6 छात्रों श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति' स्कॉलरशिप - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 10 अगस्त 2021

6 छात्रों श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति' स्कॉलरशिप

  • राजकोट (गुजरात) की श्रीमती ज्योति द्विवेदी के नाम पर स्कॉलरशिप छात्रों को दिया गया

jyoti-dwivedi-scholership-to-6-students
मुंबई / राजकोट (गुजरात):'श्रीमती ज्योति द्विवेदी स्मृति स्कॉलरशिप' जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज, मुंबई के छात्रों को दिया जाता है। जिसके तहत दो छात्रों को उनकी ट्यूशन फीस के लिए 1,00,000 रुपये की छात्रवृत्ति दी जाती है। इस बार हाल ही में कॉलेज में आयोजित एक कार्यक्रम में वैभव तांबे और जतिन सद्रनी को यह स्कॉलरशिप' दिया गया और इस बार चार छात्रों को प्रत्येक 50,000 रुपये की अतिरिक्त तदर्थ अनुदान दिया गया है जोकि हेमंत आहेर, मृणाली बिवलकर, दर्श गणात्रा और शैली कायल है।विजेताओं को निमिश द्वारा लिखित बेस्टसेलर पुस्तक 'मार्केटिंग क्रॉनिकल्स: ए कम्पेंडियम ऑफ ग्लोबल एंड लोकल मार्केटिंग इनसाइट्स फ्रॉम प्री-स्मार्टफोन एंड पोस्ट-स्मार्टफोन एरास' भेंट की गई। श्री निमिश द्विवेदी द्वारा व्यक्तिगत रूप से JBIMS को छात्रवृत्ति राशि दी जाती है। ये स्कॉलरशिप 6 योग्य छात्रों को अपनी क्षिक्षा पूरी करने और अपने सपनो को पूरा करने में शक्षम बनाएगा| यह अनुदान श्री निमिश द्विवेदी द्वारा वर्ष 2019 में उनकी दिवंगत मां की स्मृति में उच्च शिक्षा में उनके दृढ़ विश्वास के लिए स्थापित किया गया था। वह 1960 के दशक के राजकोट (गुजरात) में  ग्रेजुएट्स महिलाओं में से एक थी। ये अनुदान मेधावी छात्रों को दिया जाता है, जो अपनी पढ़ाई के दौरान वित्तीय कठिनाइयों का सामना करते हैं। द्वितीय वर्ष के एमएमएस छात्रों को उनके प्रथम वर्ष के अंकों और उनके परिवार की वित्तीय स्थिति के आधार पर उनके शैक्षिक खर्चों को पूरा करने के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।


स्कॉलरशिप के बारे में एक भेटवार्ता के दौरान निमिश द्विवेदी ने कहा,“पहले हमारे पास ज़ूम ऐप, लैपटॉप व मोबाइल इत्यादि कुछ भी नहीं था, हमें पाठ्यपुस्तक खरीदने के लिये भी बड़ी चुनौतियों का सामना करना पड़ता था। मेरी दिवंगत मां ने मुझे सिखाया कि चुनौतियां हमें किसी भी तरह से अवरुद्ध नहीं करनी चाहिए हैं।  मैं आप सभी को सभी चुनौतियों से झूजने की इस भावना को सीखने और अपने संगठन को महान बनाने के लिए प्रोत्साहित करता हूं। " उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के अतिथि श्री इरफान ए. काजी - मुख्य निवेश अधिकारी- स्वामिह  इन्वेस्टमेंट फंड - एसबीआई केप वेंचर्स ,जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडीज के निदेशक डॉ.कविता लघाटे ने दिवंगत श्रीमती ज्योति द्विवेदी की स्मृति में श्रद्धांजलि अर्पित किया। इससे पहले मैत्रेय कैपिटल एंड बिजनेस सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड के सह-संस्थापक और निदेशक श्री गणेश कौलस्कर, फाउंडिंग फ्यूल पब्लिशिंग प्राइवेट लिमिटेड के सह-संस्थापक और निदेशक श्री इंद्रजीत गुप्ता और हेल्थ एंड ग्लो प्राइवेट लिमिटेड प्रबंध निदेशक और सीईओ  श्री वेंकटरमणि के ने इस कार्यक्रम में भाग लिया था।और इनलोगो को कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए धन्यवाद दिया।

कोई टिप्पणी नहीं: