‘ रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन ‘ चलाने का एलान - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शनिवार, 11 सितंबर 2021

‘ रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन ‘ चलाने का एलान

ramayan-circuit-train-will-start
नई दिल्ली : राम भक्तों के लिए आईआरसीटीसी एक बड़ी खुशखबरी लेकर आया है। आईआरसीटीसी धार्मिक पर्यटक को बढ़ावा देने के लिए आगामी 7 नवंबर से ‘ रामायण सर्किट स्पेशल ट्रेन ‘ चलाने का एलान किया है। इस ट्रेन के जरिए भगवान राम से जुड़े सभी धार्मिक स्थलों का दर्शन करवाया जाएगा। इस ट्रेन के जरिए 7500 किलोमीटर की यात्रा 17 दिन में पूरी की जाएगी। आईआरसीटीसी के तरफ से दी गई सूचना के अनुसार विशेष पर्यटक ट्रेन दिल्ली के सफदरगंज रेलवे स्टेशन से प्रारंभ होगी। इसके माध्यम से पर्यटकों को प्रभु श्रीराम से जुड़े सभी महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों का भ्रमण व दर्शन कराया जाएगा। जानकारी हो कि पूर्व में भी यह यात्रा आयोजित की गई थी जिसमें केवल स्लीपर श्रेणी से ही यात्रा सुविधा उपलब्ध थी। अब पहली बार आधुनिक साज सज्जा के साथ तैयार यह ट्रेन वातानुकूलित होगा।


आईआरसीटीसी के मुताबिक, इस ट्रेन का पहला पड़ाव प्रभु श्री राम का जन्म स्थान अयोध्या होगा जहां श्री राम जन्मभूमि मंदिर श्री हनुमान मंदिर व नंदीग्राम में भरत मंदिर का दर्शन कराया जाएगा। अयोध्या से रवाना होकर यह ट्रेन सीतामढ़ी जाएगी जहां जानकी जन्म स्थान वह नेपाल के जनकपुर स्थित राम जानकी मंदिर का दर्शन होंगे। इस ट्रेन का अगला पड़ाव भगवान शिव की नगरी काशी होगा जहां से पर्यटक बसों द्वारा काशी के प्रसिद्ध मंदिरों सहित सीता समाहित स्थल, प्रयाग, श्रृंगवेरपुर, व चित्रकूट की यात्रा करेंगे। इस दौरान काशी प्रयाग व चित्रकूट में रात्रि विश्राम होगा। फिर यह ट्रेन चित्रकूट से चलकर नासिक पहुंचेगी। जहां पंचवटी व त्रयंबकेश्वर मंदिर का भ्रमण किया जा सकेगा। नासिक के पश्चात प्राचीन किष्किंधा नगरी हंपी इस ट्रेन का अगला पड़ाव होगा जहां अंजनी पर्वत स्थित श्री हनुमान जन्म स्थल व अन्य महत्वपूर्ण धार्मिक व विरासत मंदिरों का दर्शन कराया जाएगा। इस ट्रेन का अंतिम पड़ाव रामेश्वरम होगा। रामेश्वरम में पर्यटकों को प्राचीन शिव मंदिर व धनुषकोडी का दर्शन लाभ प्राप्त होगा। रामेश्वरम से चलकर यह ट्रेन 17वें दिन दिल्ली वापस पहुंचेगी।


आईआरसीटीसी के मुताबिक, एसी प्रथम श्रेणी की यात्रा के लिए रु 1,02,095/- प्रति व्यक्ति एवं एसी द्वितीय श्रेणी की यात्रा के लिए रु 82,950/- प्रति व्यक्ति का शुल्क निर्धारित किया है। टिकट बुक कराने के लिए irctctourism.com पर जाना होगा। इस ट्रेन में वही लोग यात्रा कर सकते हैं, जिन्हें कोविड वैक्सीन की दोनों डोज लगी होगी। इस टूर पैकेज की कीमत में यात्रियों को रेल यात्रा के अतिरिक्त स्वादिष्ट शाकाहारी भोजन, वातानुकूलित बसों द्वारा पर्यटक स्थलों का भ्रमण, एसी होटलों में ठहरने की व्यवस्था, गाइड व इंश्योरेंस आदि कि सुविधाएं भी उपलब्ध कराई जाएंगी। सरकार/पीएसयू के कर्मचारी इस यात्रा पर वित्त मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के आधार पर पात्रता के अनुसार एलटीसी सुविधा का लाभ भी उठा सकते हैं। बुकिंग की सुविधा आधिकारिक वेबसाइट पर, पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर उपलब्ध है। अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस इस पूर्णतया वातानुकूलित पर्यटक ट्रेन में यात्री कोच के अतिरिक्त दो रेल डाइनिंग रेस्तरां एक आधुनिक किचन कार व यात्रियों के लिए फुट मसाजर, मिनी लाइब्रेरी, आधुनिक एवं स्वच्छ शौचालय और शॉवर क्यूबिकल आदि की सुविधा भी उपलब्ध होगी। साथ ही सुरक्षा के लिए सुरक्षा गार्ड, इलेक्ट्रॉनिक लॉकर एवं सीसीटीवी कैमरे भी प्रत्येक कोच में उपलब्ध रहेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: