सुंदर राठी ने सरकार को जल समस्या एवं बाढ़ मुक्त देश का प्रोजेक्ट सौंपा - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 21 सितंबर 2021

सुंदर राठी ने सरकार को जल समस्या एवं बाढ़ मुक्त देश का प्रोजेक्ट सौंपा

flood-free-nation-project
नई दिल्ली। प्रतिवर्ष - 40 लाख लोगों के जीवन की रक्षा करने, 5 करोड़ घरों को बाढ़ में डूबने से बचाने, देश की 50 लाख करोड़ (केन्द्र सरकार के बजट से तीन गुणी धनराशि) की संपत्ति रक्षा करने, शुद्ध पीने का पानी मुहैया कराने, किसान भाईयों की जमीन को 100% जलसिंचन की सुविधा देने, कृषि को बाढ़ एवं सुखाड़ मुक्त करने, देश के लिए 10 पैसे यूनिट बिजली उत्पादन करने, विश्व को ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण एवं पर्यावरण समस्या से मुक्ति दिलाने के लिए 135 करोड़ भारतीयों के लिए  सर्वकालिन महानतम वैज्ञानिक श्रीमान श्याम सुन्दर राठी ने भारत सरकार को प्रोजेक्ट (प्लान) प्रदान किया है। यह प्रोजेक्ट उन्होंने  केंद्रीय जल शक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत को सौंपा। इस पर्यावरण रक्षा के लिए प्रोजेक्ट प्लान को तैयार करने के लिए 3 वर्षों का समय लगा और इसके पीछे 30 सालों के शोध का अनुभव, सताधिक परीक्षण के परिणाम, विज्ञान के सिद्धांत और  विभिन्न प्रकार के डेटा हैं। प्रकल्प प्रस्ताव के इस अनमोल डॉक्यूमेंट का मूल्य देश के लिए खरबों खरब रुपए है। सरकार इस प्रोजेक्ट प्रस्ताव को अमली जामा पहना कर 3 से 5 वर्षों की अवधि में प्रतिवर्ष 40 लाख नागरिकों के जीवन की रक्षा कर, 4 से 5 करोड़ घरों को बाढ़ में डूबने से बचा कर और देश की 50 लाख करोड़ की संपत्ति की रक्षा कर नागरिकों के जान माल की रक्षा के संवैधानिक उत्तरदायित्व का निर्वाह कर पाएगी। मौजूदा हालात में जिन सफलता को अर्जन करने के लिए हमें कई सदियाँ लग जाती वही सफलता इस प्रोजेक्ट प्लान से 5 वर्ष की छोटी सी अवधि मे प्राप्त हो जाएगी। इससे देश के आर्थिक विकास का रथ वार्षिक 20% की तेज गति से दौड़ने लगेगा और देश की गरीबी तथा बेरोजगारी खत्म हो जाएगी। यह मानव जाति के लिए विज्ञान की सबसे बड़ी सफलता है। ज्ञात हो कि सर्वकालीन महानतम वैज्ञानिक श्री राठी के 30 सालों की महाशोध से मिलने वाले ज्ञान रुपी अमृत का प्रसाद मानव जाति के लिए ग्लोबल वार्मिंग, प्रदूषण, पर्यावरण, जल समस्या, बाढ़ सुखाड़ मुक्त स्वर्ग के समकक्ष पृथ्वी का परिवेश हैं। यह 135 करोड़ भारतीयों के लिए गर्व का विषय है और राठी जी की महा शोध ने देश की यश कीर्ति में चार चांद लगा दिए हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: