झारखंड : जंगली हाथी के कुचलने से दो ग्रामीणों की मौत - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 12 अगस्त 2021

झारखंड : जंगली हाथी के कुचलने से दो ग्रामीणों की मौत

elephant-killed-two-villegers
रांची, 11 अगस्त, झारखंड की राजधानी रांची के बुढमू इलाके में दो अलग अलग घटनाओें में दो ग्रामीणों की एक जंगली हाथी द्वारा कुचले जाने से मौत हो गई। घटना से नाराज ग्रामीणों ने मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने और हाथियों को वहां से खदेड़ने की मांग के साथ धरना प्रारंभ कर दिया। पुलिस सूत्रों ने बताया कि रांची के बुढ़मू थाना क्षेत्र में बुधवार को अपने झुंड से भटके एक जंगली हाथी ने उमेडंडा पंचायत में दो लोगों को कुचल कर मार डाला जिनमें सोसई मुर्गी पालन केन्द्र (पोल्ट्री फार्म) की देखरेख करने वाले कर्मी 45 वर्षीय अनिरुद्ध साहू और लोहरदगा जिले के बगडु थानाक्षेत्र के मेरले निवासी शंभूनाथ शामिल हैं। पुलिस ने बताया कि हाथियों के हमले से घायल दोनों ग्रामीणों की मौत घटना स्थल पर ही हो गयी। घटना की सूचना पाकर वन विभाग की टीम और बुढ़मू पुलिस मौके पर पहुंची लेकिन कांग्रेस के जिला ग्रामीण अध्यक्ष सुरेश बैठा और जिला परिषद् उपाध्यक्ष पार्वती देवी के नेतृत्व में लगभग 100 ग्रामीण मृतकों के परिजनों को तत्काल राहत राशि देने की मांग के साथ धरने पर बैठ गए। प्रदर्शनकारियों की मांग थी कि विभाग की ओर से दोनों मृतक के परिजनों को तत्काल चार - चार लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए और इसके बाद ही शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने दिया जाएगा। उन्होंने यह भी मांग की है कि हाथियों के झुंड को इस इलाके से खदेड़ा जाये जिससे यहां लोग शांति से अपना जीवन जी सकें। अधिकारियों ने बताया कि पिछले 5 दिनों से हाथियों का झुंड यहां पर घूम रहा है। लोगों का आरोप है कि वन विभाग ने अब तक इन्हें नियंत्रित करने का प्रयास नहीं किया है जिसके कारण आज यह घटना घटी। हालांकि पुलिस और वन विभाग की टीम मामले की छानबीन में जुट गयी है।

कोई टिप्पणी नहीं: