बिहार : किसानों का जत्था किसान आंदोलन में शामिल होने रवाना - Live Aaryaavart (लाईव आर्यावर्त)

Breaking

विजयी विश्व तिरंगा प्यारा , झंडा ऊँचा रहे हमारा। देश की आज़ादी के 75 वर्ष पूरे होने पर सभी देशवासियों को अनेकानेक शुभकामनाएं व बधाई। 'लाइव आर्यावर्त' परिवार आज़ादी के उन तमाम वीर शहीदों और सेनानियों को कृतज्ञता पूर्ण श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए नमन करता है। आइए , मिल कर एक समृद्ध भारत के निर्माण में अपनी भूमिका निभाएं। भारत माता की जय। जय हिन्द।

बुधवार, 8 सितंबर 2021

बिहार : किसानों का जत्था किसान आंदोलन में शामिल होने रवाना

farmer-from-bihar-depart-to-delhi
पटना,  अखिल भारतीय किसान महासभा की ओर से  9 महीने से दिल्ली बोर्डर पर चल रहे  किसानों के धरना में शामिल होने के लिए पटना जंक्शन से एक जत्था रवाना.  जत्था का रवाना अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव राजाराम सिंह ने किया.  दिल्ली में विभिन्न बोर्डर पर चल रहे धरना व किसान आन्दोलन को मजबूत व गति देने के लिए अखिल भारतीय किसान महासभा की ओर से  बिहार के विभिन्न जिलों से सितम्बर से 15 दिन के लिए लगातार किसानों का जत्था  जायेगा. आज 6 अगस्त पटना जिला से अखिल भारतीय किसान महासभा के राज्य सह सचिव वा पटना जिला के सचिव कृपा नारायण सिंह के नेतृत्व में मधेश्वर शर्मा, राम जनम यादव, निरंजन वर्मा, राज कुमार शर्मा, लालसा देवी, मुन्ना प्रसाद, राम विनोद यादव, सुरेन्द्र प्रसाद यादव, वर्मा देवी सहित दर्जनों किसान बिक्रम शीला एक्सप्रेस से रवाना हुए. किसान जत्था का रवाना पटना जंक्शन पर अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय महासचिव राजाराम सिंह ने हरि क्षंडी  दिखाकर विदा किया. पटना जंक्शन पर जत्था में  शामिल किसानों को महासचिव राजाराम सिंह के अलावे राष्ट्रीय उपाध्यक्ष कृष्ण देव यादव, प्रांतीय अध्यक्ष विशेश्वर यादव, राज्य सचिव रामाधार सिंह, राज्य सह सचिव व विधायक अरुण सिंह व महा नन्द सिंह कुशवाहा, राज्य सह सचिव क्रमशः उमेश सिंह व राजेन्द्र पटेल, राज्य परिषद सदस्य संजय यादव  ने फुलमाला पहनाकर विदा किया. महासचिव राजाराम सिंह ने विदा करते हुए कहा कि किसान आन्दोलन का आज  9 महीना से उपर हो गया है. छः सौ से उपर किसानों ने  शहादत दी है. हर कठनाईयों व सरकार की साजिश का मुकाबला करते हुए दिल्ली  बोर्डर पर किसान  डटे हुए हैं. आगे उन्होंने कहा कि जबतक किसान विरोधी तीनों काले कानून वापस नहीं होगा, और  एस एस पी का कानूनी दर्जा नहीं मिलेगा, किसान आन्दोलन जारी रहेगा. उन्होंने 5 सितम्बर को मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश में किसानों का ऐतिहासिक महापंचायत की सफलता के लिए  किसानों को बधाई दी.       विदा करते समय नारे लगे कि 27 सितम्बर को भारत बंद रहेगा, किसान विरोधी तीनों कानून वापस लेना होगा, एम एस पी का कानूनी दर्जा देना होगा, बिजली बिल, 2020 रद्द करो, आदि नारे लग रहे थे.             

कोई टिप्पणी नहीं: