बिहार : वायरल बीमारियाें से बचाव में भी उपयोगी है - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 15 सितंबर 2021

बिहार : वायरल बीमारियाें से बचाव में भी उपयोगी है

mask-save in-all-viral-issue
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक हुई.मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने निर्देश दिये कि सभी लाेग मास्क का प्रयोग जरुर करें.यह काेरोना संक्रमण से बचाव के साथ-साथ अन्य वायरल बीमारियाें से बचाव में भी उपयोगी है. मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में आज 1 अणे मार्ग  स्थित संकल्प में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक हुई.मुख्यमंत्री ने काेराेना जांच, टीकाकरण एवं बच्चाें में फैल रहे वायरल बुखार से बचाव काे लेकर अधिकारियों काे आवश्यक  दिशा-निर्देश दिये. स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री प्रत्यय अमृत ने  प्रस्तुतीकरण के माध्यम से बच्चों में वायरल बुखार से बचाव काे लेकर उठाये जा रहे कदमाें की जानकारी दी.साथ ही  काेराेना संक्रमण की अद्यतन स्थिति, काेराेना जांच एवं वैक्सीनेशन के संबंध में विस्तृत जानकारी दी.उन्हाेंने मेडिकल कॉलेज अस्पतालाें एवं जिला अस्पतालों में वायरल बुखार से पीड़ित बच्चाें एवं उनके उपचार के संबंध में जानकारी दी. उन्हाेंने बताया कि सभी अस्पतालों में दवा की उपलब्धता पर्याप्त है.वायरल बुखार काे लेकर विभाग पूरी तरह से एक्टिव है. उसकी सघन मॉनिटरिंग की जा रही है.वायरल बुखार काे लेकर लाेगों  काे घबराने की जरुरत नहीं है. श्री प्रत्यय अमृत ने बताया कि काेविड वैक्सीनेशन का काम शहरी क्षेत्राें में लगभग शत-प्रतिशत पूर्ण हाे गया है.अगर काेई बचे हुये हैं ताे उनका टीकाकरण भी जल्द  से जल्द करा लिया जायेगा.ग्रामीण क्षेत्राें में भी टीकाकरण कार्य तेजी  से चल रहा है. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि शहरी क्षेत्रों में जिनका टीकाकरण बचा हुआ है, उनका जल्द से जल्द टीकाकरण करायें. ग्रामीण क्षेत्रों में भी विशेष अभियान चलाकर टीकाकरण का कार्य तेजी से पूर्ण करें. उन्हाेंने कहा कि खासकर मुंबई, केरल और तमिलनाडू से आने वाले लाेगाें की काेरोना जांच अवश्य करायें. रेलवे स्टेशन एवं बस स्टैंड पर बाहर से आने वालाें पर विशेष नजर रखें. इन जगहाें पर काेराेना जांच की व्यवस्था रखें. टीकाकरण  काेराेना से बचाव का कारगर उपाय है. इसके साथ ही काेराेना की जांच भी उतना ही महत्वपूर्ण है.काेराेना जांच की संख्या और बढ़ायें.इसे प्रतिदिन दाे लाख तक ले जाये.लाेग मास्क का प्रयोग जरुर करें.यह काेराेना संक्रमण से बचाव के साथ-साथ अन्य वायरल बीमारियों से बचाव में भी उपयोगी है.माइकिंग के  माध्यम से प्रचार-प्रसार कर लोगाें काे सचेत एवं जागरुक करते रहें. मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों में वायरल बुखार काे लेकर अलर्ट  और एक्टिव रहे.वायरल बुखार के लक्षणाें पर भी नजर बनाये रखें.बच्चाें के इलाज में किसी प्रकार की काेताही नहीं हाे.अस्पतालों में दवा की पर्याप्त उपलब्धता रखें.उन्हाेंने कहा कि वायरल बुखार काे लेकर विभाग द्वारा उठाये जा रहे कदमाें के संबंध में मीडिया के माध्यम से लोगाें काे जानकारी दें. बैठक में स्वास्थ्य मंत्री श्री मंगल पांडे, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री दीपक कुमार,स्वास्थ्य विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री प्रत्यय अमृत , मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री चंचल कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव श्री अनुपम कुमार, बी0एम0एस0आई0सी0एल0 के प्रबंध निदेशक श्री प्रदीप कुमार झा, राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक श्री संजय कुमार सिंह, अपर सचिव स्वास्थ्य श्री काैशल किशाेर एवं मुख्यमंत्री के विशेष कार्य पदाधिकारी श्री गाेपाल सिंह उपस्थित रहे.

कोई टिप्पणी नहीं: