मधुबनी : दुर्गा पूजा समितियों को जिलाधिकारी ने दिए कड़े निर्देश - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2021

मधुबनी : दुर्गा पूजा समितियों को जिलाधिकारी ने दिए कड़े निर्देश

madhubani-dm-order-for-durga-puja
मधुबनी : आज दिनांक 2 अक्टूबर 2021 को श्री अमित कुमार, भा o प्र o से o, जिला पदाधिकारी, मधुबनी की अध्यक्षता में आगामी दुर्गा पूजा एवं त्योहारों को लेकर जिला स्तरीय शांति समिति की बैठक हुई। उन्होंने जिले भर से आए सभी प्रमुख पूजा समितियों के प्रतिनिधियों से सरकार के दिशानिर्देश को लेकर चर्चा की। जिलाधिकारी कोविड को लेकर खासे गंभीर दिखे। उन्होंने कहा कि पिछले दो लहरों के दौरान हम सभी ने कोरोना के गंभीर परिणाम देखे हैं, ऐसे में हम अपनी सुरक्षा को लेकर लापरवाह कैसे हो सकते हैं। सरकार द्वारा पूर्व से चली आ रहे प्रतिबंधों में बड़ी ढील दी गई है, इसका तात्पर्य यह नहीं है कि हम अपनी सावधानी छोड़ दें। अतः हम सभी को सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जनहित में जिला प्रशासन मधुबनी द्वारा कुछ निर्देश दिए जा रहे हैं। जिनका पालन करना सभी पूजा समितियों द्वारा बाध्यकारी होगा।  उन्होंने कहा कि प्रशासन पूजा पंडालों का आकार तय नहीं कर रहा परंतु सभी समितियों से अपेक्षा है कि वे पंडालों का आकार सीमित रखेंगे।  पूजा समितियों के आयोजकों को यह सुनिश्चित करना होगा कि उन्होंने कोरोना की कम से कम पहली डोज ले ली है। समितियों द्वारा सभी वालंटियर्स को फोटो युक्त पहचान पत्र जारी करने को कहा गया है। जिनके ऊपर श्रद्धालुओं से कोरोना प्रोटोकॉल पालन करवाने की जिम्मेवारी होगी। पूजा पंडालों में बिना मास्क के प्रवेश पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। इतना ही नहीं सभी आगंतुकों को मोबाइल मैसेज अथवा प्रिंट आउट के माध्यम से यह साबित करना होगा कि उन्होंने कोरोना वैक्सीन लगवा लिया है।  सभी पूजा पंडालों में सीसीटीवी कैमरे लगाने के निर्देश दिए गए हैं। किसी भी समिति द्वारा मेला या सांस्कृतिक कार्यक्रमों को आयोजित करने पर प्रतिबंध रहेगा। विसर्जन के दौरान केवल 20 लोगों को शामिल होने की अनुमति रहेगी। साथ ही डीजे बजाने पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। पटाखों का प्रयोग पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। जिलाधिकारी महोदय द्वारा विसर्जन जुलूस पर लाइसेंस की अनिवार्यता को स्पष्ट किया गया। साथ ही अनुरोध किया गया कि विसर्जन के समय पूजा, चढ़ावा पर रोक लगाई जाए, भक्तो को इसके लिए सहमत कर लिया जाए कि पूजा इत्यादि विसर्जन के समय नही हो, विसर्जन पूर्व पंडाल में ही सुरक्षात्मक रूप से की जाए। यथा संभव ई दर्शन या लाइव प्रसारण को प्रोत्साहित किया जाय। अपने वक्तव्य में जिलाधिकारी महोदय द्वारा उपस्थित लोगों को दुर्गा पूजा की शुभकामनाएं भी दी गईं और साथ में अपील भी की गई कि सभी समितियां सुरक्षा को प्राथमिकता दें। पंचायत चुनाव का समय भी है और त्योहारों के दौरान बड़ी संख्या में लोग दूसरे राज्यों से अपने घरों को आते हैं, ऐसे में कोरोना काल को दृष्टिगत रखते हुए अतिरिक्त सावधानी से लोगों की रक्षा की जा सकती है । अगले वर्ष यदि सबकुछ सामान्य रहा तो पुनः पहले की भांति सभी आयोजन किए जा सकते हैं।

कोई टिप्पणी नहीं: