मधुबनी : स्थानीय भोजन से कुपोषण पर लगेगी रोक : जिलाधिकारी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

गुरुवार, 16 सितंबर 2021

मधुबनी : स्थानीय भोजन से कुपोषण पर लगेगी रोक : जिलाधिकारी

will-stop-mal-nutrition-dm-madhubani
मधुबनी, आज दिनांक 16/09/2021 को श्री अमित कुमार, भाo, प्रo, सेo, जिला पदाधिकारी, मधुबनी द्वारा जिले में आमजनों को पोषण के प्रति जागरूक करने के लिए जागरूकता रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया गया। हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी जिले में एक सितंबर से तीस सितंबर तक पोषण माह मनाया जा रहा है। इस अवसर पर जिलाधिकारी द्वारा आयोजन में शामिल सभी लोगों का उत्साहवर्धन किया गया और आम जनों तक स्थानीय भोजन की विशेषताओं को पंहुचाने का निर्देश दिया गया। उन्होंने कहा कि अधिक मात्रा में भोजन करना शरीर को स्वस्थ नहीं रखता, बल्कि हम सभी को संतुलित भोजन पर जोर देना चाहिए। यदि हम स्थानीय स्तर पर अपने आसपास उपलब्ध भोजन सामग्रीयों का अपने भोजन में उचित समायोजन करें, तो बेहतर स्वास्थ्य हासिल कर सकते हैं। भोजन का साफ सुथरा रखरखाव और स्वच्छ पेयजल  अपनाने से कुपोषण को प्रभावी तरीके से नियंत्रित किया जा सकता है। उन्होंने जोड़ दिया कि विशेषकर बच्चों में कुपोषण को दूर करने के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों को और अधिक कोशिशें करनी पड़ेंगी। उन्होंने कहा कि जिले में कुपोषण को प्रतिवर्ष कम से कम दो प्रतिशत और एनीमिया को तीन प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को हासिल करने में जनजागरुकता एक प्रभावी साधन हो सकता है। इस उद्देश्य को दृष्टिगत रखते हुए जन जागरूकता रथ को जिले के विभिन्न भागों में भेजा जा रहा है। यह रथ अपने आयोजन के संकल्प सूत्र  " कुपोषण छोड़ पोषण की ओर, थामे क्षेत्रीय भोजन की डोर" को अधिक से अधिक लोगों में पंहुचाने का काम करेगा।

कोई टिप्पणी नहीं: