गोल्ड मैडेल जितने वाले हाजीपुर के प्रमोद भगत के रैकेट का हो रहा है ई-ऑक्शन - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

बुधवार, 29 सितंबर 2021

गोल्ड मैडेल जितने वाले हाजीपुर के प्रमोद भगत के रैकेट का हो रहा है ई-ऑक्शन

  • पीएम मेमेंटोज की सूची में शामिल प्रमोद भगत के रैकेट का बेस प्राइज़ 80 लाख रूपए
  • प्रतियोगिता जीतने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को किया था भेंट

pramod-bhagat-racket-goes-auction
पटना, गंगा केवल एक नदी नहीं है वह सदियों से इस देश के लिये जीवनदायनी रही है। इसके तटों पर सभ्यताएं विकसित हुईं और इंसानियत का सफर आगे बढ़ा। आज इसे काल के क्रूर थपेड़ों से बचाने और इसके प्रवाह को गति देने के लिए चौतरफा प्रयास हो रहे हैं और इन प्रयासों की नयी बुनियाद डाली है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सरकारी स्तर पर तो इस काम में उनके नेतृत्व का लाभ मिल ही रहा है । लेकिन वे व्यक्तिगत स्तर पर एक पुत्र बनकर मां गंगा की सेवा में जुटे हैं। प्रधानमंत्री को जो  भी उपहार मिलते हैं उनका ई-ऑक्शन वे इसलिये करवा रहे हैं कि उससे मिली राशि नमामि गंगे परियोजना में खर्च की जाए। प्रधानमंत्री के इस प्रयास का देश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों ने भी भरपूर समर्थन किया है। टोक्यों ओलंपिक 2020 और टोक्यो पैरालंपिक 2020 के अनेक विजेताओं ने प्रधानमंत्री को अपने खेल उपकरण उपहार में दिए। यह सामान अब उन देशवासियों के लिए उपलब्ध है जो खेल जगत में भारत की उपलब्धियों से खुद को जोड़ कर रखना चाहते हैं। उपलब्धियां भी ऐसी कि दांतों तले उंगलियां दबाने पर मजबूर कर दें। बैडमिंटन खिलाड़ी प्रमोद भगत को ही ले लीजिए। बिहार के हाजीपुर में जन्मे प्रमोद भगत को पांच साल की उम्र में ही पैर में पोलियो हो गया था, जिसके इलाज के लिए उनकी बुआ उन्हें अपने साथ ओडिशा लेकर चली गईं लेकिन प्रमोद ठीक नहीं हो पाए। दूसरे बच्चों को खेलता देख मन में खेलने की बेचैनी ने उनके हाथ में बैडमिंटन रैकेट थमा दिया। फिर वे भूल गये कि उनकी शारारिक सीमाएं क्या हैं। वे खेलते गए और जीतते गए। कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय रिकार्ड अपने नाम दर्ज कर चुके प्रमोद विश्व चैंपियनशिप में चार गोल्ड मैडल जीत चुके हैं। यही कारनामा टोक्यों पैरलिंपिक में दोहरा कर उन्होंने गोल्ड मैडेल जीता। देश के गौरव की पताका प्रमोद ने दुनिया में बार बार लहरायी है। उन्होंने अपना वह रैकेट जिससे प्रतियोगिता जीती, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट कर दिया।  वही रैकेट पीएम मेमेंटोज की उस सूची में शामिल है जिनका ई-ऑक्शन किया जा रहा है। यह ई-ऑक्शन  17 सितम्बर से 7 अक्टूबर तक चलेगा । प्रमोद भगत के रैकेट का बेस प्राइज़ 80 लाख रूपए तय किया गया है। इस ई-ऑकशन मे हिस्सा लेने के लिए www.pmmementos.gov.in पर लॉग ऑन कीजिए और देश के गौरव से जुड़े बैडमिंटन रैकेट को हासिल कर मां गंगा की सेवा में हिस्सा लें क्योंकि आपसे मिली राशि नमामि गंगे परियोजना में शामिल की जाएगी।

कोई टिप्पणी नहीं: