बिहार : केवल अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय के मतदान से जीता नहीं जा सकता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

शुक्रवार, 1 अक्तूबर 2021

बिहार : केवल अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय के मतदान से जीता नहीं जा सकता

  • यह तो होना ही है.चुनाव के समय में मताधिकार करने नहीं जाते

bihar-panchayat-election-and-minority
पटना. आजकल अल्पसंख्यक ईसाई समुदाय के लोग राजनीतिक में जा रहे हैं.राजनीतिक में ही भविष्य देख रहे हैं.ऐसे लोग आरंभ में राजनीतिक पार्टी में जाकर पैर जमाते हैं.विभिन्न पदों पर रहकर जन कल्याण व विकास का कार्य करते है.सभी तबकों के लोगों से संबंध प्रगाढ़ करते हैं ताकि मौका आने पर काम आ सके. इससे हटकर कुछ लोग राजनीति की क,ख,ग जाने और आधार बनाएं बिना ही चुनाव मैदान में कूद पड़ते हैं.ऐसे लोग जिंदगी भर बहुसंख्यकों व समाज से कन्नी कटाकर रहते हैं.ऐसे लोग चुनावी मैदान में उतरने के बाद ही केवल बहुसंख्यकों व समाज से उम्मीद करने लगते हैं. बहुसंख्यकों व समाज फेवर करें और मत देकर विजयी बनाएं.यह कदापि नहीं हो सकता है यानी असंभव. यह सर्वविदित है और सभी लोग जानने भी हैं.राजनीति आदर्शवान और चरित्रवान लोगों के लिए नहीं रहा.इस समय राजनीति में जिनके पास है तीन ' M' मसल पावर,मैन पावर और मनी पावर.वह ही मैदान मार पाएगा.  पटना नगर निगम के चुनाव में 2017 में अल्पसंख्यक ईसाई किस्मत अजमाने चुनाव मैदान में उतरे थे.सभी पराजित हुए.इस बार 2021 में पश्चिम चंपारण के चनपटिया प्रखंड के पंचायत समिति का चुनाव में अल्पसंख्यक ईसाई हार गयी है.उनका आरोप है बहुसंख्यक व सहधर्मी सहयोग नहीं दिये.

कोई टिप्पणी नहीं: