ईशमधु तलवार का जाना साहित्य जगत की अपूरणीय क्षति : अशोक महेश्वरी - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 17 सितंबर 2021

ईशमधु तलवार का जाना साहित्य जगत की अपूरणीय क्षति : अशोक महेश्वरी

  • · बतौर पत्रकार भी अपनी अलग पहचान रखते थे ईशमधु तलवार
  • · जयपुर समांतर साहित्य उत्सव के संयोजक के रूप में निभाई अहम भूमिका

tribute-ish-madhu-talwar
नई दिल्ली/जयपुर : वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार ईशमधु तलवार के निधन पर राजकमल प्रकाशन समूह के प्रबंध निदेशक अशोक महेश्वरी ने गहरा शोक जताया है. उन्होंने कहा कि ईशमधु तलवार  का जाना साहित्य और पत्रकारिता जगत के लिए अपूरणीय क्षति है. अशोक महेश्वरी ने कहा, ईशमधु तलवार एक पत्रकार और कथाकार के रूप में अपनी अलग पहचान रखते थे. उनके लिए सृजन जीवन का अपरिहार्य पहलू था. इन दोनों में वे कोई भेद नहीं देखते थे. ऐसे रचनाकार का नहीं रहना सिर्फ  साहित्य जगत के लिए नहीं बल्कि पूरे समाज के लिए अत्यंत दुखद है. दुख की इस घड़ी में मैं उनके परिवार, पाठकों और प्रशंसकों के प्रति हार्दिक संवेदना प्रकट करता हूँ. उन्होंने कहा, ईशमधु तलवार राजकमल प्रकाशन के प्रतिष्ठित लेखक थे. फिल्म जगत के बिसरा दिए गए संगीतकार दान सिंह पर लिखी उनकी किताब 'वो तेरे प्यार का ग़म' और देश-विभाजन के दर्द को अलहदा अंदाज में प्रस्तुत करने वाला उनका उपन्यास ' रिनाला खुर्द' राजकमल से ही प्रकाशित है. अशोक महेश्वरी ने कहा कि ईशमधु तलवार एक प्रखर पत्रकार और कुशल संगठनकर्ता भी थे. राजस्थान प्रगतिशील लेखक संघ के महासचिव, समांतर साहित्य उत्सव के संयोजक तथा पिंक सिटी प्रेस क्लब और राजस्थान श्रमजीवी पत्रकार संघ के अध्यक्ष के रूप में उन्होंने उल्लेखनीय काम किया. उनकी रचनाओं की तरह उनका यह योगदान भी हमेशा लोगों को प्रेरणा देगा. गौरतलब है कि ईशमधु तलवार का गुरुवार देर रात जयपुर (राजस्थान) में निधन हो गया. जयपुर के मानसरोवर स्थित अपने घर पर अचानक उनकी तबीयत बिगड़ी जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया. इलाज के दौरान ही उन्होंने अंतिम सांस ली.

कोई टिप्पणी नहीं: