विख्यात फिल्म समीक्षक रशीद ईरानी का निधन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 2 अगस्त 2021

विख्यात फिल्म समीक्षक रशीद ईरानी का निधन

film-critic-rashid-irani-passes-away
मुंबई, दो अगस्त, विख्यात फिल्म समीक्षक रशीद ईरानी सोमवार को अपने आवास पर मृत पाए गए। वह 74 वर्ष के थे। ईरानी स्वास्थ्य संबंधी कई समस्याओं से जूझ रहे थे और अकेले रहते थे। उनके नजदीकी दोस्त रफीक इलियास के अनुसार, दक्षिण मुंबई के पास धोबीतालाव में अपने घर में ईरानी ने संभवत: 30 जुलाई को अंतिम सांस ली होगी। इलियास ने कहा, “यह बेहद दुखद खबर है। शुक्रवार की सुबह नहाने के दौरान उनकी मौत हुई होगी क्योंकि वह बाथरूम में पाए गए। शुक्रवार से उन्हें प्रेस क्लब या उस जगह पर नहीं देखा गया जहां वह आमतौर पर सुबह का नाश्ता करते थे।” उन्होंने कहा, “हम सब सोच रहे थे कि वह शहर से बाहर गए हैं, इसलिए हम इस उम्मीद में इंतजार कर रहे थे कि वह रविवार रात को वापस आ जाएंगे। लेकिन आज हमें चिंता हुई। हमने पुलिस को बुलाया और दरवाजा तोड़ा।” इलियास के मुताबिक ईरानी की तबीयत ठीक नहीं थी और उन्हें पिछले साल कोविड भी हुआ था। मुंबई प्रेस क्लब के आधिकारिक सोशल मीडिया खाते ने भी ट्वीट कर ईरानी के निधन की जानकारी दी। प्रेस क्लब की ओर से जारी बयान में कहा गया, “रशीद ईरानी, 74, देश के सबसे अग्रणी फिल्म समीक्षकों में से एक, का घर पर 30 जुलाई को निधन हो गया। उन्हें 2-3 दिनों से नहीं देखा गया था। उनके दोस्तों, क्लब के अधिकारियों और पुलिस द्वारा तलाशने के बाद उनके घर पर उनका पार्थिव शरीर पाया गया।” क्लब ने कहा कि ईरानी टाइम्स ऑफ इंडिया, हिंदुस्तान टाइम्स और वेबसाइट स्क्रॉल के लिए लिखते थे और वह मुंबई प्रेस क्लब सोसाइटी के एक स्तंभ थे। निर्देश करण जौहर और सुधीर मिश्रा जैसी फिल्म जगत की हस्तियों ने भी दिवंगत समीक्षक को श्रद्धांजलि दी। जौहर ने कहा कि सिनेमा पर ईरानी की सूक्ष्मदृष्टि को हमेशा सराहा जाएगा। उन्होंने ट्वीट किया, “रशीद की आत्मा को शांति मिले। उनके साथ बिताये पल मुझे याद हैं।” मिश्रा ने 1980 के दशक के दिनों को याद करते हुए कहा कि ईरानी “बंबई के उस तरह के निवासी थे” जिन्हें मैं पसंद करता था। पिछले साल ईरानी ने मिडडे को दिए साक्षात्कार में कहा था कि कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन की वजह से वह लोगों से मिल नहीं पा रहे थे जिससे वह अकेला महसूस कर रहे थे।

कोई टिप्पणी नहीं: