बिहार : लॉकडाउन के बाद लतौना पल्ली में बड़ा धार्मिक आयोजन - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

रविवार, 29 अगस्त 2021

बिहार : लॉकडाउन के बाद लतौना पल्ली में बड़ा धार्मिक आयोजन

function-at-latauna-palli-bihar
लतौना. मुजफ्फरपुर धर्मप्रांत में है लतौना पल्ली.इस पल्ली में है सेक्रेट हार्ट चर्च.लतौना पल्ली में है मरियम टोला,जोसेफ टोला, थोमस टोला,जेवियर टोला और इग्नासियुस टोला.पांचों टोला के साठ बच्चों को दृढ़करण संस्कार दिया गया.इनमें कुछ बच्चों को प्रथम परमप्रसाद संस्कार भी दिया गया.दृढ़करण संस्कार लेने वालों में कृष्ट कल्याण और प्रथम परमप्रसाद लेने वालों में स्टीव ब्लासियुस भी हैं. मुजफ्फरपुर धर्मप्रांत के महामहिम धर्माध्यक्ष काजीटन फ्रांसिस आए थे.इनके साथ लतौना पल्ली के पल्ली पुरोहित फादर डेविड,फादर विंसेंट डी पौल, फादर नीरज फादर सुशील थे.दृढ़करण संस्कार में महामहिम धर्माध्यक्ष की भूमिका होती है.कलीसिया का पोप से विशेष अधिकार प्राप्त है. प्रथम परमप्रसाद संस्कार को पल्ली पुरोहित भी भूमिका अदा कर सकते हैं.धर्म प्रचारक हाबिल अंतुनी ने दृढ़करण और परमप्रसाद संस्कार ग्रहण करने वालों को तैयारी करवाये. उल्लेखनीय है कि ईसाई समुदाय को सात संस्कार मिलता है.प्रथम संस्कार बपतिस्मा,पापस्वीकार, परमप्रसाद, दृढ़करण,विवाह, पुरोहिताई और अंतमलन.हालांकि आम आदमी को छह ही संस्कार दिया जाता है.धर्मसमाज छोड़कर निकलने वाले ही सात संस्कार प्राप्त करते है. आज संस्कारों का सिलसिला तोड़कर पहले दृढ़करण संस्कार दिया गया.उसके बाद परमप्रसाद संस्कार दिया गया.इसमें अंतर लाने से आलोचकों का जबान तेज हो गया. बताया जाता है इस धार्मिक आयोजन के बाद पुन: 2 अक्टूबर को पल्लीवासी धार्मिक आयोजन में शामिल होंगे.इस पल्ली में जन्म लेने वाले जीवन इसहाक का पुरोहिताभिषक है.अभी उपयाजक के रूप में जीवन इसहाक कुर्जी पल्ली पटना में है.

कोई टिप्पणी नहीं: