बेतिया : जिले में मखाना की खेती का प्रयोग रहा शत-प्रतिशत सफल - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 22 सितंबर 2021

बेतिया : जिले में मखाना की खेती का प्रयोग रहा शत-प्रतिशत सफल

  • पॉयलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरू कराये गये मखाने की खेती से अच्छी पैदावार देख किसान हुए गदगद।मखाने की खेती से चौर जैसे जल क्षेत्र का होगा सदुपयोग।मखाने की खेती से किसानों को होगा अत्यधिक लाभ, रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।इच्छुक व्यक्ति व्हाट्सएप नंबर-9473191585 पर करें संपर्क।मखाने की खेती को बढ़ावा देने हेतु किसानों को उत्साहित, जागरूक एवं प्रेरित करें..

makhana-farmimg-in-betiya
बेतिया। पॉयलट प्रोजेक्ट के रूप में पश्चिमी चम्पारण जिले में मखाने की खेती की शुरूआत करायी गयी थी जो शत-प्रतिशत सफल रहा है। कृषि विभाग द्वारा आधुनिक तरीके से पश्चिम चम्पारण जिलान्तर्गत साठी थाना क्षेत्र के सम्हौता ग्राम सहित अन्य क्षेत्रों में मखाना की खेती को करने को इच्छुक व्यक्तियों से संपर्क साध कर मखाना की खेती की शुरूआत की गयी थी। अच्छी पैदावार देख संबंधित किसान खासे उत्साहित एवं गदगद हैं। मखाने की खेती से किसानों को अत्यधिक लाभ मिलेगा। जिला प्रशासन द्वारा प्रारंभ किये गये इस अभिनव प्रयोग से चौर जैसे जल क्षेत्र का सदुपयोग होगा तथा रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे। इसी परिप्रेक्ष्य में आज जिलाधिकारी कार्यालय प्रकोष्ठ में संबंधित अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक सम्पन्न हुयी। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि जिले में मखाना की खेती की शुरूआत होना एवं आशातीत सफलता प्राप्त करना बेहद संतोषजनक है। इससे जिले के किसानों की आर्थिक स्थिति सुदृढ़ होगी तथा उन्हें इसी जिले में रोजगार उपलब्ध हो पायेगा।


जिला मत्स्य पदाधिकारी को निर्देश दिया गया कि मखाना की खेती करने करने के जिले में अपार संभावनाएं हैं। इसके लिए चौर को चिन्हित किया जाय जहां मखाने की खेती की जा सके। साथ ही मखाने की खेती को बढ़ावा देने के लिए किसानों को उत्साहित, जागरूक एवं प्रेरित करायें। जिलाधिकारी ने एक टीम का गठन करने का निर्देश भी दिया है जो किसानों को मखाना की खेती करने के लिए जागरूक एवं प्रेरित करे। साथ ही मखाना की खेती करने के इच्छुक व्यक्तियों की सहूलियत के लिए एक व्हाट्सएप नंबर जारी करने का निर्देश जिलाधिकारी द्वारा दिया गया।  जिला कृषि पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि जिले में मखाना की खेती को बढ़ावा देने के उदेश्य से जिलाधिकारी के निर्देश के आलोक में कार्य किया गया है। दरभंगा जिले से मखाना के एक्सपर्ट को बुलाया गया और उनके माध्यम से बीज प्राप्त करते हुए मखाने की खेती प्रारंभ की गयी। उन्होंने बताया कि दरभंगा के मखाना व्यवसायी द्वारा 16 हजार रुपया प्रति क्विंटल की दर से 400 क्विंटल तक मखाना क्रय करने की बात कही गयी है। साथ ही देश के अन्य हिस्सों में भी मखाना बिक्री के लिए मार्केट लिंकेज की समुचित व्यवस्था की गयी है ताकि जिले में उत्पादित मखाना का ससमय बिक्री हो सके। उन्होंने बताया कि जिले में मखाना प्रोसेसिंग प्लांट नहीं होने के कारण जिले में उत्पादित मखाना को अन्य शहरों में भेजा जायेगा। जिलाधिकारी ने निर्देश दिया कि जिले में ही मखाना प्रोसेसिंग प्लांट का अधिष्ठापन कराने के लिए अग्रतर कार्रवाई सुनिश्चित करें ताकि मखाना कृषकों को परेशानियों का सामना नहीं करना पड़े। जिला मत्स्य पदाधिकारी द्वारा बताया गया कि मखाना की खेती करने के लिए उपर्युक्त समय नवंबर-दिसंबर है। जिले के इच्छुक किसान जो मखाना की खेती करना चाहते हैं वे व्हाट्सएप नंबर-9473191585 पर संपर्क कर सकते हैं, अपना आवेदन समर्पित कर सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: