत वर्षा


जिले में 01 जून से 16 जुलाई, 2021 तक 285.2 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। जो कि गत वर्ष इसी अवधि में औसत वर्षा से 365.7 मिलीमीटर कम है। जिले की वर्षा ऋतु में सामान्य औसत वर्षा 1148.4 मिलीमीटर है। अधीक्षक भू-अभिलेख द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार 01 जून से 16 जुलाई, 2021 तक जिले के वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 291.6, मिलीमीटर, श्यामपुर में 286.0, आष्टा में 280.0 जावर में 288.0, इछावर में 261.0, नसरूल्लागंज में 342.0, बुधनी में 318.0, रेहटी में 214.8 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


बीते 24 घंटे में 1.9 मिलीमीटर औसत वर्षा

जिले में बीते 24 घंटे में प्रात: 08 बजे तक 1.9 मिलीमीटर औसत वर्षा दर्ज की गई। वर्षामापी केन्द्र सीहोर में 0.0, श्यामपुर में 0.0, आष्टा में 2.0, जावर में 0.0, इछावर में 6.0, नसरूल्लागंज में 0.0, बुधनी में 7.0 एवं रेहटी में 0.0 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की गई है।


लोकायुक्त एसपी 20 जुलाई को सीहोर में भ्रष्टाचार संबंधी शिकायतों की सुनवाई करेंगे


लोक आयुक्त एसपी श्री मनु व्यास 20 जुलाई को 11 बजे सीहोर आएंगे।  वे प्रात:11 बजे से 2 बजे  तक सर्किट हाउस के कक्ष क्रमांक 02 सीहोर में कैम्प लगा कर आम नागरिकों से भ्रष्टाचार संबंधी शिकायतें सुनेंगे।


अस्थायी पात्रता पर्ची के दस्तावेज 31 अगस्त का प्रस्तुत किए जा सकेंगे                                                              

सीहोर, 16 जुलाई 2021 राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम अंतर्गत छूटे हुए गरीब परिवारों की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए हितग्राहियों से पात्रता संबंधी घोषणा पत्र के आधार पर स्थाई पर्ची जारी करने के निर्देश दिए गए थे। ऐसे हितग्राही जिनको अस्थाई पात्रता पर्ची जारी की गई है, उन्हें स्थाई पात्रता पर्ची के लिए पात्रता श्रेणी संबंधी दस्तावेज एवं सभी सदस्यों के आधार नंबर स्थानीय निकायों को उपलब्ध कराने की तिथि 31 जुलाई नियत की गई थी। इस समयावधि में वृद्धि करते हुए दस्तावेज प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 31 अगस्त 2021 नियत की गई है।


दस्तक अभियान 19 जुलाई से 18 अगस्त तक  05 वर्ष तक के बच्चों की सघन जाँच  और स्वास्थ्य परीक्षण                                                                                                                                        

दस्तक अभियान के अंतर्गत 19 जुलाई से 18 अगस्त 2021 तक स्वास्थ्य विभाग तथा महिला एवं बाल विकास विभाग के संयुक्त दल (ए.एन.एम., आशा, एवं आंगनवाडी कार्यकर्ता) द्वारा 5 वर्ष तक की उम्र के बच्चों वाले परिवारों के घर-घर जाकर बच्चों में प्राय: पाई जाने वाली बीमारियों की सक्रिय पहचान एवं उचित प्रबंधन सुनिश्चित किया जायेगा। दस्तक अभियान का उद्देश्य 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में प्रमुख बाल्यकालीन बीमारियों की सामुदायिक स्तर पर सक्रिय पहचान एवं त्वरित प्रबंधन करना है, जिससे बाल मृत्यु दर में वांछित कमी लाई जा सके। उल्लेखनीय है कि माह जून-जुलाई में सघन दस्त रोग नियंत्रण पखवाड़ा (आई.डी.सी.एफ.) गतिविधियां भी आयोजित की जाना है, जिन्हें दस्तक अभियान की गतिविधियों के साथ 10 जुलाई से 18 अगस्त 2021 तक आयोजित किया जायेगा।   9 माह से 5 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों का विटामिन ’ए’ अनुपूरण पृथक से न कर दस्तक अभियान अंतर्गत दिनांक 19 जुलाई से 18 अगस्त 2021 तक घर-घर जाकर किया जायेगा तथा रिपोर्टिंग भी दस्तक अभियान अंतर्गत दस्तक मॉनिटरिंग टूल में की जायेगी।  समुदाय में बीमार नवजातों और बच्चों की पहचान प्रबंधन एवं रेफरल। 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में शैशव एवं बाल्यकालीन निमोनिया की त्वरित पहचान, प्रबंधन एवं रेफरल। 5 वर्ष से कम उम्र के गंभीर कुपोषित बच्चों की सक्रिय पहचान, रेफरल एवं प्रबंधन। 6 माह से 5 वर्ष तक के बच्चों में गंभीर एनीमिया की सक्रिय स्क्रीनिंग एवं प्रबंधन। 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चों में बाल्यकालीन दस्त रोग की पहचान एवं नियंत्रण हेतु ओ.आर.एस. एवं जिंक के उपयोग संबंधी सामुदायिक जागरूकता में बढ़ावा एवं प्रत्येक घर में गृहमेंट के दौरान ओ.आर.एस. पहुँचाना। (सधन दस्त रोग पखवाड़ा-आई.डी.सी.एफ. गतिविधि आयोजन) 9 माह से 5 वर्ष तक के समस्त बच्चों को विटामिन ए अनुपूरण। बच्चों में दिखाई देने वाली जन्मजात विकृतियों एवं वृद्धि विलंब की पहचान। समुचित शिशु एवं बाल आहारपूर्ति संबंधी समझाइश समुदाय को देना। एस.एन.सी.यू एवं एन.आर.सी से छुट्टी प्राप्त बच्चों में बीमारी की स्क्रीनिंग तथा फॉलोअप को प्रोत्साहन। गृह भेंट के दौरान आंशिक रूप से टीकाकृत एवं छूटे हुये बच्चों की टीकाकरण स्थिति की जानकारी लेना। दस्तक अभियान के दौरान यदि किसी बच्चे में कोविड-19 के लक्षण यथा पिछले 3 दिन से बुखार, सांस लेने में कठिनाई, कोविड-10 संक्रमित व्यक्ति के संपर्क की हिस्ट्री हो, आदि मिलने पर बच्चे को कोविड-19 की जांच हेतु रेफर किया जायेगा।    अभियान की पूर्व तैयारियों हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा निर्देशित किया गया है कि सर्वे अद्यतन एवं ड्यू लिस्ट अभियान के पूर्व आशाओं द्वारा 0 से 5 वर्ष तक के समस्त बच्चों की नामजद सूची अद्यतन की जावे तथा ए.एन.एम. के माध्यम से विकास खण्ड स्तर पर जमा की जाये। विकासखंड स्तर पर दस्तक मॉनिटरिंग टूल में 0 से 5 वर्ष तक के बच्चों की नामजद जानकारी इन्द्राज की जाये, जिससे दस्तक अभियान हेतु अपडेटेड इयू लिस्ट उपलब्ध हो।


जीका वायरस संक्रमण से बचाव के लिए पूरी बांह के कपड़े पहनें


जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी  ने बताया है कि जीका वायरस संक्रमण एक मच्छर जनित वायरस संक्रमण है। यह मच्छरों की एडीज प्रजाति द्वारा फैलता है। आमतौर पर एडीज एजिप्टी और एडीज एल्बोपिक्टस इसके लिये जिम्मेदार होते हैं। एडीज मच्छर डेंगू और चिकनगुनिया के वायरस भी फैलाते हैं। यह जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति से सम्पर्क में आकर दूसरे लोगों में वायरस फैलाने में सक्षम होते हैं। यह गर्भवती महिलाओं पर गंभीर प्रभाव डालते हैं। स्वास्थ्य विभाग ने सलाह दी है कि जीका वायरस संक्रमण से बचने के लिए इन बातों का ध्यान रखें- बुखार, गले में खराश, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, त्वचा में चकत्ते पड़ना, आंखों में जलन व आँखे लाल होना, उल्टी, हल्का बुखार एवं सिर दर्द जैसे लक्षण नजर आएं तो तुरंत डॉक्टर को दिखायें। मच्छरों को बढ़ने से रोकने के लिए ठहरे पानी को इकठ्ठा न होने दें, मच्छरदानी का इस्तेमाल करें, शरीर का अधिकतम हिस्सा ढक्कर रखें, घर और आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और बच्चों को पूरे आस्तीन कपड़े पहनायें।


तीसरी लहर के प्रति प्रदेश सरकार सजग और सतर्क : मुख्यमंत्री श्री चौहान

  • सुरक्षा के लिए अपनाएं कोविड अनुकूल व्यवहार

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना की संभावित तीसरी लहर के प्रति सरकार पूरी तरह से सजग और सतर्क है। उन्होंने प्रदेशवासियों से आव्हान किया कि कोरोना के प्रति लापरवाही बिल्कुल न बरतें, कोरोना अभी गया नहीं है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण का प्रभाव काफी कम हो गया है। इसे दृष्टिगत रखते हुए अनेक क्षेत्रों में रियायत दी गई है, लेकिन हमें सावधानी बरतने के साथ कोविड अनुकूल व्यवहार को भी अपनाना होगा।                                                       


20 नये पॉजिटिव प्रकरण

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के एक्टिव प्रकरणों की संख्या 253 है। आज 15 जुलाई को 20 नये पॉजिटिव प्रकरण पाए गए हैं तथा पॉजीटिविटी दर 0.02 प्रतिशत है। आज प्रदेश में 36 रोगी स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए और 76 हजार 201 जाँचे की गई है। प्रदेश में 1687 फीवर क्लीनिक एक्टिव है। हेल्पलाईन नम्बर 104 तथा 181 पर 51 हजार 94 रोगियों का टेली कंसल्टेशन किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि तीसरी लहर के पूर्व ही प्रदेश में तेजी से स्वास्थ्य सुविधाओं के विस्तार के साथ चिकित्सकीय अधोसंरचनाओं का निर्माण किया जा रहा है। विशेष रूप से अस्पतालों में आईसीयू बेडस की संख्या बढ़ाने के साथ ऑक्सीजन की उपलब्धता को सुनिश्चित करने के लिये ऑक्सीजन प्लांट स्थापित किये जा रहे हैं।  मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिये जो कार्य योजना बनाई गई थी उसके तहत अनेक जिलों में ऑक्सीजन प्लांटस शुरू हो चुके हैं। इस कार्य में शासन-प्रशासन के साथ राष्ट्रीय स्तर की कम्पनियों और प्रदेश के समाज सेवियों का बड़ा योगदान रहा है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश को ऑक्सीजन उत्पादन के मामले में आत्म-निर्भर बनाने की जो मुहिम शुरू हुई है, उसे निरंतर जारी रखा जाएगा। हमारी कोशिश यही होगी कि सभी अस्पतालों में मरीजों के उपचार के लिये ऑक्सीजन की उपलब्धता अस्पताल में ही सुनिश्चित हो। 


आवश्यक उपकरणों की व्यवस्था                                                                                                     

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा है कि प्रदेश में कोरोना की संभावित तीसरी लहर के लिए सभी आवश्यक तैयारियों में विस्तरों, दवाओं, ऑक्सीजन, सीटी स्केन, आईसीयू, पीआईसीयू, चिकित्सक, स्टाफ आदि की पर्याप्त व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। वर्तमान में मध्यप्रदेश में कोरोना के इलाज के लिए कुल 68 हजार से अधिक विस्तर चिन्हांकित हैं, जिनमें 54 हजार शासकीय तथा 13 हजार से अधिक निजी अस्पतालों में हैं। इनके अंतर्गत 4 हजार विस्तर प्रायवेट मेडिकल कॉलेजेस में चिन्हांकित हैं। आयुष्मान योजना अंतर्गत शासकीय एवं निजी चिकित्सालयों में कुल 31 हजार 11 विस्तर चिन्हांकित हैं। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि प्रदेश में विशेषज्ञों की समिति द्वारा गहन अध्ययन के पश्चात शिशुओं के उपचार की विस्तृत प्रोटोकॉल गाइड लाइन जारी की गई है। अभिभावक बच्चों के साथ वार्ड में रह सकें, इसके लिए भी निर्देश जारी किए गए हैं।


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा परीक्षा पर्यवेक्षकों की बैठक 23 जुलाई को


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा वर्ष-2020 के संबंध में समस्त पर्यवेक्षकों की बैठक कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में दोपहर 2 बजे से आयोजित की गई है।


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कंट्रोल रूम स्थापित


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा वर्ष-2020 के लिए जिला मुख्यालय पर 12 परीक्षा केन्द्र बनाए गए है। परीक्षा के सुचारू संचालन के लिए जिला कलेक्टर कार्यालय के कक्ष क्रमांक 15 में कंट्रोल रूम 07562-226856 बनाया गया है। कंट्रोल रूम में सहायक वर्ग-2 रोजगार कार्यालय सीहोर श्री राजू राठौर 9399782034, भृत्य कलेक्ट्रेट कार्यालय श्री नवीन शर्मा 9301099131 की ड्यूटी लगाई गई है। कार्यालयीन समय में 17 जुलाई से 24 जुलाई 2021 तक कंट्रोल में उपस्थित रहकर कोविड-19 संक्रमित अभ्यार्थी के संबंध में जानकारी एकत्रित करेंगे।


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा के लिए कोविड सम्बन्धी व्यवस्थाओं के निर्देश


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा वर्ष-2020 के लिए आयोजित होने वाली परीक्षा में सम्मिलित होने वाले अभ्‍यार्थियों के लिए कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए आवश्यक निर्देश दिये गये है।  मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्धारित परीक्षा केन्द्रों पर 1 डॉक्टर तथा 2 नर्सो की  डयूटी लगाने के निर्देश दिए है। प्रत्येक परीक्षा केन्द्र पर थर्मल कोविड मशीन, 2 पीपीई कीट की व्यवस्था करने, परीक्षा केन्द्र पर एक घंटे पूर्व संक्रमित को ले जाने के लिए एक एंम्बुलेस की व्यवस्था करने के निर्देश दिये गये है।  प्रत्येक केन्द्र पर आइसोलेशन कक्ष बनाया जाएगा। इसके सभी आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराने के निर्देश दिये हैं।


स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी - मलेरिया से सतर्क रहने की अपील


वर्षा ऋतु के आगमन के साथ मच्छर जनित रोग मलेरिया की भी संभावनाएँ होने लगी हैं। लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा एडवाइजरी में लोगों से सतर्क रहने की अपील की गई है। मलेरिया परजीवी का संक्रमण संक्रमित मादा एनाफिलीज़ मच्छर के काटने से फैलता है। यह मच्छर रुके हुए साफ पानी में पैदा होता है, अत: घर के आस-पास कहीं भी खुले स्थान पर पानी एकत्रित न होने दें। एडवाइजरी में कहा गया है कि हर सप्ताह कूलर, पानी की टंकी आदि को खाली कर सफाई करें। ऐसे स्थान जहाँ पानी की निकासी संभव न हो और अनावश्यक जल भराव हो वहाँ केरोसिन या जला हुआ तेल डालें। मच्छरदानी लगाकर सोएं। खिडकियों और दरवाजों पर मच्छरों को रोकने के लिये जाली लगायें। पूरी बाँह के कपड़े पहनें। मलेरिया के लक्षणों में ठंड लगकर तेज बुखार आना, पसीना आकर बुखार उतर जाना, रुक-रुक कर बुखार आना, सिर दर्द और उल्टी होना तथा बैचेनी, कमजोरी, सुस्ती महसूस होना शामिल है। मलेरिया के लक्षण दिखाई देने पर तत्काल शासकीय स्वास्थ्य संस्था अथवा आशा कार्यकर्ता से संपर्क कर खून की जांच करायें।


समाचार वैधानिक प्रक्रिया अपनाए बिना निराश्रित बच्चों को गोद लेने पर 6 माह का कारावास अथवा 10 हजार रूपये जुर्माना होगा


केन्द्रीय बाल संरक्षण आयोग द्वारा यह स्पष्ट किया गया है कि वैधानिक प्रकिया अपनाए बिना निराश्रित बच्चों को गोद लेने पर 6 माह का कारावास अथवा 10 हजार रूपये जुर्माना या दोनों सजा हो सकती है। आयोग द्वारा कहा गया है कि पूर्व के माह में शिकायतें प्राप्त हुई हैं जिनमें यह आरोप लगाया गया है कि कई गैर सरकारी संगठन उन बच्चों के बारे में विज्ञापन प्रसारित कर रहे हैं, जो अनाथ हो गए हैं अथवा जिन्होंने कोविड संक्रमण के फलस्वरूप अपने परिवार को खो दिया है। गोद लेना व देना एक वैधानिक प्रकिया है, जिसका पालन किया जाना अनिवार्य है। गोद लेने व देने के लिए संपूर्ण भारत में एकमात्र एवं एकीकृत प्रावधान,''केन्द्रीय दस्तक ग्रहण अधिकरण कारा है। सामान्य व्यक्ति के लिए स्पष्ट किया गया है कि ऐसे निराश्रित व जरूरतमंद बच्चों के संबंध में सोशल मीडिया पर पोस्ट डालने से बचें एवं उनकी जानकारी चाइल्ड लाइन 1098, स्थानीय पुलिस, विशेष दत्तक ग्रहण अभिकरण, बाल कल्याण समिति, जिला बाल संरक्षण इकाई अथवा कारा को सूचित करें।


आवासीय परिसर में गैर घरेलू गतिविधियाँ होने पर लें गैर घरेलू कनेक्शन


बिजली उपभोक्ता जो अपने आवासीय परिसर में रेस्ट हाउस, गेस्ट हाउस, पेइंग गेस्ट या अन्य व्यावसायिक गतिविधियों जैसे कोचिंग क्लासेस, ब्यूटी पार्लर आदि चलाते हैं, उन्हें मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने सलाह दी है कि वे संबंधित कार्यालय में जाकर अपने प्रयोजन को घरेलू से गैर घरेलू (व्यावसायिक) श्रेणी में परिवर्तित करवा लें। इसके लिए उपभोक्ताओं को एक आवेदन अपना प्रयोजन गैर घरेलू श्रेणी में परिवर्तित करने के लिए देना होगा। विद्युत वितरण कंपनी ने यह भी अपील की है कि उपभोक्ता ने जिस प्रयोजन के लिए कनेक्शन लिया है, उसी के अनुसार विद्युत का उपयोग करें। उदाहरण के लिए यदि किसी उपभोक्ता ने घरेलू (लाइट और फैन) का कनेक्शन लिया है तो वे केवल उस परिसर को निवास के रूप में उपयोग करें। कंपनी ने कहा है कि सघन चैकिंग अभियान के दौरान किसी भी प्रकार की व्यावसायिक गतिविधि आवासीय परिसर में संचालित की जा रही है, तो ऐसी गतिविधियों को गैर घरेलू प्रयोजन में माना जाएगा और संबंधित दोषी उपभोक्ता से जुर्माना वसूला जाएगा।


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा परीक्षा के लिए बनाए गए 12 परीक्षा केन्द्र, 25 जुलाई को दो सत्रों में आयोजित होगी परीक्षा


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा वर्ष-2020 के लिए जिला मुख्यालय पर 12 परीक्षा केन्द्र बनाए गए है। परीक्षा 25 जुलाई को दो सत्रों में प्रात: 10 बजे से 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित होगीl परीक्षा के 12 केंद्र बनाये गये है उनमें जिला मुख्यालय में शासकीय महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज भोपाल नाका सीहोर, शासकीय गर्ल्स कॉलेज भोपाल नाका सीहोर, विवेकानंद एकेडमी हायर सेकेंडरी स्कूल अवधपुरी कॉलोनी एसवी कॉलेज कैम्पस सीहोर, श्री सत्य सांई यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी मेडीकल साइंस सीहोर, चन्द्रशेखर आजाद कॉलेज भोपाल नाका, केन्द्रीय विद्यालय  सीहोर प्रोफेसर कॉलोनी के पास, शासकीय मॉडल हायर सेकेण्डरी स्कूल भोपाल इन्दौर हाइवे शेरपुर, शासकीय कस्तूरबा गर्ल्स हायर सेकेण्डरी स्कूल गंज सीहोर, शासकीय सुभाष हायर सेकेण्डरी स्कूल गंज सीहोर, शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई गर्ल्स हायर सेकेण्डरी स्कूल तहसील चौराहा के पास कस्बा, शासकीय उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल कस्बा तिलक पार्क के पास, शासकीय स्वामी विवेकानंद हाई स्कूल पुलिस लाईन के सामने मंडी सीहोर को परीक्षा केन्द्र बनाया गया है।


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा परीक्षा केन्द्रों के लिए उडनदस्तें किए गठित, राज्य सेवा एवं राज्य वनसेवा परीक्षा 12 केन्द्रों पर होगी आयोजित


राज्य सेवा एवं राज्य वन सेवा प्रारंभिक परीक्षा वर्ष-2020 के लिए जिला मुख्यालय पर 12 परीक्षा केन्द्र बनाए गए है। परीक्षा 25 जुलाई को दो सत्रों में प्रात: 10 बजे से 12 बजे तक और दोपहर 2.15 बजे से 4.15 बजे तक आयोजित होगी। जिला कलेक्टर कार्यालय के कक्ष क्रमांक 15 में कंट्रोल रूम 07562-226856 बनाया गया है। परीक्षा में सम्मिलित हो रहें परीक्षार्थी यदि कोविड-19 से संक्रमित है तो वह इसकी सूचना कंट्रोल रूम पर अपना नाम दर्ज करा सकते है। जिससे उन्हें पृथक से स्थापित कोविड-19 परीक्षा केन्द्र पर परीक्षा में सम्मिलित किया जा सकेगा। परीक्षा केन्द्रों के लिए 2 उडनदस्तों का गठन किया गया है जो परीक्षा के समय नकल तथा परीक्षा संबंधी आवश्यक व्यवस्थाओं का निरीक्षण करेंगे। मुख्यकार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री हर्ष सिंह को शासकीय महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज भोपाल नाका सीहोर, शासकीय गर्ल्स कॉलेज भोपाल नाका सीहोर, विवेकानंद एकेडमी हायर सेकेण्डरी स्कूल अवधपुरी कॉलोनी सीहोर, एसवी कॉलेज कैम्पस, श्री सत्य सांई यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी मेडीकल साइंस सीहोर, चन्द्रशेखर आजाद कॉलेज भोपाल नाका, केन्द्रीय विद्यालय  सीहोर प्रोफेसर कॉलोनी के पास, शासकीय मॉडल हायर सेकेण्डरी स्कूल भोपाल इन्दौर हाइवे शेरपुर परीक्षा केन्द्रों के लिए प्रभारी बनाए गए है। अपर कलेक्टर श्रीमती गुन्चा सनोबर को  शासकीय कस्तूरबा गर्ल्स हायर सेकेण्डरी स्कूल गंज सीहोर, शासकीय सुभाष हायर सेकेण्डरी स्कूल गंज सीहोर, शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई गर्ल्स हायर सेकेण्डरी स्कूल तहसील चौराहा के पास कस्बा, शासकीय उत्कृष्ट हायर सेकेण्डरी स्कूल कस्बा तिलक पार्क के पास, शासकीय स्वामी विवेकानंद हाई स्कूल पुलिस लाईन के सामने मंडी सीहोर परीक्षा केन्द्र का प्रभारी बनाया गया है।


जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला, वर्तमान में कोरोना एक्टिव पॉजिटिव की संख्या 02


पिछले 24 घंटे के दौरान प्राप्त रिपोर्ट में जिले में आज कोई भी व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव नहीं मिला है। सीएमएचओ कार्यालय से प्राप्त जानकारी के अनुसार जिले में अब तक कुल कोरोना पॉजिटिव व्यक्तियों की संख्या 10135 है। वर्तमान में एक्टिव पॉजिटिव 02 हैं। कुल रिकवर व्यक्तियों की संख्या 10018 हैं। कुल कोविड संक्रमित मृत व्यक्तियों की संख्या 115 है। आज 1246 सैम्पल लिए गए है। जांच के लिए सीहोर शहरी क्षेत्र से 247, श्यामपुर से 223, विकासखंड नसरुल्लागंज से 200, आष्टा से 258,  बुधनी से 141 तथा इछावर से 177 सेंपल लिए गए हैं। अभी तक कुल जांच के लिए भेजे गए सेंपल 191823 हैं जिनमें से 179831 सैंपलों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। आज 1041 सैंपलों की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुल 1786 सैंपलों की रिपोर्ट आना शेष है। पैथोलॉजी द्वारा कोरोना वायरस सेंपल की रिजेक्ट संख्या कुल 71 है। जिले में जो व्यक्ति होम क्वारंटाइन में हैं उनके निवास स्थान से सीधे संवाद हेतु जिला स्तरीय कोविड-19 कॉल सेंटर स्थापित किया गया है। जिसका संपर्क नंबर- 07562-1075 है। जिला स्तर पर जिला कोविड कमांड कंट्रोल सेंटर का मोबाइल नंबर 9425400273, 7987652577, 9425400453 पर कॉल सेंटर पर संपर्क किया जा सकता है। राज्य स्तर पर 104/181 नंबर पर कॉल करके भी टेलीमेडिसिन सेवा का लाभ लिया जा सकता है। 104 नंबर पर ई परामर्श सेवा का भी लाभ लिया जा सकता है। होम क्वारंटाईन व्यक्तियों तथा उनके परिजनों के लिए हेल्पलाइन नंबर 18002330175 जारी किया गया है। होम क्वारंटाईन व्यक्ति अथवा उनके परिजन इमोशनल वेलनेस अथवा साइकोलॉजिकल सपोर्ट एवं अन्य जरूरी परामर्श मानसिक सेवा प्रदाताओं से नि:शुल्क प्राप्त कर सकते हैं। मोबाइल मेडिकल यूनिट द्वारा होम आईसोलेट व्यक्तियों की सतत निगरानी की जा रही है।


पर्यावरण को स्वच्छ बनाने जन अभियान परिषद के सदस्यों ने किया पौधारोपण


sehore news
जिले में जन अभियान परिषद के सदस्यों द्वारा निरंतर पौधारोपण अभियान चलाया जा रहा है। मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के कोरोना वालेंटियर्स एवं प्रस्फुटन समिति के सदस्यों ने अंकुर अभियान के अंतर्गत ग्राम बिलकिसगंज में पौधे लगाए। ब्लाक समन्वयक प्रदीप सिंह सेंगर ने बताया कि शासन द्वारा हमारी धरती को हरियाली और सौंदर्य में वृद्धि के साथ-साथ ऑक्सीजन की उपलब्धता के लिए अंकुर कार्यक्रम शुरू किया गया है, जिसमें अधिक से अधिक पौधारोपण किया जायेगा । लोगों से प्रतिदिन न सही, लेकिन विशिष्ट अवसरों पर एक पौधा अवश्य लगाये और अपने आस-पास एवं पहचान के व्यक्तियों को पौधारोपण हेतु प्रेरित करने की अपील की। इस अवसर पर प्रस्फुटन समिति सदस्यों व कोरोना वालंटियर्स ने निरंतर पौधारोपण करने का संकल्प लिया। इस कार्यक्रम में कोरोना वालेंटियर्स एवं प्रस्फुटन समिति के सदस्य उपस्थित थे।


अब 19 जुलाई को होगा टीकाकरण


जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. एमके चंदेल ने जानकारी दी कि जिले में 17 व 18 जुलाई शनिवार-रविवार को किसी भी टीकाकरण केन्द्र पर टीकाकरण नहीं होगा। अब 19 जुलाई को ही टीकाकरण होगा।

कोई टिप्पणी नहीं: