मधुबनी : जिला कांग्रेस ने बंग्लादेश मुक्ति संग्राम स्वर्ण जयंती समारोह मनाया - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 11 सितंबर 2021

मधुबनी : जिला कांग्रेस ने बंग्लादेश मुक्ति संग्राम स्वर्ण जयंती समारोह मनाया

madhubani-congress-celebrate-mukti-sangram-jayanti
मधुबनी : आज दिनांक 11 सितम्बर  को जिला कांग्रेस कमिटी मधुबनी द्वरा जिलाध्यक्ष प्रो शीतलाम्बर झा के अध्यक्षता में मनोज कुमार मिश्र के संचालन में बंग्लादेश मुक्ति संग्राम 1971 स्वर्ण जयंती समारोह विजय दिवस के रूप में मनाया,इस अवसर पर बंग्लादेश निर्माण युध्द में भाग लेने बालों जिला के जाँबाज दर्जनों सैनिकों को मिथिला के परम्परा अनुसार पाग,चादर,माला से अभिनंदन एवं स्वागत किया गया,इस कार्यक्रम के मुख्यातिथि के रूप में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के बरिष्ट नेता,पूर्व केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री डॉ शकील अहमद थे,विशिष्ट अतिथि के रूप में साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित उदय चन्द्र झा बिनोद, विद्वान प्राध्यापक एवं टाइम्स ऑफ इंडिया के बरिष्ट संवाददाता डॉ चन्द्र शेखर झा आजाद,थे । सभी सम्मानित सैनिकों 1 चन्द्र मोहन झा,2 योगी पासवान,3 योगेंद्र झा,4 नबो नारायण झा,रामाशीष पांडेय,6 गंगाधर ठाकुर,7 भूप नारायण सिंह,मो हारुण, मो मूसा,10, दशरथ झा को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर एक बृहत संगोष्ठी का भी आयोजन किया गया जिसका विषय था बंग्लादेश मुक्ति संग्राम आ इंदिरा गांधी जी का योगदान पर परिचर्चा हुई। कार्यक्रम को संवोधित करते हुए डॉ शकील अहमद ने कहा देश के पूर्व प्रधानमंत्री, लौह महिला श्री मति इंदिरा गांधी के नेतृत्व में 1971 में पाकिस्तान बर्बरता के खिलाफ युध्द में दो टुकड़ा हुआ ,भारत हमेशा से शांति के पक्षधर रही है लेकिन तत्कालीन पाकिस्तानी सरकार ने मानवता को कलंकित कर दिया था घोर अत्याचार करने लगा था तब इंदिरा गांधी जी ने दुनिया के देशों को पाकिस्तानी निरंकुशता की जानकारी दिया,लेकिन तत्कालीन अमेरिकी हुकूमत एवं अन्य राष्ट ने कोई कार्रवाई नही की और बंग्लादेश से करीब डेढ़ करोड़ लोग भारत मे आकर शरण ले ली तब जाकर मानवता के रक्षा के लिए इंदिरा गांधी ने बंग्लादेश मुक्ति संग्राम में हस्तझेप किया और सैनिकों को आदेश दिया हमारे सैनिकों के पराक्रम से पाकिस्तान  दो टुकड़ों में हो गया,यह लड़ाई भाषाई के आधार पर हुआ दिनों तरफ मुसलमान ही थे एक बंगाला बोलने बाले मुसलमान और उर्दू बोलने बाले मुसलमान थे इस लड़ाई में लगभग दस लाख लोगों ने अपनी जान गवाई, इसी लड़ाई से दुनिया ने भारत की पराक्रम को देखा जो अमेरिका के विरोध के बाबजूद इंदिरा गांधी ने अदम्य साहस का परिचय देते हुए नई इतिहास लिख दिया। कार्यक्रम को संवोधित करते हुए उदय चन्द्र झा विनोद ने कहा पाकिस्तान ने भारत पर आक्रमण कर युध्द थोप दिया जिसका परिणाम बंग्लादेश का निर्माण हुआ आज वह बंग्लादेश भारत और पाकिस्तान से भी 2014 के बाद से प्रतिब्यक्ति औसत रूप से हमेशा से आमदनी में आगे निकल गया ,यह देश के लोगों को समझना चाहिए,

कार्यक्रम को डॉ चन्द्र शेखर झा आजाद ने कहा इन्दिरा गांधी के कुशल नेतृत्व में पाकिस्तानी सैनिकों के अत्याचार के खिलाफ दुनिया के देशों को एकजुट करने का प्रयास हुआ लेकिन पाकिस्तानी हुक्मरानों ने अत्याचार बन्द नही किया बल्कि भरात पर युध्द कर दिया परिणाम आज दुनिया के लोग देख रहे है कि बंग्लादेश के रूप में हुआ। सभी आगत अतिथि को भी जिला कांग्रेस के पादधिकारियों ने पाग,चादर एवं माला से सम्मानित किया। कार्यक्रम में शुभेष चन्द्र झा,ज्योतिरामन झा बाबा, ज्योति झा,अमानुल्लाह खान,मो शब्बीर,कौशल किशोर चौधरी,सुरेश चंद्र झा,नबेन्द्र झा,मो आकिल अंजुम,मायानंद झा,शिबनाथ ठाकुर,शिबचन्द्र झा,लालू यादव,पवन कुमार यादव,रामचन्द्र साह,मो हासिम, अखिलेश्वर झा अमन,ललन कुमार झा,सुल्तान अहमद शमसी,मो रेहान,बिनोद झा,मीणा देवी कुशवाहा, दीपक कुमार सिंह,शमसुल हक,नलनी रंजन झा,के सी पाठक, मुकेश कुमार झा,अनुरंजन सिंह,नित्यानंद झा,नबल किशोर झा,मो शकील अख्तर,बबिता चौरसिया,सुनील पासवान, जय कुमार झा,महेश चौधरी,मुरलीधर झा,कालिश चन्द्र झा कन्हैया, धनुख लाल महतो,सुजीत यादव,बिनय कुमार झा,मो साबिर,सुनील कुमार झा,मो चांद,फिरन पासवान, रामुदगार ठाकुर,संजय झा,दिलीप झा,मो इमरान, राज कुमार मंडल,सुभाष कुमार झा ननकू,सुरेन्द्र महतो,मो रहमतुल्लाह, आदि सैकड़ों कार्यकर्ता उपस्थित थे।

कोई टिप्पणी नहीं: