बिहार : 133 दिनों के बाद प्राथमिक विद्यालय सोमवार से खुलेंगे - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 14 अगस्त 2021

बिहार : 133 दिनों के बाद प्राथमिक विद्यालय सोमवार से खुलेंगे

school-will-open-from-monday-in-bihar
पटना : कोरोना वायरस की दूसरी लहर से थोड़ी राहत मिलने के उपरांत बिहार में लगभग 133 दिनों के बाद प्राथमिक विद्यालय फिर से खुलने वाले हैं। वहीं, फिर से खुले स्कूलों में सही ढंग से पढ़ाई और क्लास पूरे समय तक चल सके। इसको लेकर बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने सभी जिलों के डीएम और शिक्षा विभाग के अन्य पदाधिकारियों के साथ हाई लेवल मीटिंग की है। मालूम हो कि बिहार में 16 तारीख से सभी प्राथमिक विद्यालय फिर से खुल रहें हैं। इसी को लेकर शनिवार को शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव, माध्यमिक शिक्षा और प्राथमिक शिक्षा के निदेशक के साथ वर्चुअल मीटिंग की।इस बैठक में बिहार के सभी जिलों के जिलाधिकारी और शिक्षा विभाग के अन्य पदाधिकारी भी शामिल हुए। वहीं, कोरोना के कारण लगातार विद्यालयों के बंद रहने और पढ़ाई में हुए नुकसान को देखते हुए शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने कहा कि अब विद्यालय पूरे समय तक चले और शिक्षक अपना शत-प्रतिशत अध्यापन कार्य में लगाए। मंत्री ने आदेश दिया कि शिक्षा विभाग के सभी क्षेत्रीय पदाधिकारी नियमित रूप से विद्यालयों का निरीक्षण करें और वहां के वर्ग संचालन के साथ कोरोना दिशा-निर्देश और साफ सफाई पर भी नजर रखें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अधिकारी ये सुनिश्चित करेंगे कि शिक्षकों को सामान्य कार्यों, जैसे- वेतन भुगतान, विसंगति, बकाया राशि, प्रोन्नति आदि के लिए कार्यालयों का चक्कर नहीं लगाना पड़े। शिक्षक-कर्मचारी अनिवार्य रूप से टीके की दोनों ही खुराक ले लें और कोरोना गाइडलाइन का पालन करें। गौरतलब है कि, नए गाइडलाइन के अनुसार प्रत्येक दिन कक्षा में 50 फीसद बच्चे पढ़ने आएंगे यानी हर बच्चे एक दिन बीच कर पढ़ाई करने कक्षा में आएंगे। इसके साथ ही छात्र-छात्राओं एवं शिक्षक-कर्मचारियों के साथ ही स्कूलों के परिसर में आने वाले हरेक व्यक्ति के लिए मास्क अनिवार्य होगा। क्लास में बच्चे छह फीट की दूरी पर बैठेंगे। इसके अलावा वर्ग कक्षों के साथ ही डेस्क-बेंच सहित तमाम फर्नीचर सैनेटाइज किए जा रहे हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: