बिहार : उपचुनाव के बाद नीतीश करवाएंगे जातीय जनगणना - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2021

बिहार : उपचुनाव के बाद नीतीश करवाएंगे जातीय जनगणना

after-bypoll-cast-cencess-nitish
पटना : जातीय जनगणना को लेकर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर से अपनी राय स्पष्ट कर दी है। नीतीश कुमार ने कहा है कि जातीय जनगणना कराए जाने को लेकर बिहार में सर्वसम्मति है। दरअसल, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा प्रत्येक सप्ताह के सोमवार को जनता दरबार लगाया जाता है इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पूरे बिहार से आए जनता लोगों की फरियाद को सुनते हैं और उसका त्वरित निपटारा करते हैं। इसी दौरान अपने इस कार्यक्रम के बाद बाहर आए नीतीश कुमार ने जातीय जनगणना को लेकर अपनी राय स्पष्ट की। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी राजनीतिक दल चाहते हैं कि राज्य में जातीय जनगणना कराई जाए। हमने केंद्र सरकार से भी इस मसले पर मांग रखी थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट में जो हलफनामा दिया गया, उसके बाद नए सिरे से बिहार में सभी दलों के साथ इस पर बातचीत की आवश्यकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में फिलहाल 2 सीटों पर विधानसभा चुनाव हो रहे हैं, इसलिए यह मसला थोड़े दिनों के लिए एक टल गया है। उन्होंने कहा कि उन्हें भरोसा है कि जातीय जनगणना को लेकर आम राय बन जाएगी। उन्होंने कहा कि वह हर हाल में जातीय जनगणना करवाएंगे। नीतीश कुमार का कहना है कि अभी थोड़ा इंतजार करने का समय है क्योंकि वर्तमान में उपचुनाव होने वाला है , इस चुनाव के बाद मिल बैठकर फैसला कर लेंगे। नीतीश कुमार ने कहा कि वह चाहते हैं कि सम्पूर्ण देश में जातीय जनगणना हो इसलिए पीएम मोदी से विधानसभा के शिष्टमंडल ने मुलाकात की थी। केंद्र सरकार ने भरोसा भी दिया था लेकिन अब जो जानकारी सामने आई है उसके बाद हम नए सिरे से इस पर चर्चा कर आगे की रणनीति तय करेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं: