बिहार : भूमि खरीद कर बनाया जाएगा श्मशान घाट : सम्राट चौधरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 10 जुलाई 2021

बिहार : भूमि खरीद कर बनाया जाएगा श्मशान घाट : सम्राट चौधरी

will-make-crematorium-samrat-chaudhry
पटना : पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी जी ने कहा कि दाह संस्कार हेतु भूमि नहीं है, तो । चौधरी भाजपा पंचायती राज प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित कार्यक्रम ‘आत्मनिर्भर पंचायत-भाजपा का संकल्प’ विषय पर आयोजित बिहार के प्रखंड प्रमुखों के साथ वर्चुअल संवाद कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा कि पंचायती राज व्यवस्था को शशक्त और स्वावलंबी बनाना हमारी प्राथमिकता है। नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन और नीतीश कुमार के सहयोग से हम अपने गाँव को सभी सुविधाओं से सम्पन्न, स्वावलंबी बनायें, ये संकल्प है और इसमें आप प्रखंड प्रमुखों की अहम भूमिका है। कोरोना काल में पंचायती राज व्यवस्था ने मास्क, साबुन आदि का बड़े पैमाने पर वितरण किया गया। स्वास्थ्य से जुड़े जीवन रक्षक उपकरणों की खरीद में भी हम सहभागी बने। आने वाले समय में, स्ट्रीट लाइट, सीसीटीवी कैमरे, पंचायत भवन, RTPS काउंटर व हर पंचायत में नेटवर्क खुशहाल व समृद्ध गाँव के पैमाने बनेंगें। पंचायत प्रतिनिधियों के लिए हर प्रखंड पर प्रसाशनिक भवन का निर्माण हमारे कार्य को गतिशील बनाएगा। उन्होंने कहा कि बिहार में कई जगह दाह संस्कार के लिए भूमि का अभाव है, विशेष तौर पर उत्तर बिहार के जिलों में। अगर भूमि है तो उस पर व्यवस्थित, सुविधा युक्त शमशान बनाने में प्रतिनिधि 15 वें वित्त आयोग की राशि का उपयोग कर सकते हैं। जहां भूमि नहीं हो वहां भूमि खरीद कर कार्य को पूर्ण करने का लक्ष्य हो। मंत्री ने कहा कि चुनाव बाद सभी प्रतिनिधियो का प्रशिक्षण भी कराया जाएगा ताकि आप सब अपने कर्तव्यों और अधिकारों के प्रति और जागरूक बनें। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पंचायती राज प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोयक ओम प्रकाश भुवन ने कहा कि गांव के व्यवस्थित विकास के बगैर देश का सम्पूर्ण विकास संभव नहीं है। यह भाजपा का स्पस्ट दृष्टिकोण रहा है। उसी आधार पर आज नरेन्द्र मोदी की सरकार ने वित्त आयोग की राशि को पाँच गुणा बढ़कर गाँव के विकास का द्वार खोलने का काम किया है। जहाँ कांग्रेस 5 वर्षों में 65000 करोड़ रुपए देती थी। आज मोदी सरकार एक वर्ष में उतना पैसा दे रही है। मनरेगा के बजट वर्ष 13-14 की तुलना में 3 गुणा से ज्यादा होना, कृषि बजट साढ़े 5 गुणा बढ़ना ये समृद्व और आत्मनिर्भर गाँव की नींव बन रहे हैं। हमें पूर्ण विश्वास है कि मोदी जी के नेतृत्व व सम्राट चौधरी के सकारात्मक ऊर्जा से हम आत्मनिर्भर पंचायत-आत्मनिर्भर बिहार के संकल्प को जमीन पर उतारने में सफल होंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: