बेतिया : सिविल सर्जन को आशा कार्यकर्ताओं से बच्चों के स्वास्थ्य पर नजर रखने का निर्देश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

सोमवार, 13 सितंबर 2021

बेतिया : सिविल सर्जन को आशा कार्यकर्ताओं से बच्चों के स्वास्थ्य पर नजर रखने का निर्देश

  • * वायरल फीवर, निमोनिया, स्वाईन फ्लू, एईएस, जेई सहित अन्य वायरल बीमारियों पर रखें नजर : जिलाधिकारी
  • * राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत चिकित्सक दल को माइक्रो प्लान के अनुरूप विद्यालय, आंगनबाड़ी केन्द्रों पर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण करने का निर्देश

dm-betiya-order-watch-children
बेतिया। पश्चिम चम्पारण जिले में बढ़ रहे वायरल फीवर, निमोनिया आदि वायरल बीमारियों की रोकथाम के लिए जिला प्रशासन द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है। जिले के सभी सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में उक्त बीमारियों से बचाव के लिए सभी प्रकार की आवश्यक दवाई, जांच की व्यवस्था सहित रोस्टर वाइज डॉक्टर, नर्सेज आदि की समुचित व्यवस्था करने का निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिया गया है। जिलाधिकारी, पश्चिम चम्पारण, बेतिया द्वारा उक्त वायरल बीमारियों पर अंकुश लगाने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा किये जा रहे कार्यों की लगातार समीक्षा की जा रही है। इसी क्रम में आज कार्यालय प्रकोष्ठ में वायरल फीवर, निमोनिया आदि वायरल बीमारियों की रोकथाम के लिए  किये जा रहे कार्यों की समीक्षा जिलाधिकारी, श्री कुंदन कुमार द्वारा की गयी।  जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि वायरल फीवर, स्वाईन फ्लू, एईएस, जेई तथा अन्य वायरल बीमारियों सहित कोविड-19 के संक्रमण पर भी विशेष नजर रखनी है तथा इससे बचाव के लिए हर संभव प्रयास करना है। साथ ही उक्त से संबंधित अद्यतन प्रतिवेदन प्रतिदिन उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे।


सिविल सर्जन को निर्देश  दिया गया कि आशा कार्यकर्ता के माध्यम से हाउस-टू-हाउस विजिट कर बच्चों के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी प्राप्त की जाय। इस क्रम में किसी बच्चे में उक्त बीमारियों के लक्षण परिलक्षित होते हैं तो उसे तुरंत नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र में ले जाकर समुचित चिकित्सा करायी जाय। साथ ही राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम अंतर्गत चिकित्सक दल को माइक्रो प्लान के अनुरूप विद्यालय, आंगनबाड़ी केन्द्रों पर बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कराना सुनिश्चित किया जाय। जिलाधिकारी द्वारा निर्देश दिया गया कि अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों पर चिकित्सा पदाधिकारी तथा आयुष चिकित्सक को पूरी मुस्तैदी के साथ अपने कर्तव्यों  एवं दायित्वों का निवर्हन करेंगे। वायरल बीमारियों से संबंधित लक्षणात्मक बच्चों का समुचित उपचार करेंगे तथा आवश्यकतानुसार उच्चतर स्वास्थ्य संस्थान में ईलाज के लिए रेफर करेंगे तथा इसकी सूचना जिला मुख्यालय को प्रतिदिन उपलब्ध करायेंगे। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि मस्तिष्क ज्वर की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी ”चमकी को धमकी” के तीन मुख्य बातें यथा-(1) खिलाओ- बच्चों को रात में सोने से पहले  भरपेट खाना जरूर खिलाएं (2) जगाओ-रात के बीच में एवं सुबह उठते ही देखें कि कहीं बच्चा बेहोश या उसे चमकी तो नहीं एवं (3) अस्पताल ले जाओ-बेहोशी या चमकी दिखते ही आशा को सूचित कर तुरंत 102 एम्बुलेंस या उपलब्ध वाहन से नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र ले जाएं का व्यापक प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें।  जिलाधिकारी द्वारा अभिभावकों से अपील की गयी है कि अभिभावक अपने-अपने बच्चों को रात में बिना खाना खिलाएं नहीं साने दें। अगर कोई बच्चा शाम के समय में खाना खाया है और सो गया है तो उसे भी रात में जगाकर अवश्य खाना खिलाएं। इसके साथ ही बच्चों को रात में सोते समय अनिवार्य रूप से मीठा सामग्री यथा-गुड़, शक्कर, चीनी आदि खिलाएं। उन्होंने कहा कि चमकी बुखार अधिकांशतः रात के 02 बजे से 04 बजे के बीच अक्रामक रूप लेता है, इस समय सभी अभिभावकों को सचेत रहने की आवश्यकता है।  इस अवसर पर उप विकास आयुक्त, श्री अनिल कुमार, अपर समाहर्ता, श्री नंदकिशोर साह, जिला आपदा प्रभारी पदाधिकारी, श्री अनिल राय, डीपीएम, श्री सलीम जावेद सहित अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

कोई टिप्पणी नहीं: