बिहार की बेटी अनन्या सिंह ने संगीत में मचाया धूम - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 3 अगस्त 2021

बिहार की बेटी अनन्या सिंह ने संगीत में मचाया धूम

वीडियो को 24 घंटे में 7 लाख बार देखा गया


सिवान की धरती यह एक ऐसी वीर प्रतिभाओं की मिट्टी है जहाँ अनेकों व अनगिनत प्रतिभाओ ने जन्म लिया और इस सिवान की मिट्टी की खुशबू को चारों दिशाओं में फैलाया। जी हां आज हम बात करेंगे अपने ही सिवान जिले के रहने वाली प्रसिद्ध बॉलीवुड, भजन और लोकगायिका व श्री नरेन्द्र_मोदी जी के समक्ष प्रस्तुति अनगिनत अवॉर्ड से समान्नित व 400+ स्टेज शो साझा कर चुकी अनन्या सिंह जी की। यह कोई नई बात नहीं है जब बिहार की बेटी सारे देश में डंका बजा रही है, बात करे तो शारदा सिन्हा, मैथिली ठाकुर या आज एक और नाम जुड़ गया है अनन्या सिंह |


"धनी हो खोला ना केवड़िया, हम बिदेसवा जइबे ना"

यह एक पारंपरिक कजरी है जो आज से काफी समय पहले हमारे परदादा परनाना के समय में गाया जाता था। उसी पारंपरिक कजरी को नए अंदाज में अनन्या सिंह व श्री दीपक त्रिपाठी जी ने गाया है, जोकि लोक संस्कृति के लिए पिछले काफी सालों से काम कर रहे हैं आज की युवा पीढ़ी को भी अपनी परंपराओं अपने लोकगायन व संस्कृति से जोड़े रखने के लिए एक नए अंदाज में इस कजरी को सुनाया है व फिल्माया भी है। इस गीत को T-series के माध्यम से रिलीज किया गया है और मात्र 24 घंटे में 7 लाख से भी ज्यादा लोगों ने इस गीत को देखा है व सराहा है।  अनन्या सिंह जी खासतौर पर अपनी लोक संस्था "RAMRAAG" के द्वारा अपनी लोक संस्कृति को सहेज कर युवा पीढ़ी को इस से परिचित कराने का लंबे समय से काम कर रही हैं, जोकि सराहनीय है और सबसे बेहतरीन बात यह है कि यह हमारे बिहार की बेटी हैं और पूर्वांचल ही नहीं बल्कि पूरे देश में अपनी गायकी से लोगों का दिल भी जीत रही हैं आपको बता दे कि अनन्या सिंह जी अपने ही सिवान जिले के रहने वाली है और फिलहाल ये गोरखपुर में रहती है। अनन्या_सिंह जी को बचपन से संगीतो में काफी रुचि थी 2015 से विभिन्न सरकारी एवं निजी मंचों पर अपनी #गायन की प्रस्तुतियां देती आ रही है अबतक इन्होंने लगभग 400 से अधिक मंचों पर अपनी प्रस्तुतियां दी है। अनन्या_सिंह जी (लोकगीत,, क्लासिकल गीत,, बॉलीवुड गीत,, गजल,, तथा सुगम संगीत की भी प्रस्तुतियां देती है। इन्होंने काफी कम समय मे ही ढेर सारी उपलब्धियां अपने नाम कर चुकी है।। अगर हम इनकी उपलब्धियों की बात करे तो इस प्रकार है जो काफी लंबी है।



नाम- अनन्या सिंह , उम्र- 23 वर्ष, गाँव- दर्शनी, थाना- दुरौंधा (सिवान), पिता- धनञ्जय सिंह, माता- श्रीमती सुनीता सिंह गायन की छात्रा है

कोई टिप्पणी नहीं: