एनजीओ मीनाक्षी परिवार ने बांटी श्रीमद्भागवत गीता - Live Aaryaavart

Breaking

प्रबिसि नगर कीजै सब काजा I ह्रदय राखि कौसलपुर राजा II, हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी। सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी॥, मंगल भवन अमंगल हारी I द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी II, हरि अनंत हरि कथा अनंता I कहहि सुनहि बहुबिधि सब संता II, दीन दयाल बिरिदु संभारी । हरहु नाथ मम संकट भारी।I, माता पिता की सेवा करें....बुजुर्गों का ख्याल रखें...अपनी प्रतिभा और आचरण से देश का नाम रौशन करें...

मंगलवार, 5 अक्तूबर 2021

एनजीओ मीनाक्षी परिवार ने बांटी श्रीमद्भागवत गीता

distribute-geeta
नई दिल्ली। अब तक के देश और विदेश में लोकप्रिय और कर्मयोगी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 71 वे जन्म दिवस पर देश की जनता का स्नेह उनके प्रति देखने को मिल रहा है चाहे वह भाजपा का हो या आम आदमी या समाजसेवी उन्हें अपना प्रेरणा स्रोत मानकर लोग अपने अपने तरीके से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन मना रहे है। सात अक्टूबर तक सेवा समर्पण कार्यक्रम इस उपलक्ष्य में देशभर में चलाया जा रहा है।  इसी कड़ी में सेवा समर्पण अभियान के उपलक्ष में समाज सेवा को समर्पित अग्रणी गैर सरकारी संस्था मीनाक्षी परिवार ट्रस्ट ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिवस को खास तरह से बनाया ट्रष्ट की संस्थापिका ओर अध्यक्षा मीनाक्षी मल्होत्रा ने रानी बाग मंडल शकूरबस्ती विधान सभा मे जगह जगह छोटे छोटे प्रोग्राम कर लोगो मे नरेंद्र मोदी के विचारों को साझा कर उनके जैसे ही देश हित के कार्य करने के लिये लोगो को कहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के प्रति समर्पण की बात कर उन्हें युग पुरुष बताया साथ ही लोगो मे श्रीमद भगवत गीता  वितरित  की ओर उसमे  लिखी हुई बातों पर अमल कर उन्हें आपने जीवन मे उतारने की बात की उन्होंने कहाँ की जिस तरह गीता में कहाँ गया है कि कर्म को सरोवोपरि रखते हुये धर्म,राष्ट्र,सत्य की रक्षा हेतु कार्य करने के लिये भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है  ठीक उसी तरह से इस वक्त देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बच्चो को भी श्रीमद्भागवत गीता की प्रतियां वितरित की ताकि बच्चो में बचपन से ही गीता में लिखे हुए शब्द उन्हें स्मरण रहे और वह सही दिशा में आगे बड़कर राष्ट्र के लिये बाद चढ़ कर कार्य करे इस मौके पर  भाजपा  नेता तिलक राम गुप्ता ने भी मीनाक्षी मल्होत्रा के कार्यो की सराहना कर उनसे श्रीमद्भागवत गीता भेंट स्वरूप प्राप्त की।

कोई टिप्पणी नहीं: