विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 02 जुलाई - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 2 जुलाई 2021

विदिशा (मध्यप्रदेश) की खबर 02 जुलाई

महामहीम राज्यपाल को पत्र लिखकर कोविड महामारी के नियंत्रण हेतु चलाए जा रहे वैक्सीनेशन महाअभियान की व्याप्त अनियमितताओं एवं व्यवस्थाओं को सुधारा जाए-विधायक भार्गव


विदिशाः- विधायक शशांक भार्गव ने महामहीम राज्यपाल महोदय म.प्र. शासन को पत्र लिखकर अवगत कराया कि म.प्र.सरकार के मुखिया द्वारा कोरोना से बचाव के लिये वैक्सीनेशन के महाअभियान के संबंध में व्याप्त अनियमिततओं एवं अव्यवस्थाओं को दूर किए जाने के संबंध मंें अवगत कराते हुए कहा कि वर्तमान में म.प्र. सरकार द्वारा 21 जून 2021 से वैक्सीनेशन हेतु महाअभियान कार्यक्रम कोरोना महामारी की रोकथाम हेतु चलाया जा रहा है, इस अभियान के संचालन में गंभीर अनियमितताए एवं अव्यवस्थाए सामने आ रही है, जिसके चलते आम नागरिकों को वैक्सीनेशन कार्य का लाभ व्यवस्थित ढंग से प्राप्त नहीं हो पा रहा है। 21 जून 2021 को विदिशा में 20 सेन्टर घोषित किए गये थे लेकिन 19 सेन्टरांे पर ही वैक्सीनेशन कार्य वो भी आधा अधूरा किया गया। आधे से ज्यादा आम नागरिक वगैर वैक्सीनेशन के घण्टों लाईन में लगने के बाद वापस घर जाने के लिए मजबूर हुए।  उन्होंने कहा कि शासन द्वारा घोषणा की गई थी, कि वैक्सीनेशन कार्य आम चुनाव की तर्ज पर किया जायेगा, उसके बावजूद ग्रामीण क्षेत्र में 130 से 250 की संख्या तक ग्रमीणजनों को वैक्सीन लगाई गई एवं शहर मेे प्रत्येक सेन्टरों पर 250 से 300 की संख्या निर्धारित की, जबकि महाअभियान के लिए शासन की ओर से यह घोषणा की गई थी कि जो भी व्यक्ति लाईन में लगेगा उसे कोविड 19 महामारी के बचाव का वैक्सीन लगाया जायेगा, लेकिन ऐसा हकीकत में नहीं हुआ, हजारों लोग वृद्ध, बीमार महिला एवं पुरूष घण्टों लाईन मंे खडे होने के बाद वैक्सीन खत्म होने के चलते घर वापिस आने को मजबूर हुए, ऐसी उमस भरी भीषण गर्मी में वैक्सीनेशन केन्द्रो पर न तो पीने के पानी की व्यवस्था है और न ही बैठने के लिए छांव की। आम नागरिक धूप में खडे होकर लाईन में लगने केा मजबूर है जिस कारण से कई लेाग बेहोशी एवं चक्कर आने का शिकार भी हुए।  उन्होंने कहा कि शासन द्वारा 21 जून 2021 से 30 जून 2021 तक वैक्सीन लगाए जाने का प्रचार प्रसार किया गया था, लेकिन उक्त अवधि में कहीं पर भी रेगूलर वैक्सीनेशन कार्य नहीं हुआ, कभी छुट्टी के बहाने कभी वैक्सीन खत्म होेने के बहाने वैक्सीनेशन कार्य नहीं किया गया। वैक्सीनेशन कार्य में जिन लोगो को 5 जून 2021 को वैक्सीनेट किया था उनको जो सर्टिफिकेट दिये गये वो 21 जून 2021 की तारीख के दिये गये है। इस प्रकार की अनेक अनियमितताए वैक्सीनेशन कार्य में की जा रही है इन अनियमितताओं को दूर करने के लिए उन्होंने महामहीम राज्यपाल महोदय से हस्तक्षेप कर म.प्र.शासन को व्यवस्थाए सुधारे जाने हेतु निर्देशित किये जाने का अनुरोध किया। साथ ही उन्होंनंे कहा कि महामहीम महोदय आप और पूरा देश जानता है कि कोरोना बीमारी की शुरूआत के समय जब हमारे प्रधानमंत्री अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति ट्रंप की मेहमान नबाजी में व्यस्त थे, उसी समय अगर सारी इन्टरनेशनल फ्लाईटो पर प्रतिबंध लगा दिया जाता तो, भारत में कोरोना बीमारी प्रवेश ही नहीं करती। अब दूसरा अवसर जनता की जान को बचाने का वैक्सीनेशन कार्य शतप्रतिशत सुविधापूर्वक सम्पन्न हो सके ऐसी संभावना वर्तमान सरकार की व्यवस्थाओं ंको देखकर दूर दूर तक नजर नहीं आती ऐसा प्रतीत होता है कि प्रदेश के मुखिया एवं जिले में कार्यरत इनके कारिंदो द्वारा गरीब और निर्दोष जनता को मारने का मन बना रखा है। 01.04.2021 से 30.06.2021 तक कोरोना महामारी के ईलाज में अस्पतालों में बरती गई गंभीर लापरवाही एवं व्यवस्थाओं के चलते लाखों लोेग काल के गाल में समा गये। अकेले विदिशा जिले में ही 1200 से अधिक लोगों की मृत्यु कोविड 19 महामारी के चलते हुई। उन्होंने महामहीम महोदय को लिखे गये पत्र मे ंअनुरोध किया कि कोविड 19 महामारी की रोकथाम हेतु एवं तीसरी लहर की संभावना को ध्यान में रखते हुये व्यवस्थाओं के संबंध में आप हस्तक्षेप कर वैक्सीनेशन कार्य सुविधाजनक एवं व्यवस्थित रूप से संचालित हो सके साथ ही इस कार्यक्रम में गंभीर अनियमितताओं एवं लापरवाहियों की जांच कराई जाकर दोषी अधिकारियों के खिलाफ दण्डात्मक कार्यवाही की जाये जिससे कि वैक्सीनेशन कार्य के एवं कोविड 19 के बीमारी के ईलाज की व्यवस्थाओं में सुधार आ सके एवं जिन लोगों को प्रथम डोज वैक्सीन का लग चुका है ऐसे लोगों को दूसरे डोज के लिए अलग से वैक्सीनेशन सेन्टर निर्धारित किए जाने हेतु शासन को निर्देश आपके स्तर से दिये जाने का अनुरोध किया। 


हेलीपैड स्थल का जायजा 


vidisha news
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान शनिवार तीन जुलाई को कुरवाई आएंगे। प्राप्त सूचनाओं के आधार पर हेलीपैड स्थल पर की गई व्यवस्थाओं का आज कलेक्टर डॉ पंकज जैन, पुलिस अधीक्षक श्री विनायक वर्मा ने संयुक्त रूप से जायजा लिया है। गौरतलब हो कि कुरवाई की शासकीय महाविद्यालय परिसर में बनाए गए हेलीपैड स्थल पर किए जाने वाले प्रबंधो के संबंध में कलेक्टर व पुलिस अधीक्षक द्वारा आवश्यक दिशा निर्देश लोक निर्माण विभाग के कार्यपालन यंत्री श्री हेमंत राजपूत को दिए गए है। निरीक्षण के दौरान कुरवाई एसडीएम श्रीमती आरती यादव के अलावा तहसीलदार सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहें। 


तीन एवं पांच को कोविड का द्वितीय डोज टीकाकरण 


विदिशा जिले के सभी विकासखण्डो में राज्य स्तर से जारी प्रोटोकाल अनुसार कोविड 19 टीकाकरण के कार्यो का सम्पादन सुनिश्चित किया जा रहा है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संजय खरे ने बताया कि जिले के विकासखण्डो में जुलाई माह की तीन एवं पांच तारीख को केवल द्वितीय टीके लगाने का कार्य निर्धारित टीका सत्र स्थलों पर किया जाएगा। शनिवार तीन जुलाई को जिले के विकासखण्डो में केवल को-वैक्सीन का ही दूसरा टीका लगाया जाएगा इस दिन कोविशील्ड वैक्सीन का टीकाकरण कार्य नही होगा। अर्थात जिले के निर्धारित टीकाकरण सत्र स्थलों पर मात्र को-वैक्सीन का द्वितीय डोज लगाने का कार्य सम्पादित होगा। किसी भी विकासखण्ड में प्रथम डोज टीकाकरण सत्र आयोजित नही होंगे। सोमवार पांच जुलाई को कोविशील्ड वैक्सीन का द्वितीय डोज अर्थात दूसरा टीका लगाने का कार्य सभी विकासखण्डो में नियत टीकाकरण स्थलों पर किया जाएगा। सोमवार को किसी भी टीकाकरण सत्र स्थल पर प्रथम डोज अर्थात प्रथम टीका नही लगाया जाएगा और ना ही को-वैक्सीन टीकाकरण का कोई सत्र आयोजित होगा। गौरतलब हो कि ऐसे हितग्राही जिनके द्वारा 84 दिन पूर्व कोविशील्ड का प्रथम टीका लगवाया गया है। ऐेसे सभी हितग्राही द्वितीय डोज के टीकाकरण हेतु पांच जुलाई को निर्धारित टीकाकरण स्थल पर पहुंचकर टीकाकरण कार्य करा सकते है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संजय खरे ने बताया कि रविवार चार जुलाई को शासकीय अवकाश होने के कारण तथा मंगलवार छह जुलाई को गर्भवती माताओं एवं छोटे बच्चों का नियमित टीकाकरण दिवस होने के कारण पूर्व उल्लेखित दोनो तिथियों अर्थात चार एवं छह जुलाई को कोविड 19 का टीकाकरण कार्य आयोजित नही किए जाएंगे।


निकाय क्षेत्रों में रात्रि कर्फ्यू अब 11 बजे से 


vidisha news
कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के संबंध में प्रदेश के गृह विभाग द्वारा समय-समय पर आवश्यक दिशा निर्देश जारी किए जा रहे है। गृह विभाग के अपर सचिव डॉ राजेश राजोरा के द्वारा आज दो जुलाई को जारी किए गए आदेश में उल्लेख है कि राज्य के विभिन्न जिलो में कोविड 19 संक्रमण की दर में कमी को दृष्टिगत रखते हुए कोरोना कर्फ्यू के प्रतिबंधो के संबंध में विभाग द्वारा जारी पूर्व आदेश की कंडिका 16 को विलोपित करने की कार्यवाही की गई है। अपर मुख्य सचिव डॉ राजौरा द्वारा जारी आदेश में उल्लेख है कि अब पूरे प्रदेश में समस्त नगरीय क्षेत्रों में रात्रि 11 बजे से प्रातः 6 बजे तक नाइट कर्फ्यू प्रभावशील रहेगा। जारी उक्त आदेश का पालन सुनिश्चित कराने हेतु उनके द्वारा समस्त कलेक्टरों को उल्लेख किया गया है। 

मासांत तक डेंगू की रोकथाम पर विशेष अभियान  


जुलाई महा को डेंगू माह के रूप में मनाया जाता है पूरे माह में डेंगू की रोकथाम एवं बचाव के लिए जनजागरण संबंधी कार्यक्रमों का हर स्तर पर आयोजन किया जाता है। खासकर ग्रामीण क्षेत्रों में डेंगू की रोकथाम के लिए जिले में विशेष अभियान संचालित किया जा रहा है। शासकीय जिला चिकित्सालय में एक जुलाई को आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ खरे ने जुलाई माह में डेंगू से बचाव के लिए आयोजित होने वाली गतिविधियों पर गहन प्रकाश डाला। उन्होंने आमजनों को जागरूक करने के लिए प्रचार-प्रसार पर विशेष बल दिया है। जिसमें मुख्य रूप से डेंगू रोग क्या है, कैसे फैलता है इसके क्या लक्षण है। इससे कैसे बचें और यदि कोई डेंगू से संक्रमित हो जाता है तो जांच और उपचार के लिए शीघ्र ही चिकित्सकों से सम्पर्क करने की सलाह दी गई है। उक्त कार्यक्रम में डाक्टर अनूप वर्मा, डॉ राकेश सक्सेना, डॉ भूपेन्द्र सिंह चौहान, डॉ शोएब खॉन के अलावा जिला मलेरिया अधिकारी श्री बीएम वरूण तथा स्वास्थ्य विभाग के मीडिया अधिकारी श्री बीएस दांगी के अलावा अन्य स्टाफ मौजूद रहा। 


आर्थिक मदद जारी 


कलेक्टर डॉ पंकज जैन ने हिट एण्ड रन के एक प्रकरण में 15 हजार रूपए की आर्थिक मदद के आदेश जारी कर दिए है। जारी आदेश में उल्लेख है कि विदिशा शहर के सिद्वी विनायक कालोनी के निवासी विनीत कुशवाह की सडक दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर मृतक की मां श्रीमती राजबाई पत्नि श्री प्रीतम कुशवाह को 15 हजार रूपए की आर्थिक मदद जारी की गई है।


कोविड संक्रमण को रोकने के लिए नई रणनीति तय


कोविड-19 की वर्तमान संक्रमण दर एवं अपेक्षित तीसरी लहर की आशंका के दृष्टिगत समुदाय में संक्रमण के नियंत्रण एवं रोकथाम हेतु सुपर स्प्रेडर इवेंट को नियंत्रित किये जाने के लिए निर्देश जारी किये गए है। संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए क्षेत्रवार कोविङ -19 के संभावित रोगियों की पहचान के लिए नियमित रूप से निगरानी करने के निर्देश दिए गए हैं। संभावित सुपर स्प्रेडर्स को पूर्व से ही चिन्हांकित कर, क्षेत्रवार उनको सूचीबद्ध किया जाएगा। कोविड -19 के प्रसार की रोकथाम के लिए क्षेत्रवार नियमित रूप से कोविड अनुकूल व्यवहार का प्रचार-प्रसार किया जाएगा। कोविड -19 के संभावित रोगियों हेतु नियमित रूप से कोविड -19 हेतु रेण्डम संपलिंग की जाएगी तथा जांच की व्यवस्था की जाएगी। कोविड -19 जांच में यदि पॉजिटिव व्यक्ति पाए जाते हैं तो उन्हें लक्षणों के आधार पर होम आइसोलेशन अथवा संस्थागत क्वॉरेंटाइन में रखा जाएगा तथा मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को सूचित किया जाएगा। कोविड -19 के संदर्भ में सुपर स्प्रेडर एक ऐसा व्यक्ति होता है जो एक सामान्य संक्रमित व्यक्ति की तुलना में दूसरों को संक्रमित करने की अधिक संभावना रखता है और भीड़ - भाड़ वाली जगह पर कार्य करने वाले, अत्यधिक भ्रमण करने वाले, छोटी या बन्द जगह में रहने या काम करने वाले व्यक्ति, सुपरस्प्रेडर्स हो सकते है। कोविड -19 के संक्रमण की दर वर्तमान में कम हो रही है। जिस कारण अनलॉक की प्रक्रिया प्रारंभ की गई है। अनलॉक की प्रक्रिया के दौरान कोविड -19 के नियंत्रण हेतु आवश्यक है कि मैदानी क्षेत्र में निरंतर सर्वेक्षण गतिविधियां जारी रखी जाए, विशेष रूप से उन स्थानों पर जहां भीड़-भाड़ रहती है तथा एक व्यक्ति अनेक लोगों के संपर्क में आता है। यदि किसी स्थान पर एक से अधिक पॉजिटिव रोगी पाए जाते हैं तो माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाए जाएंगे। लक्षण आधारित उपचार की जानकारी व व्यवस्था उपलब्ध कराई जाएगें। ऐसे सभी व्यक्ति जो पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में हैं (कॉन्टेक्ट) उनकी ट्रेसिंग कर जांच की जाएगी। सभी सुपर स्प्रेडर इवेंट, ऐसी घटना, जिसमें एक संक्रामक रोग सामान्य से बहुत अधिक फैलता है के संभावित क्षेत्र, बाजारों तथा भीडभाड वाले क्षेत्र में नियमित रूप से सर्विलेंस गतिविधि कर सुपर स्प्रेडर्स,  संभावित संक्रमित की जांच कर आवश्यकतानुसार कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। सार्थक पोर्टल के सर्वे टीम लॉग-इन पर शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के प्रत्येक दल द्वारा किए गए कार्य,  सर्वे की रिपोर्ट को नियमित रूप से जिलों द्वारा अपलोड किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में व्यक्ति संभावित सुपरस्प्रेडर के रूप में अधिक संक्रमण फैला सकते हैं। ग्रामीण क्षेत्र जन समुदाय से सीधे संपर्क में आने वाली संस्थाओं के कर्मचारी, कीटनाशक, बीज, खाद की दुकान,  राशन की दुकान,  पोस्ट ऑफिस, बैंक,मण्डी, सार्वजनिक कार्यक्रम स्थल, धार्मिक स्थल, साप्ताहिक हाट बाजार, विशेष प्रकार के बाजार, शासकीय स्वास्थ्य संस्थान इत्यादि में संक्रमण तीव्र गति से फैलने की संभावना होती है। शहरी क्षेत्र में पेट्रोल पम्प के कर्मचारी, बस स्टैण्ड, धार्मिक स्थलों पर काम वाले, माइग्रेट, यात्री, दुकानदार, ठेले वाले, सब्जी, दूध, फेरी, ऑटो-टैक्सी वाले, मॉल में काम करने वाले, होटल के कर्मचारी, अस्पताल के कर्मचारी, जन समुदाय से नियमित रूप से सीधे संपर्क में आने वाली शासकीय संस्थाओं के कर्मचारी, नियमित बाजार, विशेष प्रकार के बाजार, कारखाने, फेक्ट्री अन्य संस्थान जो छोटे एवं बंद कमरों में संचालित किये जाते है। ऐसे लोगों के माध्यम से कोविड-19 के फैलने की संभावना अधिक होती है । समस्त शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में निरंतर निगरानी की प्रक्रिया जारी रखते हुए कोविड-19 को नियंत्रण की कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।


निम्नदाब उपभोक्ताओं को क्यूआर कोड आधारित मीटर रीडिंग की सुविधा


अब उपभोक्ताओं को अपने परिसर में लगे मीटर की रीडिंग के समय मीटर रीडर को सर्विस कनेक्शन नंबर उपलब्ध कराने के लिए पुराना बिल ढॅूंढने के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने निम्नदाब उपभोक्ताओं की वर्तमान में चल रही मीटर रीडिंग की व्यवस्था को तकनीकी रूप से सुदृढ़ बनाते हुए उपभोक्ताओं को क्यूआर कोड आधारित मीटर रीडिंग की सुविधा उपलब्ध करा दी है। प्रथम चरण में इस सुविधा को भोपाल एवं ग्वालियर के एनजीबी सॉफ्टवेयर बिलिंग प्रणाली वाले शहरी क्षेत्रों में लागू किया जा रहा है। इस सुविधा के माध्यम से मीटर रीडर उपभोक्ता का सर्विस नंबर पूछे बगैर ही उपभोक्ता के परिसर के मीटर की सही रीडिंग अपने रिकार्ड में दर्ज कर सही देयक वास्तविक उपभोक्ता को उपलब्ध करा सकेगा।  दरअसल मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी को ऐसी शिकायतें प्राप्त होती हैं कि मीटर रीडिंग के समय मीटर रीडर द्वारा सर्विस कनेक्शन नंबर मांगा जाता है जो कतिपय कारणों से उपलब्ध कराने में उपभोक्ताओं को असुविधा का सामना करना पड़ रहा था। ऐसी अवस्था में विद्युत वितरण कंपनी ने उपभोक्ताओं को क्यूआर कोड आधारित मीटर रीडिंग की सुविधा देना शुरू कर दिया है। कंपनी ने बताया है कि उपभोक्ता के परिसर में स्थापित मीटर पर मीटर रीडर द्वारा एक क्यूआर कोड आधारित स्टीकर चस्पा किया जाएगा जिसमें उपभोक्ता की समस्त जानकारी जैसे उपभोक्ता का नाम, सर्विस कनेक्शन नंबर और पता दर्ज होगा। मीटर रीडर द्वारा उपभोक्ताओं के परिसर की मीटर रीडिंग लेते समय मीटर पर चस्पा क्यूआर कोड को अपनी डिवाइस से स्केन करते ही उपभोक्ता की सारी जानकारी उसके सामने कुछ सेकेंड में ही प्रदर्शित हो जाएगी। मीटर रीडर इस जानकारी को दर्ज कर तुरंत ही उपभोक्ता को बिल जनरेट कर उपलब्ध कराएगा। इस सुविधा के माध्यम से उपभोक्ता एवं कंपनी के समय की भी बचत होगी। साथ ही बिल में गलत जानकारी के कारण होने वाली त्रुटियों की संभावना समाप्त होगी।   मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी के प्रबंध संचालक श्री गणेश शंकर मिश्रा ने कहा कि क्यूआर कोड आधारित मीटर रीडिंग त्रुटिरहित मीटर रीडिंग की त्वरित एवं बेहतर सुविधा साबित होगी। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता सेवा सर्वोपरि है। उपभोक्ताओं को कंपनी बेहतर से बेहतर सेवाएं देने के लिए कृत संकल्पित है और इसी दिशा में काम किया जा रहा है।


शिक्षा का अधिकार अधिनियम स्कूलों में अब आवेदन 9 तक , ऑनलाइन लाटरी 16 को होगी

 

शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत, सत्र 2021-22 में निजी स्कूलों की प्रथम कक्षा में निःशुल्क प्रवेश के लिए ऑनलाइन आवेदन अब 9 जुलाई 2021 तक किए जा सकेंगे। पूर्व में यह तिथि 30 जून निर्धारित थी। छात्र-हित को ध्यान में रखते हुए सत्र 2021-22 के निःशुल्क प्रवेश की गतिविधियों के लिए संशोधित समय-सारणी जारी की गयी है। पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन एवं त्रुटि सुधार के लिए विकल्प 9 जुलाई 2021 तक, ऑनलाइन आवेदन के पश्चात पोर्टल से पावती डाउनलोड कर तथा मूल दस्तावेजों से सत्यापन केन्द्रों मे सत्यापनकर्ता अधिकारियों से सत्यापन 10 जुलाई तक कराना, रेण्ड़म पद्वति से ऑनलाईन लॉटरी द्वारा स्कूल का आवंटन और चयनित आवेदको को एसएमएस द्वारा सूचना 16 जुलाई 2021 तक दी जाएगी। जिस बच्चे को ऑनलाइन लॉटरी के माध्यम से स्कूल आवंटन हुआ है, उसके द्वारा पोर्टल से आवंटन पत्र डाउनलोड कर आवंटित स्कूल में प्रवेश हेतु उपस्थित होकर प्रवेश प्राप्त करना प्रवेश की तिथि 16 से 26 जुलाई 2021 तक रहेगी। आर.टी.ई पोर्टल www.educationportal.mp.gov.in/Rte  पर ऑनलाइन आवेदन पत्र का प्रारूप उपलब्ध है। 

कोई टिप्पणी नहीं: